स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 2 सितंबर 2015

doha

: दोहा सलिला :
इंदु गौर मन भा गया, अम्बर नीला खूब
मेघ दाह से श्याम हो, बरसा गम में डूब
*
उषा माधुरी देखकर, होता मुग्ध प्रभात
दिनकर दिन कर हँस दिया, अब न बनेगी बात
*
देख ताल भोपाल का, सिंह हो गया मनोज
संध्या निगले सूर्य को, अम्बर देता भोज
*
केशव के शव संग हुआ, द्वापर युग का अंत
पार्थ पराजित भील से, देखें काँप दिगंत
*
रहे न संपादक 'सलिल', वे विद्वान प्रवीण
जिनके यश का शशि हुआ, किंचित नहीं मलीन
*
जीत इन्द्रियाँ मन हुआ, जब से 'सलिल' जितेंद्र
वंदन करे नरेंद्र का, आकर आप सुरेन्द्र
*

2 टिप्‍पणियां:

GathaEditor Onlinegatha ने कहा…

publish ebook with onlinegatha, get 85% Huge royalty, send abstract free :Publish free ebooks

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर दोहे...