स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 26 सितंबर 2015

muktak

मुक्तक:
घाट पर ठहराव कहाँ? 
राह में भटकाव कहाँ?
चलते ही रहना है- 
चाह में अटकाव कहाँ?

कोई टिप्पणी नहीं: