स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 2 सितंबर 2015

roopmala chhand

रूपमाला छंद:
(१४-१४, पंक्त्यांत गुरु-लघु)
कृष्ण नंदन ने न पायी, यशोदा सी मात
गोपिकाएँ ग्वाल गोधन, ले गये सँग तात
*
गा रहा जस प्रीत का जग, बना बैरी खाप
सिंह जैसे गरज प्रेमी, देख काँपा आप
*