स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 1 अक्तूबर 2015

चित्र पर कविता:

चित्र पर कविता








*
हाथों में प्याला रखता हूँ

दिल हिम्मतवाला रखता हूँ.
*
हिंदी सा उजला तन लिखें

इंग्लिश-मन काला रखता हूँ.
*
माटी हो, माटी को घुरूँ

माटी में हाला रखता हूँ.
*
छप्पन इंची सीने के सँग

दिल-दिमाग आला रखता हूँ
*
अलगू-जुम्मन को फुसलाने

क्यों बोलूँ खाला रखता हूँ.
*
दिखे मंच पर सिर्फ सचाई

पीछे घोटाला रखता हूँ
*
नफरत की पैनी नोकों पर

'सलिल' स्नेह-छाला रखता हूँ
*
सत्ता की मधुशाला में भी

जनमत गौशाला रखता हूँ.
*** 

कोई टिप्पणी नहीं: