स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2015

Kavita :


एक रचना:                                      नेपाली अनुवाद :
संजीव वर्मा 'सलिल'                           विधि गुरुङ्ग 


*                                                    *
ओ मेरी नेपाली सखी!                        हे मेरो नेपाली संगी!
एक सच जान लो                              एउटा सत्य थाहा पाऊ
समय के साथ आती-जाती है               समय संग आउञ्छ जान्छ
धूप और छाँव                                   छाया र घाम
लेकिन हम नहीं छोड़ते हैं                    तर हामी छोर्दैनौ है
अपना घर या गाँव।                           आफ्नो घर र गाम
परिस्थितियाँ बदलती हैं,                     परिस्थिति बद्लि रहन्छ
दूरियाँ घटती-बढ़ती हैं                         दुरी घटी-बढ़ी रहन्छ
लेकिन दोस्त नहीं बदलते                    तर मित्रता बदलिन्दैन
दिलों के रिश्ते नहीं टूटते।                    मनको नाता तुतिन्दैन
मुँह फुलाकर रूठ जाने से                     मुख फुलाएर रिसाउने बितिकै
सदियों की सभ्यताएँ                           सदियौंको सभ्यता
समेत नहीं होतीं।                               बिलिन हुँदैन।
हम-तुम एक थे,                                हामी तिमि एक थियौं ,
एक हैं, एक रहेंगे।                              एक छौं एक रही रहनेछौ
अपना सुख-दुःख                               आफ्नो सुख-दुःख,
अपना चलना-गिरना                          हिंद्नु- लड्नु
संग-संग उठना-बढ़ना                         संग - संग उठ्नु - अघि बढनु
कल भी था,                                      हिजो पनि थियौं,
कल भी रहेगा।                                  आज पनि छौं भोलिनी रहनेछौं
आज की तल्खी                                 आजको कट्तुता
मन की कड़वाहट                               मनको कड़वाहट
बिन पानी के बदल की तरह                 पानी बिनको बादल सरी
न कल थी,                                       न हिजो थियो
न कल रहेगी।                                   न भोली रहन्छ
नेपाल भारत के ह्रदय में                       नेपाल भारतको मनमा
भारत नेपाल के मन में                        भारत नेपालको मनमा
था, है और रहेगा।                              सदा रहन्छ।
इतिहास हमारी मित्रता की                   इतिहांस ले हाम्रो मित्रता को
कहानियाँ कहता रहा है,                       कथा सुनाउंछ
कहता रहेगा।                                    सुनाई रहनेछ
आओ, हाथ में लेकर हाथ                     आऊ, हाथ मा लिएर हाथ
कदम बढ़ाएँ एक साथ                          पाइला चालऊं एक साथ
न झुकाया है, न झुकाएँ                       न निहुराएको थियौं, शिर न झुकाउने छौं
हमेशा ऊँचा रखें अपना माथ।               हमेसा उच्च थियो शिर उच्चनै राख्ने छौं
नेता आयेंगे-जायेंगे                             नेता आउँछ - जान्छ
संविधान बनेंगे-बदलेंगे                        संबिधान बन्छ बद्लिन्छ
लेकिन हम-तुम                                 तर तिमि-हामी,
कोटि-कोटि जनगण                            करोडौं जनता
न बिछुड़ेंगे, न लड़ेंगे                            न छुट छौं, न लड्छौं
दूध और पानी की तरह                        दूध र पानी जस्तै
शिव और भवानी की तरह                    शिव र पार्वती जस्तै
जन्म-जन्म साथ थे,                           जुनी जुनी साथ थियौं
हैं और रहेंगे                                      छौं र रही रहन्छौं
ओ मेरी नेपाली सखी!                         हे मेरो नेपाली संगी!
***                                                  ***

कोई टिप्पणी नहीं: