स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2015

navgeet

एक रचना:
*
नदी वही है 
nadi wahi hai 
लेकिन वह घर-घाट नहीं है 
lekin wah ghar-ghat naheen hai
*
खिलता हुआ पलाश सुलगता
khilta huaa palash sulagta
वॅलिंटाइन पर्व याद कर
valentine parv yaad kar
हवा बसंती, फ़िज़ां नशीली
hawa basanti fizaa nasheelee
बहक रही है लिपट-चिपटकर
bahak rahi hai lipat-chipatkar
घूँघट-बेंदा, पायल-झुमका
ghunghat, benda, payal jhumka
झिझक-झेंपती लाज कहाँ है?
jhijhak-jhenpati, laaj kahan hai?
सर की, दर की
sar ki, dar ki,
फ़िक्र जिसे थी, बाट नहीं है
fikr jise thee, baat naheen hai
नदी वही है
nadi wahi hai
लेकिन वह घर-घाट नहीं है
lekin wah ghar-ghat naheen hai
*
पनघट, नुक्क्ड़, चौपालों से
panghat, nukkad, chaupalon se,
अपनापन हो गया पराया
apnapan ho gaya paraya
खलिहानों ने अमराई को-
khalihanon ne amrayee ko
लूट-रौंदकर दिल बहलाया
loot-rondkar dil bahlaya
नौ दिन-रात पूज नौ देवी
nau din-raat pooj nav devi
खुद को, जग को छले भक्त ही
khud ko. jag ko chhle bhakt hi
बदी बढ़ी पर
bdi barhi par
हुई न अब तक खाट खड़ी है
huee n ab tak khat khadi hai
नदी वही है
nadi wahi hai
लेकिन वह घर-घाट नहीं है
lekin wah ghar-ghat naheen hai
*
पुरा-पुरातन दिव्य सभ्यता
pura-puratan divy sabhyata
अब केवल बाजार हो गयी
ab kewal bazar ho gayee
रिश्ते-नाते, ममता-लोरी
rishte-nate-mamta-lori
राखी, बिंदिया भार हो गयी
rakhi-bindiya bhar ho gayee
जंगल, पर्वत, रेत, शिलाएँ
jangal parvat ret shilayen
बेचीं, अब आत्मा की बारी
becheen, ab aatam ki bari
संसाधन हैं
sanshadhan hain
तबियत मगर उचाट हुई है
tabiyat magar uchaat hi hain
नदी वही है
nadi wahi hai
लेकिन वह घर-घाट नहीं है
lekin wah ghar-ghat naheen hai
*

कोई टिप्पणी नहीं: