स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 29 अक्तूबर 2015

smart city

स्मार्ट सिटी हेतु सुझाव :
प्रस्तोता: आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'
पूर्व संभागीय परियोजना यंत्री, अधिवक्ता,
२०४ विजय अपार्टमेंट नेपियर टाउन जबलपुर 
o७६१ २४१११३१ / ९४२५१ ८३२४४
salil.sanjiv@gmail.com
१. पुराने जबलपुर में तोड़-फोड़ न कर नया जबलपुर अलग बसाया जाए जिसका विकास विशव अधुनातन शहरों की तर्ज पर हो. नवीनतम उपादान जुटाएँ जाएँ और १०० वर्ष बाद की जनसंख्या के हिसाब से गणना कर सभी व्यवस्थाएं हों.
२. शाहपुरा भिटौनी में गैस फिलिंग प्लांट का लाभ तत्काल शहर को मिले, गैस सिलिंडर हटाकर पाइप से गैस सप्लाई हो. जनता को सिलिंडर की कालाबाजारी से मुक्ति मिले.
३. जबलपुर से नरसिंहपुर और जबलपुर से कटनी ई एम यू ट्रेन सुबह-शाम चलायी जाए जिससे रोज आने-जाने वालों को सहूलियत हो.
४. जबलपुर के हर बड़े सरकारी दफ्तर, अपार्टमेंट, कॉलोनी, टाउनशिप, शैक्षणिक संस्थानों, अस्पतालों आदि में भूमिगत मिनी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, उन पर कार पार्किंग तथा छतों से रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था हो. साथ ही सौर बिजली की व्यवस्था हो. इससे प्रदूषण घटेगा, भूजलस्तर बढ़ने से पेय जल तथा खेती हेतु काम लगत में पानी की उपलब्धता बढ़ेगी, बिजली बचेगी।
५. घरों से रोज कचरा संग्रह हेतु निविदा बुलाएं या नीलामी की जाए. कचरा घरों से सीधे एकत्र किया जाए. सड़क किनारे से डस्ट बिन समाप्त किये जाएँ। कचरे का निस्तारण केरल में प्रयोग हो रही पद्धति से हो.
६. शहर के विविध हिस्सों तथा नए जबलपुर को जोड़ने के लिए मेट्रो ट्रैन का प्रस्ताव तैयार किया जाए.
७. बड़े फुहारे क्षेत्र के विकास हेतु क्लोवर लीफ रोड हरसिंग का मॉडल अपनाया जाए जिससे सड़क के बाएं हाथ पर चलते हुए ही किसी भी दिशा में जाया जा सके.
८. बेंगलुरु के विश्वेश्वरैया मुसियम की तरह जबलपुर में एक विज्ञानं संग्रहालय हो जिसमें भौतिकी, यांत्रिकी, रसायन, चिकित्सा आदि क्षेत्रों के विविध मशीनों के वर्किंग मॉडल हों जिनकी कार्य प्रणाली देख-समझ कर युवा छात्र शोधोन्मुखी हो सकें.
९. नगर के हर मोहल्ले में हर सड़क के रिड्यूस्ड लेवल तय किया जाए जिससे घरों का प्लिंथ लेवल तय ही सके. अभी की तरह सड़क मरम्मत होते-होते घर डूब में न जाएँ।
१०. शासकीय अबियांत्रिकी महाविद्यालय को आई टी आई में उन्नत किया जाए.
११. नर्मदा नदी को गहरा के गुजरात से जबलपुर तक लघु जलपोत आने योग्य बनाया जाए. बाँध स्थलों पर बाई पास नहर बना कर जल यातायात सुनिश्चित किया जाए.
संदेश में फोटो देखें
Sanjiv verma 'Salil', 94251 83244
salil.sanjiv@gmail.com
http://divyanarmada.blogspot.in
facebook: sahiyta salila / sanjiv verma 'salil'

कोई टिप्पणी नहीं: