स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 17 नवंबर 2015

muktika

मुक्तिका - 
*
मुस्कुराती रही, खिलखिलाती रहो 
पैर रख भूमि पर सिर उठाती रहो

मेहनती तुम बनो, मुश्किलों में तनो
कैद घर में न रह आती-जाती रहो
.
मान जाओ न रूठो अधिक देर तक
रूठ जाए कोई तो मनाती रहो
.
हो सहनशील सबको पता सत्य है
जो न माने, न नाहक बताती रहो
.
कोयलों सम मधुर गीत गाओ मगर
कुछ सबक बाज को भी सिखाती रहो
.
नर्मदा सी बहो, मत मलिनता गहो
मुश्किलों के शिखर लड़ ढहाती रहो
.
तिनके बिखरे अगरचे नशेमन के हैं
तिनके जोड़ो नशेमन बनाती रहो
*

कोई टिप्पणी नहीं: