स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 30 नवंबर 2015

parinam alankar

अलंकार सलिला ३६  
परिणाम अलंकार
*






*
हो अभिन्न उपमेय से, जहाँ 'सलिल' उपमान.

अलंकार परिणाम ही, कार्य सके संधान..

जहाँ असमर्थ उपमान उपमेय से अभिन्न रहकर किसी कार्य के साधन में समर्थ होता है, वहाँ  परिणाम अलंकार होता है

उदाहरण:

१. मेरा शिशु संसार वह दूध पिये परिपुष्ट हो

    पानी के ही पात्र तुम, प्रभो! रुष्ट व तुष्ट हो

यहाँ संसार उपमान शिशु उपमेय का रूप धारण करने पर ही दूध पीने में समर्थ होता है, इसलिए परिणाम अलंकार है

२. कर कमलनि धनु शायक फेरत

    जिय की जरनि हरषि हँसि हेरत

यहाँ पर कमल का बाण फेरना तभी संभव है, जब उसे कर उपमेय से अभिन्नता प्राप्त हो

३. मुख चन्द्र को / मनुहारते हम / पियें चाँदनी। 

इस हाइकु में उपमान चंद्र की मनुहार तभी होगी जब वह उपमान मुख से अभिन्न हो

४. जनप्रतिनिधि तस्कर हुए, जनगण के आराध्य
    जनजीवन में किस तरह, शुचिता हो फिर साध्य?

इस दोहे में तस्कर तभी आराध्य हो सकते हैं जब वे जनप्रतिनिधि से अभिन्न हों  

५. दावानल जठराग्नि का / सँग साँसों की लग्निका / लगन बन सके भग्निका

इस जनक छंद में दावानल तथा जठराग्नि के अभिन्न होने पर ही लगन-शर्म इसे भग्न कर सकती है। अत:, परिणाम अलंकार है 
    


*****

कोई टिप्पणी नहीं: