स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 10 दिसंबर 2015

laghukatha

लघुकथा -
गुलामी का अनुबंध
*
संसद में सरकार पर असहनशीलता और तानाशाही का आरोप लगाकर लगातार कार्यवाही ठप करनेवालों की सहनशीलता का नमूना यह कि उनके एक नेता पडोसी देश के प्रधान मंत्री से अपने देश की सरकार बदलने का अनुरोध करते हैं, वे जनता द्वारा ५ साल के लिये चुनी गयी सरकार एक पल सहन करने को तैयार नहीं है और उनके एक वरिष्ठ और उम्रदराज नेता दल की यव उपाध्यक्ष के पैरों में अपने हाथ से खुले-आम जूते पहनाते हैं, इससे अधिक तानाशाही और क्या हो सकती है?

इसमें नया भी कुछ नहीं है. उनके चचाजान ने भी अपने पिता की उम्र के नेता के हाथों जूते पहने थे. गुलामी के सबसे बड़ा अनुबंध उनकी दादी ने आपातकाल लगाकर किया था. युवराज अपने पुरखों के नक़्शे-कदम पर चलें तो परिणाम भी याद रखें।
*

कोई टिप्पणी नहीं: