स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 11 जनवरी 2016

navgeet

नवगीत:
समझदारी
*
साक्षरता ही
समझदारी नहीं है
*
बीज, पानी, खाद की
मात्रा प्रचुर है
भूमि है पर्याप्त
उर्वरता मुखर है
सुरक्षा कर नहीं पाता
निबल माली
उपकरण थामे
मगर क्यारी नहीं है
साक्षरता ही
समझदारी नहीं है
*
औपचारिकता
हुए कानून सारे
स्वार्थ-सुविधा ही
हुए हैं हमें प्यारे
नगद सौदे की
नहीं है चाह बाकी
उधारी की प्रथा
हितकारी नहीं है
साक्षरता ही
समझदारी नहीं है
*
त्याग का कर त्याग
भोगब भोग सारे
अस्पतालों में
पले हैं रोग न्यारे
संक्रमण से ग्रस्त
ऑपरेशन थियेटर
मरीजों से कहाँ
बटमारी नहीं है?
साक्षरता ही
समझदारी नहीं है
***

कोई टिप्पणी नहीं: