स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 27 फ़रवरी 2016

doha salila

दोहा सलिला:
नेताओं की निपुणता, देख हुआ है दंग
गिरगिट चाहे सीखना, कैसे बदले रंग?
*
रंग भंग में डालकर, किया रंग में भंग
संसद में होता सखे, बिना पिये हुड़दंग
*
दल-दल ने दलदल मचा, दल छाती पर दाल
जाम आदमी का किया, जीना आज मुहाल
*
मत दाता बन जान ले, मत का दाता मोल
तब मतदाता बदल दे, संसद का भूगोल
*
स्मृति से माया कहे, दे-दे अपना शीश
माया से स्मृति कहे, ले जा भेज कपीश
*
एक दूसरे को छलें, देकर भ्रामक तर्क
नेता-अभिनेता हुए, एक न बाकी फर्क
*
सरहद पर सुनवाइये, बहसें-भाषण खूब
जान बचायें भागकर, शत्रु सिपाही ऊब
*

कोई टिप्पणी नहीं: