स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 27 फ़रवरी 2016

muktak

मुक्तक:
केवल दोष दिखाना ही पर्याप्त नहीं होता
जो न बदलता मिट जाता है, अगर रहा रोता
अगर न उत्तर खोजोगे तो खुद सवाल होगे
फसल ऊगती तभी बीज जब कोई कहीं बोता
*
बैठ हाथ पर हाथ रखे गर चाहोगे बदलाव
नहीं भरेंगे, सिर्फ बढ़ेंगे जो तन-मन पर घाव
अगर बढ़ेगी क्रय क्षमता तो कहता हूँ मैं सत्य
बुरा न मानोगे चाहे जितने बढ़ जाएँ भाव
*

कोई टिप्पणी नहीं: