स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 1 फ़रवरी 2016

navgeet

एक रचना- 
*
जहाँ ढोल जितना बड़ा 
उतनी ज्यादा पोल।

हर ढपोरशंखी कहे
लीप-पोत सिंदूर।
चना-चिरौंजी चढ़ाओ
आँख मूँद, हो सूर।
गाल बजाओ जोर से
कहो शंख रस घोल
जहाँ ढोल जितना बड़ा
उतनी ज्यादा पोल।
*
झंडे-डंडे थामकर
पंडे हो दिग्भ्रांत।
शोर मचाते, अन्य से
कहें: रहो रे! शांत।
चालू-टालू बदलते
संसद का भूगोल
जहाँ ढोल जितना बड़ा
उतनी ज्यादा पोल।
*
रंग भंग में घोलकर
करें रंग में भंग।
तंग हो रहे तंग कर
देखे दुनिया दंग।
धार रहे हैं गले में
अमिय हलाहल बोल
जहाँ ढोल जितना बड़ा
उतनी ज्यादा पोल।
*

कोई टिप्पणी नहीं: