स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 9 मार्च 2016

muktika

मुक्तिका:
*
कर्तव्यों की बात न करिए, नारी को अधिकार चाहिए 
वहम अहम् का हावी उस पर, आज न घर-परिवार चाहिए 
*
मेरी देह सिर्फ मेरी है, जब जिसको चाहूँ दिखलाऊँ
मर्यादा की बात न करना, अब मुझको बाज़ार चाहिए
*
आदि शक्ति-शारदा-रमा हूँ, शिक्षित खूब कमाती भी हूँ
नित्य नये साथी चुन सकती, बाँहें बन्दनवार चाहिए
*
बच्चे कर क्यों फिगर बिगाडूँ?, मार्किट में वैल्यू कम होती
गोद लिये आया पालेगी, पति ही जिम्मेदार चाहिए
*
घोषित एक अघोषित बाकी,सारे दिवस सिर्फ नारी के
सब कानून उसी के रक्षक, नर बस चौकीदार चाहिए
*
नर बिन रह सकती है दावा, नर चाकर है करे चाकरी
नाचे नाच अँगुलियों पर नित, वह पति औ' परिवार चाहिए
*
किसका बीज न पूछे कोई, फसल सिर्फ धरती की मानो
हो किसान तो पालो-पोसो, बस इतना स्वीकार चाहिए
*

1 टिप्पणी:

Best Packers And Movers Bangalore ने कहा…

"Enjoyed every bit of your blog article.Really looking forward to read more. Really Cool."
This is the place Packers And Movers Bangalore
comes and offers you discover the privilege offering so as to #move organization in Bangalore you free no commitment migration some assistance with quoting of top organizations. We are connected with a percentage of the best moving organizations of Bangalore
http://packers-movers-bangalore.in/