स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

रविवार, 6 मार्च 2016

navgeet

नवगीत -
आजाद हम
*
हमें न रोको, तनिक न टोंको 
प्रगतिशील आज़ाद हम 
नहीं शत्रु की कोई जरूरत 
करें देश बर्बाद हम 
*
हम आज़ाद ख़याल बहुत हैं
ध्वजा विदेश प्यारी है
कोसें निज ध्वज-संविधान को
मन भाती गद्दारी है
जनगण जिनको चुनें , उन्हें
कैसे देखें आबाद हम?
*
जिस पत्तल में कहते हैं हम
उसमें करते छेद हैं
उद्घाटित कर दें दुश्मन पर
कमजोरी के भेद हैं
छुरा पीठ में भोंक करेंगे
'न्याय मिले' फरियाद हम
*
हमें भरोसा तनिक नहीं
फिर भी संसद में बैठेंगे
काल कर निज चेहरे को हम
शिक्षालय में पैठेंगे
दोष व्यवस्था पर धर देंगे
जब तोड़ें मर्याद हम
*
आतंकी हमको हैं प्यारे
जला रहे घर ले अंगारे
आरक्षण चिरकाल चाहिए
चला योग्यता पर दोधारे
भारत माँ को रुला-रुला
आँसू का लेते स्वाद हम
***

कोई टिप्पणी नहीं: