स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 27 मई 2016

नवगीत

एक रचना
*
कहते बड़ा हमारा देश
किंतु न कोई आशा शेष
*
पैर तले से भूमि छिन गयी,
हाथों में आकाश नहीं।
किसे बताऊँ?, कौन कर रहा
मेरा सत्यानाश नहीं?
मानव-हाथ छला जाकर नित
नोंच रहा खुद अपने केश।
कहते बड़ा हमारा देश
किंतु न कोई आशा शेष।
*
छाँह, फूल, पत्ते लकड़ी ले
कभी नहीं आभार किया।
जड़ें खोद मेरे जीवन का
स्वार्थ हेतु व्यापार किया।
मुझको जीने नहीं दिया,
खुद मानव भी कर सका न ऐश।
कहते बड़ा हमारा देश
किंतु न कोई आशा शेष
*
मेरे आँसू की अनदेखी
करी, काट दी बोटी-बोटी।
निर्मम-निष्ठुर दानव बनकर
मानव जला सेंकता रोटी।
कोई नहीं अदालत जिसमें
'वृक्ष' करूँ मैं अर्जी पेश।
कहते बड़ा हमारा देश
किंतु न कोई आशा शेष।
*
१६-५-२०१६

कोई टिप्पणी नहीं: