स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 14 मई 2016

muktika

मुक्तिका
संजीव
*
पहरेदार न देता पहरा
सुने न ऊपरवाला बहरा
.
ऊंचे-ऊंचे सागर देखे
पर्वत देखा गहरा-गहरा
.
धार घृणा की प्रबल वेगमय
नेह नर्मदा का जल ठहरा
.
चलभाषित शिशु सीख रहे हैं
सेक्स ज्ञान का नित्य ककहरा
.
संयम नियम न याद, भोग की 
मृग मरीचिका भाग्य सुनहरा
***

1 टिप्पणी:

Kanta Roy ने कहा…


संयम नियम न याद, भोग की
मृग मरीचिका भाग्य सुनहरा------ वाह ! सार्थक रचनाकर्म !,बेहद गम्भीर भाव चित्रित हुए है रचना में , हृदय से बधाई प्रेषित है ।