स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 7 जून 2016

doha

दोहा सलिला



दोहा सलिला

आओ! भेंट शिरीष से, हो जमीन की बात
कैसे हँस जी रहा है, नित सह-सह आघात?
*
खड़ा सिरस निज पैर पर, ज्यों हठयोगी सिद्ध
हाय! नोंचने आ गये, मानव रूपी गिद्ध
*
कुछ न किसी से माँगता, करे नहीं अभिमान
देख पराई चूपड़ी, मत ललचा इंसान
*
गिरि, घाटी, बस्तियों को, खिल करता गुलज़ार
मनुज काटकर जलाता, कैसा अत्याचार?
*
फिर खिलने को झर रहा, सिरस नहीं गमगीन
तनिक कष्ट में क्यों हुआ, मुखड़ा मनुज मलीन?
***


कोई टिप्पणी नहीं: