स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 1 जून 2016

navgeet

नवगीत
संजीव
*
खिलखिलाती उषा
                  हँसकर सिरस संग।
*
कहाँ गौरैया गयी?,
चुप खोजती।
फुदक शाखों पर नहीं
क्यों डोलती?
परागित पुष्पों से 
बतियाती पुलक-
रात की बातें बता
रस घोलती।
कुँआरी कलियों में
                  भर देती उमंग।
महमहाती धूप
                  मिलकर सिरस संग।
*
बजाते करताल
फलियाँ-बीज बज।
फूल झरते कहें-
'माया- मोह तज।'
छोड़ पत्ते शाख
बैरागिन हुई-
गया कान्हा भूल
कालिंदी-बिरज।
बिसारे बिसरें न
                  बीते राग-रंग।
मुस्कुराती साँझ
                  छिपकर सिरस संग।

जमीं में जड़ जमी
पतझड़ झेलता।
सिरस बरखा में
किलकता-खेलता।
बन जलावन, शीत
हरता, प्राण दे-
राख होता सिरस
विपदा झेलता।
लड़ रहा अस्तित्व की
                  नित नयी जंग।
कुनमुनाती रात
                  जगकर सिरस संग।
****

कोई टिप्पणी नहीं: