स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 20 जुलाई 2016

doha

दोहा मुक्तिका

*
भ्रम-शंका को मिटाकर, जो दिखलाये राह 

उसको ही गुरु मानकर, करिये राय-सलाह 
*

हर दिन नया न खोजिए, गुरु- न बदलिए राह

मन श्रृद्धा-विश्वास बिन, भटके भरकर आह 
*  

करें न गुरु की सीख की, शिष्य अगर परवाह

गुरु क्यों अपना मानकर, हरे चित्त की दाह?
*

सुबह शिष्य- संध्या बने, जो गुरु वे नरनाह  

अपने ही गुरु से करें, स्वार्थ-सिद्धि हित डाह
*

उषा गीत, दुपहर ग़ज़ल, संध्या छंद अथाह  

व्यंग्य-लघुकथा रात में, रचते बेपरवाह
*

एक दिवस क्यों? हर दिवस, गुरु की गहे पनाह

जो उसकी शंका मिटे, हो शिष्यों में शाह
*
नेह-नर्मदा धार सम, गुरु की करिए चाह
दीप जलाकर ज्ञान का, उजियारे अवगाह
***
एक दोहा-
गुरुघंटालों से रहें, सजग- न थामें बाँह

गुरु हो गुरु-गंभीर तो, गहिए बढ़कर छाँह
*

कोई टिप्पणी नहीं: