स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 13 जुलाई 2016

muktak

मुक्तक 
*
था सरोवर, रह गया पोखर महज क्यों आदमी?
जटिल क्यों?, मिलता नहीं है अब सहज क्यों आदमी?
काश हो तालाब शत-शत कमल शतदल खिल सकें-
आदमी से गले मिलकर 'सलिल' खुश हो आदमी।। 
*
राजनीति पोखर हुई, नेता जी टर्राय 
कुर्सी की गर्मी चढ़ी, आँय-बाँय बर्राय
वादों को जुमला कहें, कहें झूठ को साँच 
कोसें रोज विपक्ष को, पद-मद से गर्राय 
*
बदला है तालाब का पानी प्रिय दुष्यंत 
जैसे रहे विदेश में वैसे घर में कंत 
किस-किस को हम दोष दें?, सभी एक से एक 
अपनी करनी सुधारें, नहीं शेष में तंत 

कोई टिप्पणी नहीं: