स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 16 अगस्त 2016

geet

गीत 
*
किसके-किसके नाम करूँ मैं, अपने गीत बताओ रे!
किसके-किसके हाथ पिऊँ मैं, जीवन-जाम बताओ रे!!
*
चंद्रमुखी थी जो उसने हो, सूर्यमुखी धमकाया है 
करी पंखुड़ी बंद भ्रमर को, निज पौरुष दिखलाया है 
''माँगा है दहेज'' कह-कहकर, मिथ्या सत्य बनाया है  
किसके-किसके कर जोड़ूँ, आ मेरी जान बचाओ रे! 
किसके-किसके नाम करूँ मैं, अपनी पीर बताओ रे!!
*
''तुम पुरुषों ने की रंगरेली, अब नारी की बारी है 
एक बाँह में, एक चाह में, एक राह में यारी है 
नर निश-दिन पछतायेगा क्यों की उसने गद्दारी है?''
सत्यवान हूँ हरिश्चंद्र, कोई आकर समझाओ रे!
किसके-किसके नाम करूँ कवि की जागीर बताओ रे!!
*
महिलायें क्यों करें प्रशंसा?, पूछ-पूछ कर रूठ रही 
खुद सवाल कर, खुद जवाब दे, विषम पहेली बूझ रही 
द्रुपदसुता-सीता का बदला, लेने की क्यों सूझ रही?   
झाड़ू, चिमटा, बेलन, सोंटा कोई दूर हटाओ रे!
किसके-किसके नाम करूँ अपनी तकदीर बताओ रे!!
*
देवदास पारो को समझ न पाया, तो क्यों प्यार किया?
'एक घाट-घर रहे न जो, दे दगा', कहे कर वार नया 
'सलिल बहे पर रहता निर्मल', समझाकर मैं हार गया
पंचम सुर में 'आल्हा' गाए, 'कजरी' याद दिलाओ रे!
किसके-किसके नाम करूँ जिव्हा-शमशीर बताओ रे!!
*
कुसुम, सुमन, नीलू, अमिता, पूर्णिमा, नीरजा आएँगी 
'पत्नी को परमेश्वर मानो', सबको पाठ पढ़ाएँगी 
पत्नीव्रती न जो कवि होगा, उससे कलम छुड़ाएँगी 
कोई भी मौसम हो तुम गुण पत्नी के ही गाओ रे!
किसके-किसके नाम करूँ कवि आहत वीर बताओ रे!!
***

2 टिप्‍पणियां:

(Ex)Prof. M C Gupta ने कहा…

सलिल जी, बहुत सुंदर लिखा है.

अपनी पीर बताऊँ किसको सुनने वाला कौन यहाँ
रण भेरी के आगे सुनता तूती की है कौन कहाँ
हो जाओ तुम नर पीछे, अब नारी का है हुआ जहाँ
नर की ताकत ख़त्म हुई अब कुछ तो रहम दिखाओ रे
किसके-किसके नाम करूँ मैं, अपनी पीर बताओ रे!!

--ख़लिश
=================================

(Ex)Prof. M C Gupta
MD (Medicine), MPH, LL.M.,
Advocate & Medico-legal Consultant
www.writing.com/authors/mcgupta44

sanjiv verma ने कहा…

खलिश जी आभार
अब महेश बन धुनि रमाने, के दिन सचमुच आए हैं
'सती' तुल गयी 'सता' बनाने, नर जां बचा न पाए हैं
डींग हाँकते जो कल तक, मुखड़ा फिरें छिपाए हैं
दुखड़ा मन का मन में रखकर, ऊपर से मुस्काओ रे
किसके-किसके नाम करूँ मैं, अपनी पीर बताओ रे!!
****