स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 23 अगस्त 2016

muktak

मुक्तक 
जो हुआ अच्छा हुआ होता रहे
मित्रता की फसल दिल बोता रहे 
लाद कर गंभीरता नाहक जिए
मुस्कराहट में थकन खोता रहे
*
मुक्तक
कभी तो कोई हमें भी 'मिस' करे
स्वप्न में अपने हमें कोई धरे
यह न हो इस्लाह माँगे और फिर
कर नमस्ते दूर से ही वह फिरे
*

कोई टिप्पणी नहीं: