स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 3 सितंबर 2016

doha salila

दोहा सलिला 
कर माहात्म्य 
*
कर ने कर की नाक में, दम कर छोड़ा साथ 
कर ने कर के शीश पर, तुरत रख दिया हाथ 
*
कर ने कर से माँग की, पूरी कर दो माँग
कर ने उठकर झट भरी, कर की सूनी माँग 
*
कर न आय पर दिया है, कर देकर हो मुक्त 
कर न आय दे पर करे,  कर कर से संयुक्त 
*
कर ने कर के कर गहे, कहा न कर वह बात 
कर ने कर बात सुन, करी अनसुनी-  घात
*
कर कइयों के साथ जा, कर ले आया साथ 
कर आकर सब कुछ हुई, कर हो गया अनाथ 
*
दरवाजे पर थाप कर,  जमा लिए निज पाँव 
कर ने कर समझ नहीं, हार गया हर दाँव 
*
कार छीन कर ने किया, कर को जब बेकार
बेबस कर बस से गया, करि हार स्वीकार    
*
'दे कर',  'ले कर' कर रहे, कर-कर मिल संवाद 
कर अधिकारी से करें, कम कर की फरियाद 
*
कर-करतब दिखला करे, सर हर अवसर मीत 
रहे न कर की कैद में, 'सलिल' हार या जीत?
*
दे जवाब कर ने कहा, कर ने छोड़ लिहाज
लाजवाब कर को किया, कर ने बना रिवाज 
***

कोई टिप्पणी नहीं: