स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 28 सितंबर 2016

karya-shala muktak

कार्यशाला 
समस्या पूर्ति मुक्तक 
*
परखना मत, परखने मे कोई अपना नही रहता - हेमा अवस्थी 
बहकना मत, बहकने से कोई सपना नहीं रहता 
सम्हल कर पैर रखना पंक में, पंकज तुम्हें बनना
फिसलना मत, फिसलने से कोई नपना नहीं रहता -संजीव
*

कोई टिप्पणी नहीं: