स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 24 अक्तूबर 2016

badhaaee geet - lori

नया प्रयोग 
बधाई गीत 
*
बधाई गाओ सखियों! झूला झुलाओ 
लली न रोने पाए, गले से लगाओ 
*
नन्हें से हाथों में किस्मत की चाबी
माथे पर काजल का टीका सजाओ
*
कोयल सी वाणी बोले, षड रस घोले
शहद लाओ मैया! हँसकर चटाओ
*
चंचल से पैरों से नापेगी दुनिया
चाँदी की पैंजन बुआ पहनाओ
*
नटखट से नैनों में सपने हजारों
चाचा ले गोद में दुनिया दिखाओ
*
रोने न देना जी लोरी सुनाओ
थपकी दे निंदिया भैया! कराओ
*
लोरी
*
सो जा रे सो जा, सो जा रे मुनिया
*
सपनों में आएँगे कान्हा दुआरे
'चल खेल खेलें' तुझको पुकारें
माखन चटा, तुझको मिसरी खिलाएँ
जसुदा बलैयाँ लें तेरी गुड़िया
सो जा रे सो जा, सो जा रे मुनिया
*
साथी बनेंगे तेरे ये तारे
छिप-छिप शरारत करते हैं सारे
कोयल सुनाएगी मीठी सी लोरी
सुंदर मिलेगी सपनों की दुनिया
सो जा रे सो जा, सो जा रे मुनिया
*
जागेगी जब, तभी होगा सवेरा
पल में मिट जायेगा सारा अँधेरा
हौले-हौले तुझको आगे है जाना
मुश्किल मिटने की कोशिश है गुनिया
सो जा रे सो जा, सो जा रे मुनिया
*

कोई टिप्पणी नहीं: