स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 24 अक्तूबर 2016


मुक्तक 
*
पाक न तन्नक रहो पाक है?
बाकी बची न कहूँ धाक है।। 
सूपनखा सें चाल-चलन कर 
काटी अपनें हाथ नाक है।।
*

वाह! शब्दों की क्या ख़ूब जादूगरी
चाह, रस-भाव की भी हो बाजीगरी 
बिम्ब, रूपक, प्रतीकों से कर मित्रता 
हो अलंकार की भी तो कारीगरी 
*

वन्दना प्रार्थना साधना अर्चना 
हिंद-हिंदी की करिये, रहे सर तना 
विश्व-भाषा बने भारती हम 'सलिल'
पा सकें हर्ष-आनंद नित नव घना 
दीपावली 
*
सत्य-शिव-सुन्दर का अनुसन्धान है दीपावली 
सत-चित-आनंद का अनुगान है दीपावली 
अकेले लड़कर तिमिर से, समर को चुप जीतता
जो उसी दीपक के यश का गान है दीपावली
*
अँधेरे पर रौशनी की जीत है दीपावली
दिलों में पलती मनुज की प्रीत है दीपावली
मिटा अंतर से सभी अंतर मनों को जोड़ दे
एकता-संदेश देती रीत है दीपावली
*
स्वदेशी की गूँज, श्रम का मान है दीपावली
भारती की कीर्ति, भारत-गान है दीपावली
चीन की उद्दंडता को दंड दे धिक्कारता
देश के जनगण का नव अरमान है दीपावली
*

सरहद के बाहर चलकर, चलिए बम फोड़ें 
आतंकी हौसले सभी हम मिलकर तोड़ें 
शत-शत मुक्तक लिखें सुनें दोनों शरीफ जब 
सर टकराकर आपस में, झट दुनिया छोड़ें 
***
मुक्तक 
*
भोर से संझा हुई,कर कार्य, रवि जब थक चला 
तिमिर छा जाए न जग में सोच, चिंतित जब ढला 
कौन रोके तम?, बढ़ा लघु दीप बोला-' शक्ति भर
मैं हरूँगा' तभी दीवाली मनाने का सलिल' प्रचलन चला
*

आपने चाहा जिसे वह गीत चाहत के लिखेगा
नहीं चाहा जिसे कैसे वह मिलन-अमृत चखेगा?
राह रपटीली बहुत है चाह की, पग सम्हल धरना 
जान लेकर हथेली पर जो चले, आगे दिखेगा
*

कुछ ग़लत हैं आचार्य जी, बाकी सभी कुछ ठीक है
बस चुप रहें प्राचार्य जी, बाकी सभी कुछ ठीक है 

दीवार की शोभा बढ़ाते, चित्र भाते ही नहीं
थूकें तमाखू-पान खा, बाकी सभी कुछ ठीक है 

*
जब 'अशोक' मन, 'व्यग्र' हो करता शब्द प्रहार 
तब 'नीरव' में 'ॐ' की गूँज उठे झनकार
'कलानाथ' रसधार में झलकाते निज बिम्ब 
'रामानुज' से मिल रहे 'ममता' लिए अपार

*
आँख दिखाकर, डरा-डराकर कहती 'डरती हूँ' 
ठेंगा दिखा-दिखाकर कहती 'तुझ पर मरती हूँ' 
गले लगाती नहीं नायिका, नायक से कहती 
'जाओ भाड़ में,समय हो गया अब मैं चलती हूँ 

*
लाजवाब आप हो गुलाब हुए
स्नेह की अनपढ़ी किताब हुए 
हमको उत्तर नहीं सूझा जब भी 
आपके प्रश्न ही जवाब हुए
*
हाय रे! हुस्न रुआंसा क्यों है?
ख्वाब कोई हुआ बासा क्यों है?
हास्य-जिंदादिली उपहार समझ
दूर श्वासा से हुलासा क्यों है?
*
हाँ कह दूँ तो पत्नी पीटे, झूठ अगर ना बोलूँ
करूँ वंदना प्रेम आपसे है रहस्य क्यों खोलूँ ?
रोना है सौभाग्य हमारा, सब तनाव मिट जाता
क्यों न हास्य कर प्रेम-तराजू पर मैं खुद को तोलूँ
==
आप = स्वयं, आत्मा सो परमात्मा = ईश्वर

*

कोई टिप्पणी नहीं: