स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 24 अक्तूबर 2016

kundalini

एक कुंडलिनी - दो कवि  
*
है मंदिर घर आपका / मेरे चारों धाम । मुझको इस घर से मिले/ जीवन के आयाम ।। - मिथलेश
जीवन के आयाम, नाप लूँ गति-यति के सँग
दसों दिशाओं में प्रयास का बिखरे तब रँग 
मिले सफलता कहाँ, कभी कब कहिये सत्वर
शब्द-ब्रम्ह को पूज रहे, वह मंदिर है घर - संजीव
*
लोहा भी सोना हुआ, पारस हो जब पास 
पाएँगे हम मंज़िलें, मन में है विश्वास - मिथलेश
मन में है विश्वास, आस हर पूरी होगी 
हों सच्चे इंसान, नहीं भगवान न योगी 
रचें कुंडली रोला के पहले रख दोहा
मोम रहे मन 'सलिल' भले ही तन हो लोहा - संजीव
*



कोई टिप्पणी नहीं: