स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 18 नवंबर 2016

doha

दोहे
शब्दों की बाजीगरी, करती तभी कमाल
भाव बिम्ब रस लय कहन, कर दें मालामाल
*
उसके हुए मुरीद हम, जिसको हमसे आस प्यास प्यास से तृप्त हो, करे रास संग रास
*
मन बिन मन उन्मन हुआ, मन से मन को चैन मन में बस कर हो गया, मनबसिया बेचैन
*
मुक्तक 
मन पर वश किसका चला ?
किसका मन है मौन?
परवश होकर भी नहीं 
परवश कही कौन?
*
संयम मन को वश करे,
जड़ का मन है मौन
परवश होकर भी नहीं
वश में पर के भौन
*

कोई टिप्पणी नहीं: