स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 10 नवंबर 2016

navgeet

देव उठानी एकादशी पर नव गीत सोये बहुत देव अब जागो * सोये बहुत देव! अब जागो... तम ने निगला है उजास को। गम ने मारा है हुलास को। बाधाएँ छलती प्रयास को। कोशिश को जी भर अनुरागो... रवि-शशि को छलती है संध्या। अधरा धरा न हो हरि! वन्ध्या। बहुत झुका अब झुके न विन्ध्या। ऋषि अगस्त दक्षिण मत भागो... पलता दीपक तले अँधेरा । हो निशांत फ़िर नया सवेरा। टूटे स्वप्न न मिटे बसेरा। कथनी-करनी संग-संग पागो... **************

कोई टिप्पणी नहीं: