स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

रविवार, 31 अक्तूबर 2010

हिंदी शब्द सलिला : २०          
संजीव 'सलिल'*
संकेत : अ.-अव्यय, अर. अरबी, अक्रि.-अकर्मक क्रिया, अप्र.-अप्रचलित, अर्थ.-अर्थशास्त्र, अलं.- अलंकार, अल्प-अल्प (लघुरूप) सूचक, आ.-आधुनिक, आयु.-आयुर्वेद, इ.-इत्यादि, इब.-इबरानी, उ. -उर्दू, उदा.-उदाहरण, उप.-उपसर्ग, उपनि.-उपनिषद, अं.-अंगिका, अंक.-अंकगणित, इ.-इंग्लिश/अंगरेजी, का.-कानून, काम.-कामशास्त्र, क्व.-क्वचित, ग.-गणित, गी.-गीता, गीता.-गीतावली, तुलसी-कृत, ग्रा.-ग्राम्य, ग्री.-ग्रीक., चि.-चित्रकला, छ.-छतीसगढ़ी, छं.-छंद, ज.-जर्मन, जै.-जैन साहित्य, ज्या.-ज्यामिति, ज्यो.-ज्योतिष, तं.-तंत्रशास्त्र, ति.-तिब्बती, तिर.-तिरस्कारसूचक, दे.-देशज, देव.-देवनागरी, ना.-नाटक, न्या.-न्याय, पा.-पाली, पारा.- पाराशर संहिता, पु.-पुराण, पुल.-पुल्लिंग, पुर्त. पुर्तगाली, पुरा.-पुरातत्व, प्र.-प्रत्यय, प्रा.-प्राचीन, प्राक.-प्राकृत, फा.-फ़ारसी, फ्रे.-फ्रेंच, ब.-बघेली, बर.-बर्मी, बहु.-बहुवचन, बि.-बिहारी, बुं.-बुन्देलखंडी, बृ.-बृहत्संहिता, बृज.-बृजभाषा  बो.-बोलचाल, बौ.-बौद्ध, बं.-बांग्ला/बंगाली, भाग.-भागवत/श्रीमद्भागवत, भूक्रि.-भूतकालिक क्रिया, मनु.-मनुस्मृति, महा.-महाभारत, मी.-मीमांसा, मु.-मुसलमान/नी, मुहा. -मुहावरा,  यू.-यूनानी, यूरो.-यूरोपीय, योग.योगशास्त्र, रा.-रामचन्द्रिका, केशवदास-कृत, राम.- रामचरितमानस-तुलसीकृत, रामा.- वाल्मीकि रामायण, रा.-पृथ्वीराज रासो, ला.-लाक्षणिक, लै.-लैटिन, लो.-लोकमान्य/लोक में प्रचलित, वा.-वाक्य, वि.-विशेषण, विद.-विदुरनीति, विद्या.-विद्यापति, वे.-वेदान्त, वै.-वैदिक, व्यं.-व्यंग्य, व्या.-व्याकरण, शुक्र.-शुक्रनीति, सं.-संस्कृत/संज्ञा, सक्रि.-सकर्मक क्रिया, सर्व.-सर्वनाम, सा.-साहित्य/साहित्यिक, सां.-सांस्कृतिक, सू.-सूफीमत, सूर.-सूरदास, स्त्री.-स्त्रीलिंग, स्मृ.-स्मृतिग्रन्थ, ह.-हरिवंश पुराण, हिं.-हिंदी.      
'अग' से प्रारंभ शब्द : ७.
संजीव 'सलिल'*
अग्निक- पु. सं. इंद्रगोप, बीरबहूटी, एक पौधा, साँप की एक जाति.
अग्निमान/मत- पु. सं. विधि अनुसार अग्न्याधान करनेवाला द्विज, अग्निहोत्री.
अग्नीध्र- पु. सं. यज्ञाग्नि जलानेवाला ऋत्विक, ब्रम्हा, यज्ञ, होम, स्वायंभुव मनु का एक पुत्र.  
अग्न्यगार/अग्न्यागार- पु. सं. यज्ञाग्नि रखने का स्थान.
अग्न्यस्त्र/अग्न्यास्त्र- पु. सं. मन्त्रप्रेरित बाण/तीर जिससे आग निकले, अग्निचालित अस्त्र बंदूक, रायफल इ.,तमंचा, पिस्तौल इ., तोप, मिसाइल आदि.
अग्न्याधा- पु.सं. वेद मन्त्र द्वारा अग्नि की स्थापना, अग्निहोत्र.
अग्न्यालय- पु. सं. देखें अग्न्यागार.
अग्न्याशय- पु. सं. जठराग्नि का स्थान.
अग्न्याहित- पु. सं. अग्निहोत्री, साग्निक.
अग्न्युत्पात- पु. सं. अग्निकाण्ड, उल्कापात.
अग्न्युत्सादी/दिन- वि. सं. यज्ञाग्नि को बुझने देनेवाला.
अग्न्युद्धार- पु. सं. दो अरणिकाष्ठों को रगड़कर अग्नि उत्पन्न करना.  
अग्न्युपस्थान- पु.सं. अग्निहोत्र के अंत में होनेवाली पूजा/मन्त्र.
अग्य- वि. स्त्री. दे. देखें अज्ञ.
अग्या/आग्या- स्त्री. दे. देखें आज्ञा.
अग्यारी- स्त्री. आग में गुड़/दशांग आदि डालना, अग्यारी-पात्र.
अग्र- वि. सं. अगला, पहला, मुख्य, अधिक. अ. आगे. पु. अगला भाग, नोक, शिखर, अपने वर्ग का सबसे अच्छा पदार्थ, बढ़-चढ़कर होना, उत्कर्ष, लक्ष्य आरंभ, एक तौल, आहार की के मात्रा, समूह, नायक.-कर-पु. हाथ का अगला हिस्सा, उँगली, पहली किरण,-- पु. नेता, नायक, मुखिया.-गण्य-वि. गिनते समय प्रथम, मुख्य, पहला.--गामी/मिन-वि. आगे चलनेवाला. पु. नायक, अगुआ, स्त्री. अग्रगामिनी.-दल-पु. फॉरवर्ड ब्लोक भारत का एक राजनैतिक दल जिसकी स्थापना नेताजी सुभाषचन्द्र बोसने की थी, सेना की अगली टुकड़ी,.--वि. पहले जन्मा हुआ, श्रेष्ठ. पु. बड़ा भाई, ब्राम्हण, अगुआ.-जन्मा/जन्मन-पु. बड़ा भाई, ब्राम्हण.-जा-स्त्री. बड़ी बहिन.-जात/ जातक -पु. पहले जन्मा, पूर्व जन्म का.-जाति-स्त्री. ब्राम्हण.-जिव्हा-स्त्री. जीभ का अगला हिस्सा.-णी-वि. आगे चलनेवाला, प्रथम, श्रेष्ठ, उत्तम. पु. नेता, अगुआ, एक अग्नि.-तर-वि. और आगे का, कहे हुए के बाद का, फरदर इ.-दाय-अग्रिम देय, पहले दिया जानेवाला, बयाना, एडवांस, इम्प्रेस्ट मनी.-दानी/निन- पु. मृतकके निमित्त दिया पदार्थ/शूद्रका दान ग्रहण करनेवाला निम्न/पतित ब्राम्हण,-दूत- पु. पहले से  पहुँचकर किसी के आने की सूचना देनेवाला.-निरूपण- पु. भविष्य-कथन, भविष्यवाणी, भावी. -सुनहु भरत भावी प्रबल. राम.,-पर्णी/परनी-स्त्री. अजलोमा का वृक्ष.-पा- सबसे पहले पाने/पीनेवाला.-पाद- पाँव का अगला भाग, अँगूठा.-पूजा- स्त्री. सबसे पहले/सर्वाधिक पूजा/सम्मान.-पूज्य- वि. सबसे पहले/सर्वाधिक सम्मान.-प्रेषण-पु. देखें अग्रसारण.-प्रेषित-वि. पहले से भेजना, उच्चाधिकारी की ओर आगे भेजना, फॉरवर्डेड इ.-बीज- पु. वह वृक्ष जिसकी कलम/डाल काटकर लगाई जाए. वि. इस प्रकार जमनेवाला पौधा.-भाग-पु. प्रथम/श्रेष्ठ/सर्वाधिक/अगला भाग -अग्र भाग कौसल्याहि दीन्हा. राम., सिरा, नोक, श्राद्ध में पहले दी जानेवाली वस्तु.-भागी/गिन-वि. प्रथम भाग/सर्व प्रथम  पाने का अधिकारी.-भुक/-वि. पहले खानेवाला, देव-पिटर आदि को खिलाये बिना खानेवाला, पेटू.-भू/भूमि-स्त्री. लक्ष्य, माकन का सबसे ऊपर का भाग, छत.--महिषी-स्त्री. पटरानी, सबसे बड़ी पत्नि/महिला.-मांस-पु. हृदय/यकृत का रक रोग.-यान-पु. सेना की अगली टुकड़ी, शत्रु से लड़ने हेतु पहले जानेवाला सैन्यदल. वि. अग्रगामी.-यायी/यिन वि. आगे बढ़नेवाला, नेतृत्व करनेवाला-योधी/धिन-पु. सबसे आगे बढ़कर लड़नेवाला, प्रमुख योद्धा.-लेख- सबसे पहले/प्रमुखता से छपा लेख, सम्पादकीय, लीडिंग आर्टिकल इ.,-लोहिता-स्त्री. चिल्ली शाक.-वक्त्र-पु. चीर-फाड़ का एक औज़ार.-वर्ती/तिन-वि. आगे रहनेवाला.-शाला-स्त्री. ओसारा, सामने की परछी/बरामदा, फ्रंट वरांडा इं.-संधानी-स्त्री. कर्मलेखा, यम की वह पोथी/पुस्तक जिसमें जीवों के कर्मों का लिखे जाते हैं.-संध्या-स्त्री. प्रातःकाल/भोर.-सर-वि. पु. आगेजानेवाला, अग्रगामी, अगुआ, प्रमुख, स्त्री. अग्रसरी.-सारण-पु. आगे बढ़ाना, अपनेसे उच्च अधिकारी की ओर भेजना, अग्रप्रेषण.-सारा-स्त्री. पौधे का फलरहित सिरा.-सारित-वि. देखें अग्रप्रेषित.-सूची-स्त्री. सुई की नोक,  प्रारंभ में लगी सूची, अनुक्रमाणिका.-सोची-वि. समय से पहले/पूर्व सोचनेवाला, दूरदर्शी. -अग्रसोची सदा सुखी मुहा.,-स्थान-पहला/प्रथम स्थान.--हर-वि. प्रथम दीजानेवाली/देय वस्तु.-हस्त-पु. हाथ का अगला भाग, उँगली, हाथी की सूंड़  की नोक.-हायण-पु. अगहन माह,-हार-पु. राजा/राज्य की प्र से ब्राम्हण/विद्वान को निर्वाहनार्थ मिलनेवाला भूमिदान, विप्रदान हेतु खेत की उपज से निकाला हुआ अन्न.
अग्रजाधिकार- पु. देखें ज्येष्ठाधिकार.
अग्रतः/तस- अ. सं. आगे, पहले, आगेसे.
अग्रवाल- पु. वैश्यों का एक वर्गजाति, अगरवाल.
अग्रश/अग्रशस/अग्रशः-अ. सं. आरम्भ से ही.
अग्रह- पु.संस्कृत ग्रहण न करना, गृहहीन, वानप्रस्थ.              ----------निरंतर                                                                                                                 

शनिवार, 30 अक्तूबर 2010

विशेष रचना : मेरे भैया संजीव 'सलिल'

भाई दूज पर विशेष रचना :

मेरे भैया

संजीव 'सलिल'
*
मेरे भैया!,
किशन कन्हैया...
*
साथ-साथ पल-पुसे, बढ़े हम
तुमको पाकर सौ सुख पाये.
दूर हुए एक-दूजे से हम
लेकिन भूल-भुला न पाये..
रूठ-मनाने के मधुरिम दिन
कहाँ गये?, यह कौन बताये?
टीप रेस, कन्ना गोटी है कहाँ?
कहाँ है 'ता-ता थैया'....
*
मैंने तुमको, तुमने मुझको
क्या-क्या दिया, कौन बतलाये?
विधना भी चाहे तो स्नेहिल
भेंट नहीं वैसी दे पाये.
बाकी क्या लेना-देना? जब
हम हैं एक-दूजे के साये.
भाई-बहिन का स्नेह गा सके
मिला न अब तक कोई गवैया....
*
देकर भी देने का मन हो
देने की सार्थकता तब ही.
तेरी बहिना हँसकर ले-ले
भैया का दुःख विपदा अब ही..
दूज-गीत, राखी-कविता संग
तूने भेजी खुशियाँ सब ही.
तेरी चाहत, मेरी ताकत
भौजी की सौ बार बलैंया...
*****

हिंदी शब्द सलिला : १९ 'अग' से प्रारंभ शब्द : ६. ---संजीव 'सलिल'

हिंदी शब्द सलिला : १९       संजीव 'सलिल'*
संकेत : अ.-अव्यय, अर. अरबी, अक्रि.-अकर्मक क्रिया, अप्र.-अप्रचलित, अर्थ.-अर्थशास्त्र, अलं.- अलंकार, अल्प-अल्प (लघुरूप) सूचक, आ.-आधुनिक, आयु.-आयुर्वेद, इ.-इत्यादि, इब.-इबरानी, उ. -उर्दू, उदा.-उदाहरण, उप.-उपसर्ग, उपनि.-उपनिषद, अं.-अंगिका, अंक.-अंकगणित, इ.-इंग्लिश/अंगरेजी, का.-कानून, काम.-कामशास्त्र, क्व.-क्वचित, ग.-गणित, गी.-गीता, गीता.-गीतावली, तुलसी-कृत, ग्रा.-ग्राम्य, ग्री.-ग्रीक., चि.-चित्रकला, छ.-छतीसगढ़ी, छं.-छंद, ज.-जर्मन, जै.-जैन साहित्य, ज्या.-ज्यामिति, ज्यो.-ज्योतिष, तं.-तंत्रशास्त्र, ति.-तिब्बती, तिर.-तिरस्कारसूचक, दे.-देशज, देव.-देवनागरी, ना.-नाटक, न्या.-न्याय, पा.-पाली, पारा.- पाराशर संहिता, पु.-पुराण, पुल.-पुल्लिंग, पुर्त. पुर्तगाली, पुरा.-पुरातत्व, प्र.-प्रत्यय, प्रा.-प्राचीन, प्राक.-प्राकृत, फा.-फ़ारसी, फ्रे.-फ्रेंच, ब.-बघेली, बर.-बर्मी, बहु.-बहुवचन, बि.-बिहारी, बुं.-बुन्देलखंडी, बृ.-बृहत्संहिता, बृज.-बृजभाषा  बो.-बोलचाल, बौ.-बौद्ध, बं.-बांग्ला/बंगाली, भाग.-भागवत/श्रीमद्भागवत, भूक्रि.-भूतकालिक क्रिया, मनु.-मनुस्मृति, महा.-महाभारत, मी.-मीमांसा, मु.-मुसलमान/नी, मुहा. -मुहावरा,  यू.-यूनानी, यूरो.-यूरोपीय, योग.योगशास्त्र, रा.-रामचन्द्रिका, केशवदास-कृत, राम.- रामचरितमानस-तुलसीकृत, रामा.- वाल्मीकि रामायण, रा.-पृथ्वीराज रासो, ला.-लाक्षणिक, लै.-लैटिन, लो.-लोकमान्य/लोक में प्रचलित, वा.-वाक्य, वि.-विशेषण, विद.-विदुरनीति, विद्या.-विद्यापति, वे.-वेदान्त, वै.-वैदिक, व्यं.-व्यंग्य, व्या.-व्याकरण, शुक्र.-शुक्रनीति, सं.-संस्कृत/संज्ञा, सक्रि.-सकर्मक क्रिया, सर्व.-सर्वनाम, सा.-साहित्य/साहित्यिक, सां.-सांस्कृतिक, सू.-सूफीमत, सूर.-सूरदास, स्त्री.-स्त्रीलिंग, स्मृ.-स्मृतिग्रन्थ, ह.-हरिवंश पुराण, हिं.-हिंदी.     
'अग' से प्रारंभ शब्द : ६.
संजीव 'सलिल'*
अग्नि - स्त्री. सं. आग, पंच महाभूतों/पंचतत्वों में से तेज तत्व, प्रकाश, उष्णता, गर्मी, गरमी, जठराग्नि, पित्त, अग्निकर्म जलने की क्रिया, सोना, ३ की संख्या (वैद्यक/आयुर्वेद के अनुसार अग्नि के ३ भेद: १. भौमाग्नि=काष्ठादि  से उत्पन्न, २. दिव्याग्नि = उल्का, विद्युत्, तड़ित आदि, ३. जठराग्नि = उदार/पेट में उत्पन्न अग्नि. कर्मकांड के अनुसार ३ अग्नियाँ: गार्हपत्य, आहवनीय, दक्षिणाग्नि. शरीरस्थ १० अग्नियाँ: भ्राजक, रंजक, क्लेदक, स्नेहक, धारक, बंधक, द्रावक,व्यापक, मापक, श्लेष्मक), चित्रक, नीबू, भिलावाँ,' र' का प्रतीक.-कण-पु. चिंगारी, चिन्गारी.-कर्म/कर्मन -पु. अग्निहोत्र, शवदाह, अंत्येष्टि, गर्म लोहे से दागना.-कला-स्त्री. अग्नि के दशविध अवयवों-वर्णों या मूर्तियों में से कोई एक.-काण्ड/कांड-पु.
आग लगाना, जलाना, आगजनी.-कारिका-स्त्री. 'अग्निदूतं पुरोदधे...' मन्त्र जिससे अग्न्याध्यान किया जाता है.-कार्य- पु. अग्नि में आहुति देना, लोहे से दागना, गर्म तेल आदि से अर्बुद/मस्से आदि को जलाना, देखें 'प्रतिसारण'.-काष्ठ- पु. अरणीकी लकड़ी.-कीट-पु. समंदर नामक कीड़ा.-कुण्ड/कुंड-पु. वेदी, हवनकुंड.-कुक्कुट-पु. लूका.-कुमार-पु. शिवके पुत्र कार्तिकेय, एक अग्निवर्धक रस. -कुल-पु.क्षत्रियों का एक वंश जिसकी उत्पत्ति अग्निकुंड से मान्य है: परमार, 
परिहार,चालुक्य/सोलंकी, चौहान/चव्हाण.-केतु-पु. धुआँ, शिव, रावण सेना के दो राक्षस जो राम द्वारा मारे गये थे.-कोण-पु., आग्नेय-पु.-दिक्/दिशा-स्त्री. पूर्व-दक्षिण का कोना,-क्रिया-स्त्री. शव का दाह, दागना.-क्रीड़ा-स्त्री. आतिशबाजी, रंग-बिरंगी विद्युत्-सज्जा, बिजली से सजावट.-गर्भ- वि.जिसके अन्दर आग हो, जिससे आग उत्पन्न हो. पु. अरनी, सूर्यकांत मणि, आतिशी शीशा. -पर्वत-पु. ज्वालामुखी पहाड़,.-गर्भा-स्त्री. शमी वृक्ष, महाज्योतिष्मती लता, पृथ्वी.-गृह-पु.होमाग्नि रखने का स्थान.-चक्र-शरीर के अन्दर के ६ चक्रों में से एक योग.-चय/चयन- पु. अग्न्याधान/अग्न्याधान करने का मन्त्र,-चित-अग्निहोत्री,-/जन्/जन्मा/जात-पु. अग्निजार वृक्ष, सुवर्ष, कार्तिकेय, विष्णु.वि. अग्नि से उत्पन्न, अग्नि उत्पन्न करनेवाला/अग्निद, पाचक.-जार/जा-पु.सिन्धुफला, गजपिप्पली का पेड़.-जिव्ह-पु. देवता, वाराह रूपधारी विष्णु, वि. अग्नि ही जिसकी जीभ है.-जिव्हा-स्त्री. आग की लपट, अग्नि की ७ जीभें काली, कराली, मनोजवा, सुलोहिता,धूम्रवर्णा, उग्रा, प्रदीप्ता, लांगली वृक्ष, जिसकी जीभ आग उगलती हो, जिसके बोलने से सुननेवाले को आग लगने की तरह प्रतीत हो.-जीवी/विन-पु. अग्नि के आधार पर काम करनेवाला/जिसका काम बिना अग्नि के न हो सके-सुनार, लुहार, हलवाई आदि. -ज्वाल- पु. शिव.-ज्वाला-स्त्री.
आग की लपट, जलपिप्पली, घातकी.-टुंडावती-स्त्री. अजीर्ण दूर करने की एक गोली आयु.-तेजा/तेजस- वि. अग्नि सदृश तेजधारी.-त्रय- पु.-त्रेता/त्रयी- स्त्री. यथाविधि स्थापित ३ प्रकार की अग्नि गार्हपत्य, आहवनीय, रक्षित. -दंड- पु. आग में जलाने का दंड.-- पु. आग देने/लगाने वाला दाहक, जलानेवाला.-दग्ध-वि. चिता पर विधिवत जलाया गया.पु. एक पितृवर्ग.-दमनी-स्त्री. एक क्षुप.-दाता/तृ-पु. अंतिम कृत्य (दाहकर्म) करनेवाला. -दान-पु. जलाना, शवदाह,-दिव्य-पु.अग्निपरीक्षा,-दीपक-वि. पाचनशक्तिवर्धक,-दीपन-पु. जठराग्नि का दीपन, पाचनशक्ति की वृद्धि, पाचनशक्तिवर्धक औषधि. -दीप्ता- स्त्री. महाज्योतिष्मती लता.-दूत-पु. यज्ञ, यज्ञ में आवाहित देवता.-देव-अग्नि भगवान -'प्रगटे अगिनी देव चरु लीन्हें' राम.-देवा-स्त्री. कृत्तिका नक्षत्र.-धान- पवित्र अग्नि रखने का स्थान.-नक्षत्र-कृत्तिका नक्षत्र.-निर्यास- पु. अग्निजार वृक्ष.-नेत्र- पु. देवता मात्र.-पक्व-वि. आगपर पकाया हुआ.-पथ-पु. जलते अंगारे जिन पर भक्त चलते हैं, डॉ. हरिवंशराय बच्चन की प्रसिद्ध कविता, अमिताभ बच्चन अभिनीत हिन्दी चलचित्र. 
-परिक्रिया-स्त्री. अग्निचर्या, होमादि करना.-परिगृह-पु. शास्त्रोक्त अग्नि को अखंड रखने का व्रत.-परिधान-पु. यज्ञाग्नि को परदेसे घेरना.-परीक्षा-स्त्री. अग्नि द्वारा परीक्षा,जलती आग या खौलते तेल से किसी के दोषी/
निर्दोष होने की जाँच, सोने-चाँदीआदि को आग में तपकर परखना, कठिन परीक्षा.-पर्वत-पु. ज्वालामुखी पहाड़ -पुराण-पु. महर्षि व्यास द्वारा लिखे गये १८ महापुराणों में
से एक जिसे अग्नि ने सर्वप्रथम वशिष्ठ ऋषि को सुनाया था.-पूजक-पु. आग की पूजा करनेवाला, पारसी.-प्रणयन-पु. अग्निहोत्रकी अग्नि का मन्त्रपूर्वक संस्कार करना.-प्रतिष्ठा-स्त्री. धार्मिक कृत्यों विशेषकर विवाह के अवसर पर अग्नि का आवाहन-पूजन.-प्रवेश-पु. आग में प्रवेश, स्त्री का पति की चिता में प्रवेश.-प्रस्तर-पु. चकमक पत्थर.-बाण- वह तीर जिससे आग की लपट निकले.बाहु-धुआँ, स्वायंभुव मनु का एक पुत्र.-बीज- सोना, 'र' अक्षर.--पु. सोना, कृत्तिका नक्षत्र. वि. अग्नि जैसा चमकनेवाला.-भक्षक/भक्षी-आग खानेवाला. -भू-पु.कार्तिकेय.-भूति-अंतिम तीर्थ करके लौटे ११ शिष्यों में से एक.-मंथ/मंथन-अरणी से रगड़कर आग उत्पन्न करना/इस हेतु प्रयुक्त मंत्र, गनयारी का पेड़.-मथ-पु. अरनी की दो टहनियों से रगड़कर आग उत्पन्न करनेवाला याज्ञिक, अग्निमंथनका मंत्र. अरणीकी लकड़ी.-मणि- पु. सूर्यकांत मणि, आतिशी शीशा.-मान्द्य-पु. जठराग्नि का मंद हो जाना, मन्दाग्नि, हाजमें की खराबी.-मारुति-पु. अगस्त्य ऋषि.-मित्र-पु. शुंगवंशका एक राजा, पुष्यमित्र का बेटा.मिसाइल-स्त्री.भारत का  प्रक्षेपास्त्र जो सुदूर लक्ष्य का अचूक भेदन करने में सक्षम है.-मुख-ब्राम्हण, देवता, प्रेत, अग्निहोत्री, चीते का पेड़,
भिलावाँ, एक अग्निवर्धक चूर्ण.-मुखी-स्त्री. गायत्री मंत्र, भिलावाँ, पाकशाला.-युग-पु. ज्योतिष में मानेगये ५ युगों में से एक.-योजन-पु. अग्नि प्रज्वलित करने की क्रिया.-रंजक-वि. आग से मनोरंजन करनेवाला.-रंजन-आग से खेलकर मनोरंजन करने की कला.-रजा/रजस-पु. बीरबहूटी, वर्षाकाल के बाद हरी घास में मिलनेवाला लाल-मखमली कीड़ा, सोना.-रहस्य-पु. अग्नि की उपासना का रहस्य, शतपथ ब्राम्हण का दसवाँ काण्ड.-रक्षक-पु. आगसे बचानेवाला/लड़नेवाला, फायरफाइटर.-रुहा-स्त्री. मांसरोहिणी नामक पौधा,-रेता/रेतस-पु. सोना.-रोधक- पु. वि. वारक, आग से बचनेवाला, जिस पर आग असर न करे, फायरप्रूफ देखें अग्निसह.इ.-रोहिणी-स्त्री. काँख में
निकलनेवाला फोड़ा जिसमें ज्वर होता है, कँखौरी.-लिंग-पु. आग की लपट
देखकर शुभाशुभ बताने की विद्या.-लोक- पु. अग्निदेव का लोक.-वंश- पु. अग्निकुल.-वधु-स्त्री. स्वाहा.-वर्च/वर्चस-पु. अग्नि का तेज.-वर्ण-वि. अग्नि जैसे रंगवाला.-वर्णा-स्त्री. तेज शराब.-वर्धक/न-वि. पाचनशक्ति बढ़ानेवाला.-वर्षा- स्त्री. बंदूक की गोली, तोप के गोले, बम आदि लगातार गिरना/मिलना/पड़ना.-वल्लभ-पु. अग्निदेव, शाल वृक्ष, राल.-वारक-पु. वि. रोधक, आग से बचनेवाला, जिस पर आग असर न करे, फायरप्रूफ देखें अग्निसह.-वासा/सस-वि. अग्नितुल्य शुद्ध वस्त्रवाला, जो लाल कपड़े पहने हो.-वाह-धुआँ, बकरा.वि. अग्निवाहक.-वाहन- पु. बकरा.-बिंदु-चिंगारी.-विद-वि. अग्निहोत्र जाननेवाला, पु. अग्निहोत्री.-विद्या- स्त्री. अग्निहोत्र, आग से लड़ने/को
नियंत्रित करने की विद्या.-विसर्प-पु. अर्बुद/बवासीर रोगजनित जलन.-वीर्य-अग्नि जैसे तेजवाला. पु. अग्नि का तेज, सोना.-वेश-अग्नि जैसे तेजस्वी, एक आयुर्वेदाचार्य/प्राचीन ऋषि.-शर्मा/शर्मन-अति क्रोधी, एक ऋषि.-शामक दल-दमकल, अग्नि बुझानेवाला प्रशिक्षित दल.-शाला-स्त्री. अग्न्याधान का स्थान.-शिख-पु. कुसुम का वृक्ष, केसर, सोना, दीपक, बाण.-वि. अग्नि जैसी शिखा, ज्वाला या दीप्तिवाला.-शिखा-स्त्री. आग की ज्वाला/लपट, कलियारी पौधा.-शुद्धि-स्त्री. आग में तपाकर शुद्ध करना, अग्निपरीक्षा.-शेखर-पु. केसर, कुसुम, सोना.-ष्टोम-पु. यज्ञविशेष.-ष्ठ-वि. आग पर रखा हुआ, आग पर स्थित, विस्फोटक स्थिति.-ष्वात्त-पु. पितरों का एक गण/वर्ग.-संभव-वि. आग से उत्पन्न. पु.अरन्यकुसुम, सोना, भोजन का रस.-संस्कार-पु. आग जलाना/लगाना, तप्त/गरम करना, अग्नि द्वारा शुद्धि करना, मृतक-दाह, श्राद्ध में एक विधि,-संहिता-स्त्री. अग्निवेश-रचित चिकित्सा-ग्रन्थ,-सखा/सहाय-पु. वायु, धुआँ, जंगली कबूतर,-समाधि-स्त्री.
यौगिक क्रिया द्वारा अपने शरीर को जलाना.-सह-जिस पर अग्नि का असर न हो, जो अग्नि/ताप को सहन करले, अदाह्य, जिसे जलाया न जा सके, फायरप्रूफ इ.-साक्षिक-वि. अग्नि जिसका साक्षी हो, अग्नि को साक्षी कर किया 
गया कार्य.-सात-वि. आग में जलाया हुआ, भस्मसात.-सार-पु. रसांजन.-सेवन- आग तपना/सेंकना.-स्तंभ/स्तंभन-पु. अग्नि की दाहक शक्ति रोकने की क्रिया.हेतु मन्त्र/औषधि.-स्तोक-पु. चिंगारी.-स्नान-पु. आग में जल जाना.-होत्र-पु. वैदिक मन्त्रों से अग्नि में आहुति देना, विवाह की साक्षीभूत अग्नि में नियमपूर्वक हवन करना.-होत्री/त्रिन-वि. पु. अग्निहोत्र करनेवाला.

धनतेरस पर विशेष गीत... प्रभु धन दे... संजीव 'सलिल'

धनतेरसपर विशेष गीत...

प्रभु धन दे...

संजीव 'सलिल'
*
प्रभु धन दे निर्धन मत करना.
माटी को कंचन मत करना.....
*
निर्बल के बल रहो राम जी,
निर्धन के धन रहो राम जी.
मात्र न तन, मन रहो राम जी-
धूल न, चंदन रहो राम जी..

भूमि-सुता तज राजसूय में-
प्रतिमा रख वंदन मत करना.....
*
मृदुल कीर्ति प्रतिभा सुनाम जी.
देना सम सुख-दुःख अनाम जी.
हो अकाम-निष्काम काम जी-
आरक्षण बिन भू सुधाम जी..

वन, गिरि, ताल, नदी, पशु-पक्षी-
सिसक रहे क्रंदन मत करना.....
*
बिन रमेश क्यों रमा राम जी,
चोरों के आ रहीं काम जी?
श्री गणेश को लिये वाम जी.
पाती हैं जग के प्रणाम जी..

माटी मस्तक तिलक बने पर-
आँखों का अंजन मत करना.....
*
साध्य न केवल रहे चाम जी,
अधिक न मोहे टीम-टाम जी.
जब देना हो दो विराम जी-
लेकिन लेना तनिक थाम जी..

कुछ रच पाए कलम सार्थक-
निरुद्देश्य मंचन मत करना..
*
अब न सुनामी हो सुनाम जी,
शांति-राज दे, लो प्रणाम जी.
'सलिल' सभी के सदा काम जी-
आये, चल दे कर सलाम जी..

निठुर-काल के व्याल-जाल का
मोह-पाश व्यंजन मत करना.....
*

गुरुवार, 28 अक्तूबर 2010

हिंदी शब्द सलिला : १८ 'अग' से प्रारंभ शब्द : ५. --संजीव 'सलिल'

हिंदी शब्द सलिला : १८       संजीव 'सलिल'

*
संकेत : अ.-अव्यय, अर. अरबी, अक्रि.-अकर्मक क्रिया, अप्र.-अप्रचलित, अर्थ.-अर्थशास्त्र, अलं.- अलंकार, अल्प-अल्प (लघुरूप) सूचक, आ.-आधुनिक, आयु.-आयुर्वेद, इ.-इत्यादि, इब.-इबरानी, उ. -उर्दू, उदा.-उदाहरण, उप.-उपसर्ग, उपनि.-उपनिषद, अं.-अंगिका, अंक.-अंकगणित, इ.-इंग्लिश/अंगरेजी, का.-कानून, काम.-कामशास्त्र, क्व.-क्वचित, ग.-गणित, गी.-गीता, गीता.-गीतावली, तुलसी-कृत, ग्रा.-ग्राम्य, ग्री.-ग्रीक., चि.-चित्रकला, छ.-छतीसगढ़ी, छं.-छंद, ज.-जर्मन, जै.-जैन साहित्य, ज्या.-ज्यामिति, ज्यो.-ज्योतिष, तं.-तंत्रशास्त्र, ति.-तिब्बती, तिर.-तिरस्कारसूचक, दे.-देशज, देव.-देवनागरी, ना.-नाटक, न्या.-न्याय, पा.-पाली, पारा.- पाराशर संहिता, पु.-पुराण, पुल.-पुल्लिंग, पुर्त. पुर्तगाली, पुरा.-पुरातत्व, प्र.-प्रत्यय, प्रा.-प्राचीन, प्राक.-प्राकृत, फा.-फ़ारसी, फ्रे.-फ्रेंच, ब.-बघेली, बर.-बर्मी, बहु.-बहुवचन, बि.-बिहारी, बुं.-बुन्देलखंडी, बृ.-बृहत्संहिता, बृज.-बृजभाषा  बो.-बोलचाल, बौ.-बौद्ध, बं.-बांग्ला/बंगाली, भाग.-भागवत/श्रीमद्भागवत, भूक्रि.-भूतकालिक क्रिया, मनु.-मनुस्मृति, महा.-महाभारत, मी.-मीमांसा, मु.-मुसलमान/नी, मुहा. -मुहावरा,  यू.-यूनानी, यूरो.-यूरोपीय, योग.योगशास्त्र, रा.-रामचन्द्रिका, केशवदास-कृत, राम.- रामचरितमानस-तुलसीकृत, रामा.- वाल्मीकि रामायण, रा.-पृथ्वीराज रासो, ला.-लाक्षणिक, लै.-लैटिन, लो.-लोकमान्य/लोक में प्रचलित, वा.-वाक्य, वि.-विशेषण, विद.-विदुरनीति, विद्या.-विद्यापति, वे.-वेदान्त, वै.-वैदिक, व्यं.-व्यंग्य, व्या.-व्याकरण, शुक्र.-शुक्रनीति, सं.-संस्कृत/संज्ञा, सक्रि.-सकर्मक क्रिया, सर्व.-सर्वनाम, सा.-साहित्य/साहित्यिक, सां.-सांस्कृतिक, सू.-सूफीमत, सूर.-सूरदास, स्त्री.-स्त्रीलिंग, स्मृ.-स्मृतिग्रन्थ, ह.-हरिवंश पुराण, हिं.-हिंदी.     

'अग' से प्रारंभ शब्द : ५.

संजीव 'सलिल'
*
अगु - पु. सं. राहु, अन्धकार.
अगुआ - पु. आगे चलनेवाला, मुखिया. पथप्रदर्शक, विवाह तय करानेवाला, बिचौलिया, दलाल, बिचुआ, घटक,  आगे का हिस्सा.
अगुआई - स्त्री. नेतृत्व, मार्गदर्शन, अगवानी, नायकत्व.
अगुआना - सक्रि. अगुआ बनना, अक्रि. आगे जाना.
अगुआनी - स्त्री. आगे जाकर स्वागत करना.
अगुण - वि. सं. निर्गुण, गुणरहित, गुणहीन, अनाड़ी. पु. अवगुण, दोष.-ज्ञ -जिसे गुण की परख न हो, गँवार.-वादी/दिन-वि. दोष निकलने वाला, छिद्रान्वेषी.-शील-वि. अयोग्य, निकम्मा.
अगुणी / णिन - वि. सं. गुणहीन, निर्गुण.
अगुरु - पु. सं. अगर, शीशम का पेड़. वि. हल्का, लघु (वर्ण), निगुरा, गुरु से भिन्न, जो गुरु न हो.
अगुवा - पु. देखें अगुआ.
अगुवानी - स्त्री, देखें अगवानी.
अगुसरना - अक्रि. आगे बढ़ना.
अगुसारना - सक्रि. आगे बढ़ाना.
अगूठना - सक्रि. अगोटना, घेर लेना.
अगूठा -  पु. घेरा.
अगूढ़ -  वि. सं. प्रगट, स्पष्ट, सहज.-गंध-पु.,-गंधा-स्त्री. हींग.-भाव-वि. जिसका भाव/अर्थ गूढ़/छिपा न हो. सरलचित्त.
अगूता - अ. आगे, सामने.
अगृ - वि. सं. गृहहीन, बेघर, बिना घर-द्वार का. पु. वानप्रस्थ.
अगेंद्र - पु. सं. हिमालय, हिमगिरि.
अगेथू - पु. देखें अँगेथू.
अगेह - वि. सं. देखें अगृह.
अगोई - वि. स्त्री. जो गुप्त न हो, प्रगट. नोक या सिरा -'हिरनी की खुरियाँ... जिनकी नुकीली अगोइयों ने उसकी खाल उधेड़ दी हो. -नवनीत, दिसंबर १९६२.
अगोचर - वि. सं. जिसका ज्ञान इंद्रियों से न हो सके, इन्द्रियों से परे, इन्द्रियातीत, अप्रगट. पु. वह जो इन्द्रियातीत हो, वह जिसे देखा या जाना न जा सके, ब्रम्ह, ईश्वर, भगवान.
अगोट - पु. आड़, रोक, बाधा, अटक, आश्रय, सहारा, सुरह्षित स्थान. वि. अकेला, गुटरहित, सुरक्षित.
अगोटना - सक्रि. छेंकना, घेरना, छिपा/रोक रखना, फँसना, उलझना.
अगोता - अ. सम्मुख/आगे. पु. अगवानी.
अगोरदार - पु. रखवाली करनेवाला, रखवाला, रक्षक.
अगोरना - सक्रि. बाट जोहना, रखवाली करना, रोकना.
अगोरा - पु. अगोरने की क्रिया, रखवाली देखें अगोरिया.
अगोरिया - पु. खेत आदि की रखवाली करने वाला.
अगोही - पु. आगे की ओर निकले हुए सींगोंवाला बैल.
अगोह्य - वि. सं. जो छिपाये/ढँके जाने योग्य न हो, प्रकाश्य. 
अगौंड़ी - वि. जो गौंड़ (आदिवासियों की एक जाति) न हो. स्त्री. देखें अगाव.
अगौका (कस)  - पु. सं. पर्वतवासी, सिंह, पक्षी, शरभ.
अगौढ़ - पु. पेशगी/अग्रिम ड़ी जानेवाली रकम/धनराशि.
अगौता - अ. आगे. पु. अगवानी, पेशगी.
अगौनी - स्त्री. देखें अगवानी, बरात आने पर द्वार पूजा के समय छोड़ी जानेवाली आतिशबाजी. अ. आगे.
अगौरा - पु. देखें अगाव.
अगौरी/अगौली - स्त्री. एक तरह की ईख/गन्ना.
अगौहें - अ. आगे, आगे की ओर.
अग्ग - वि., अ. देखें अग्र.
अग्गरवाल - वि. वैश्यों/वणिकों का एक वर्ग., देखें अग्रवाल.
अग्गई - स्त्री. हाथभर लम्बी पत्तियोंवाला एक वृक्ष जो अवध क्षेत्र में अधिक पाया जाता है.
अग्गे - अ. आगे, अग्र.
अग्नायी - स्त्री. सं. अग्नि देव की स्त्री/शक्ति, स्वाहा, समिधा, त्रेता युग. 
                                                                                                                                                                     निरंतर......
    

बालगीत: अनुष्का संजीव 'सलिल'

बालगीत:

अनुष्का

संजीव 'सलिल'
*
(लोस एंजिल्स अमेरिका से अपनी मम्मी रानी विशाल के साथ ददिहाल-ननिहाल भारत आई नन्हीं अनुष्का के लिए है यह गीत)

 लो भारत में आई अनुष्का.
सबके दिल पर छाई अनुष्का.

यह परियों की शहजादी है.
खुशियाँ अनगिन लाई अनुष्का..

है नन्हीं, हौसले बड़े हैं.
कलियों सी मुस्काई अनुष्का..

दादा-दादी, नाना-नानी,
मामा के मन भाई अनुष्का..

सबसे मिल मम्मी क्यों रोती?
सोचे, समझ न पाई अनुष्का..

सात समंदर दूरी कितनी?
कर फैला मुस्काई अनुष्का..

जो मन भाये वही करेगी.
रोको, हुई रुलाई अनुष्का..

मम्मी दौड़ी, पकड़- चुपाऊँ.  
हाथ न लेकिन आई अनुष्का..

ठेंगा दिखा दूर से हँस दी .
भरमा मन भरमाई अनुष्का..

**********************

रवींद्र खरे का कथा संग्रह 'तुम्हारे लिये' विमोचित


रवींद्र खरे का कथा संग्रह 'तुम्हारे लिये' विमोचित

भोपाल. हिन्दी के यशस्वी कथाकार श्री रवींद्र खरे 'अकेला' की आकाशवाणी से प्रसारित कहानियों का संग्रह 'तुम्हारे लिये' का विमोचन मध्य प्रदेश के साहित्य प्रेमी राज्यपाल महामहिम रामेश्वर ठाकुर के कर कमलों से अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के अखिल भारतीय अध्यक्ष श्री कैलाश नारायण सारंग, भूतपूर्व सांसद की विशेष उपस्थिति में संपन्न हुआ. श्री खरे को दिव्यनर्मदा परिवार की अनंत-अशेष शुभ कामनाएँ और बधाइयाँ.

हिंदी शब्द सलिला : १७ 'अग' से प्रारंभ शब्द : ४. संजीव 'सलिल'

हिंदी शब्द सलिला : १७  संजीव 'सलिल'



*
संकेत : अ.-अव्यय, अर. अरबी, अक्रि.-अकर्मक क्रिया, अप्र.-अप्रचलित, अर्थ.-अर्थशास्त्र, अलं.- अलंकार, अल्प-अल्प (लघुरूप) सूचक, आ.-आधुनिक, आयु.-आयुर्वेद, इ.-इत्यादि, इब.-इबरानी, उ. -उर्दू, उदा.-उदाहरण, उप.-उपसर्ग, उपनि.-उपनिषद, अं.-अंगिका, अंक.-अंकगणित, इ.-इंग्लिश/अंगरेजी, का.-कानून, काम.-कामशास्त्र, क्व.-क्वचित, ग.-गणित, गी.-गीता, गीता.-गीतावली, तुलसी-कृत, ग्रा.-ग्राम्य, ग्री.-ग्रीक., चि.-चित्रकला, छ.-छतीसगढ़ी, छं.-छंद, ज.-जर्मन, जै.-जैन साहित्य, ज्या.-ज्यामिति, ज्यो.-ज्योतिष, तं.-तंत्रशास्त्र, ति.-तिब्बती, तिर.-तिरस्कारसूचक, दे.-देशज, देव.-देवनागरी, ना.-नाटक, न्या.-न्याय, पा.-पाली, पारा.- पाराशर संहिता, पु.-पुराण, पुल.-पुल्लिंग, पुर्त. पुर्तगाली, पुरा.-पुरातत्व, प्र.-प्रत्यय, प्रा.-प्राचीन, प्राक.-प्राकृत, फा.-फ़ारसी, फ्रे.-फ्रेंच, ब.-बघेली, बर.-बर्मी, बहु.-बहुवचन, बि.-बिहारी, बुं.-बुन्देलखंडी, बृ.-बृहत्संहिता, बृज.-बृजभाषा  बो.-बोलचाल, बौ.-बौद्ध, बं.-बांग्ला/बंगाली, भाग.-भागवत/श्रीमद्भागवत, भूक्रि.-भूतकालिक क्रिया, मनु.-मनुस्मृति, महा.-महाभारत, मी.-मीमांसा, मु.-मुसलमान/नी, मुहा. -मुहावरा,  यू.-यूनानी, यूरो.-यूरोपीय, योग.योगशास्त्र, रा.-रामचन्द्रिका, केशवदास-कृत, राम.- रामचरितमानस-तुलसीकृत, रामा.- वाल्मीकि रामायण, रा.-पृथ्वीराज रासो, ला.-लाक्षणिक, लै.-लैटिन, लो.-लोकमान्य/लोक में प्रचलित, वा.-वाक्य, वि.-विशेषण, विद.-विदुरनीति, विद्या.-विद्यापति, वे.-वेदान्त, वै.-वैदिक, व्यं.-व्यंग्य, व्या.-व्याकरण, शुक्र.-शुक्रनीति, सं.-संस्कृत/संज्ञा, सक्रि.-सकर्मक क्रिया, सर्व.-सर्वनाम, सा.-साहित्य/साहित्यिक, सां.-सांस्कृतिक, सू.-सूफीमत, सूर.-सूरदास, स्त्री.-स्त्रीलिंग, स्मृ.-स्मृतिग्रन्थ, ह.-हरिवंश पुराण, हिं.-हिंदी.     

'अग' से प्रारंभ शब्द : ४.

संजीव 'सलिल'
*
अगि - स्त्री. अग्नि का समास में प्रयुक्त विकृत रूप,-दधा-वि. अग्निदग्धा, आग से जला हुआ,-दाह- पु. देखें अग्निदाह.-हाना-पु. अग्नि जलने या रखने का स्थान.
अगिन - स्त्री. आग, एक छोटी चिड़िया, एक घास, ईख / गन्ने का ऊपरी हिस्सा. वि. बहुत अधिक, अगणित,-झाल-स्त्री. जलपिप्पली.-वाव-पु. घोड़ों / चौपायों को होने वाला एक रोग.-बोट-स्टीमर.-गोला-नापाम बम, बम जिसके फटने पर आग लग जाये.
अगिनत / अगिनित - वि. देखें अगनित.
अगिया - स्त्री. अगिन घास. पु. एक पौधा, चौपायों गायों / घोड़ों का एक रोग जिसमें पैरों में छाले पड़ जाते हैं, विक्रमादित्य का एक बैताल.-कोइलिया- पु. बैताल पच्चीसी में वर्णित दो बैताल जिन्हें विक्रमादित्य ने सिद्ध किया था.-बैताल- पु. विक्रमादित्यको सिद्ध दो बैतालों में से एक, मुंह से आग उगलनेवाला प्रेत, घूमती हुई सी ज्योति, दलदल आदि से निकलने वाली ज्वलनशील वायु जिसकी लपट दिखाई देती है.   
अगियाना - अक्रि. गरम होना, उत्तेजित होना, गुस्सा / क्रुद्ध होना. सक्रि. बर्तन को आग में डालकर शुद्ध करना.
अगियार - पु. पूजा के लिए जलायी जानेवाली आग, वि. जिसकी दमक / आग अधिक समय तक रहे या तेज हो (ईंधन लकड़ी, कोयला, कंडा आदि)
अगियारी - स्त्री. धूप की तरह अग्नि में डालने की वस्तु. पु. पारसियों का मंदिर.
अगिर - पु. सं. स्वर्ग, सूर्या, अग्नि, एक राक्षस.
अगिरी - स्त्री. घर का अगवाड़ा.
अगिरीका / कस - वि. सं. स्वर्ग में रहनेवाला, देवता. धमकी से न रुकनेवाला.
अगिला - वि. देखें अगला.
अगिलाई - स्त्री. अग्निदाह, -'जोन्ह नहीं सु नई अगिलाई', घनानन्द, झगडा लगाना, लड़वाना.
अगीठा - पु. सामने का हिस्सा, अगवाड़ा, पान जैसा किन्तु उससे बड़े आकार के पत्तोंवाला पौधा.
अगीत - छन्दरहित/तुकहीन गीत.
अगीत-पछीत - पु. अगवाड़ा-पिछवाड़ा. अ. आगे-पीछे.

नवगीत : मन की महक --- संजीव 'सलिल'

नव गीत

मन की महक

संजीव 'सलिल'
*
मन की महक
बसी घर-अँगना
बनकर बंदनवार...
*
नेह नर्मदा नहा,
छाछ पी, जमुना रास रचाये.
गंगा 'बम भोले' कह चम्बल
को हँस गले लगाये..
कहे : 'राम जू की जय'
कृष्णा-कावेरी सरयू से-
साबरमती सिन्धु सतलज संग
ब्रम्हपुत्र इठलाये..

लहर-लहर
जन-गण मन गाये,
'सलिल' करे मनुहार.
मन की महक
बसी घर-अँगना
बनकर बंदनवार...
*
विन्ध्य-सतपुड़ा-मेकल की,
हरियाली दे खुशहाली.
काराकोरम-कंचनजंघा ,
नन्दादेवी आली..
अरावली खासी-जयंतिया,
नीलगिरी, गिरि झूमें-
चूमें नील-गगन को, लूमें
पनघट में मतवाली.

पछुआ-पुरवैया
गलबहियाँ दे
मनायें त्यौहार.
मन की महक
बसी घर-अँगना
बनकर बंदनवार...
*
चूँ-चूँ चहक-चहक गौरैया
कहे हो गयी भोर.
सुमिरो उसको जिसने थामी
सब की जीवन-डोर.
होली ईद दिवाली क्रिसमस
गले मिलें सुख-चैन
मिला नैन से नैन,
बसें दिल के दिल में चितचोर.

बाज रहे
करताल-मंजीरा
ठुमक रहे करतार.
मन की महक
बसी घर-अँगना
बनकर बंदनवार...
****************

बुधवार, 27 अक्तूबर 2010

मुक्तिका सदय हुए घन श्याम संजीव 'सलिल'

मुक्तिका


सदय हुए घन श्याम


संजीव 'सलिल'
*
सदय हुए घन-श्याम सलिल के भाग जगे.
तपती धरती तृप्त हुई, अनुराग पगे..

बेहतर कमतर बदतर किसको कौन कहे.
दिल की दुनिया में ना नाहक आग लगे..

किसको मानें गैर, पराया कहें किसे?
भोंक पीठ में छुरा, कह रहे त्याग सगे..

विमल वसन में मलिन मनस जननायक है.
न्याय तुला को थाम तौल सच, काग ठगे..

चाँद जुलाहे ने नभ की चादर बुनकर.
तारों के सलमे चुप रह बेदाग़ तगे..

पाक करे नापाक हरकतें भोला बन.
कहे झूठ यह गोला रहा न दाग दगे..

मतभेदों को मिल मनभेद न होने दें.
स्नेह चाशनी में राई औ' फाग पगे..

अवढरदानी की लीला का पार कहाँ.
शिव-तांडव रच दशकन्धर ना नाग नगे..

*********************************

मुक्तिका: करवा चौथ संजीव 'सलिल'

मुक्तिका:

करवा चौथ

संजीव 'सलिल'
*
करवा चौथ मनाने आया है चंदा.
दूर चाँदनी छोड़ भटकता क्यों बंदा..

खाली जेब हुई माँगे उपहार प्रिया.
निकल पड़ा है माँग-बटोरे कुछ चंदा..

घर जा भैये, भौजी पलक बिछाए है.
मत महेश के शीश बैठ होकर मंदा..

सूरज है स्वर्णाभ, चाँद पीताभ सलिल'
साँझ-उषा अरुणाभ, निशा का तम गंदा..

हर दंपति को जी भर खुशियाँ दे मौला.
'सलिल' मनाता शीश झुका आनंदकंदा..


***************************

जनम जनम का साथ-----------रानी विशाल

जनम जनम का साथ-----------रानी विशाल













मांग सिंदूर, माथे पर बिंदिया
रचाई मेहंदी दोनों हाथ
साज सिंगार कर, आज मैं निखरी
लिए भाग सुहाग की आस
प्रिय यह जनम-जनम का साथ

पुण्य घड़ी का पुण्य मिलन बना 
मेरे जग जीवन की आस
पूर्ण हुई मैं, परिपूर्ण आभिलाषा 
जब से पाया पुनीत यह साथ
प्रिय यह जनम-जनम का साथ

व्रत, पूजन कर दे अर्ध्य चन्द्र को
मांगू आशीष विशाल ये आज
जियूं सुहागन, मरू सुगागन 
रहे अमर प्रेम सदा साथ
प्रिय यह जनम जनम का साथ

हर युग, हर जीवन, मिले साथ तुम्हारा
रहे तुम्हीं से चमकते भाग
मैं-तुम, तुम-मैं, रहे एक सदा हम
कभी ना छूटे यह विश्वास
प्रिय यह जनम-जनम का साथ 



आज करवा चौथ के पावन दिन पूरी आस्था और विश्वास के साथ परम पिता परमेश्वर के चरणों में यह परम अभिलाषा समर्पित है और आप सभी मेरे ब्लॉग परिवार को भी मेरा चरण वंदन आज कमेन्ट में अपने स्नेह के साथ यही आशीष प्रदान करें कि मैं हर जीवन हर जन्म अखंड विशाल सौभाग्य प्राप्त करूँ ....

मंगलवार, 26 अक्तूबर 2010

दोहा सलिला: भाई को भाई की, भाये कुछ बात..... संजीव 'सलिल'

दोहा सलिला:

भाई को भाई की, भाये कुछ बात..... 

संजीव 'सलिल'

*

भाई को भाई की, भाये कुछ बात.....

संजीव 'सलिल'
*
जो गिरीश मस्तक धरे, वही चन्द्र को मौन.
अमिय-गरल सम भाव से, करे ग्रहण है कौन?
महाकाल के उपासक, हम न बदलते काल.
व्याल-जाल को छिन्न कर, चलते अपनी चाल..
अनुज न मेरा कभी भी, होगा तनिक हताश.
अरिदल को फेंटे बना, निज हाथों का ताश..
मेघ न रवि को कभी भी, ढाँक सके हैं मीत.
अस्त-व्यस्त खुद हो गए, गरज-बरस हो भीत..
सलिल धार को कब कहें, रोक सकी चट्टान?
रेत बनी, बिखरी, बही, रौंद रहा इंसान..
बाधाएँ पग चूम कर, हो जायेंगी दूर.
मित्रों की पहचान का, अवसर है भरपूर..
माँ सरस्वती शक्ति-श्री का अपूर्व भण्डार.
सदा शांत रह, सृजन ही उनका है आचार..
कायर उन्हें  न मानिये, कर सकती हैं नाश.
काट नहीं उनकी कहीं, डरे काल का पाश..
शब्द-साधना पथिक हम, रहें हमेशा शांत.
निबल न हमको समझ ले, कोई होकर भ्रांत..
सृजन साध्य जिसको 'सलिल', नाश न उसकी चाह.
विवश करे यदि समय तो, सहज चले उस राह..
चन्द्र-चन्द्रिका का नहीं, कुछ कर सका कलंक.
शरत-निशा कहती यही, सत्य सदा अकलंक..
वर्षा-जल की मलिनता, से न नर्मदा भीत.
अमल-विमल-निर्मल बाहें, नमन करे जग मीत..
यह साँसों की धार है, आसों का सिंगार.
कीर्ति-कथा ही अंत में, शेष रहे अविकार..
जितने कंटक-कष्ट में, खिलता जीवन-फूल.
गौरव हो उतना अधिक, कोई न सकता भूल..
हम भी झेलें विपद को, धरे अधर-मुस्कान.
तिमिर-निशा को दिवाली, करते चतुर सुजान..
************************************

हिंदी शब्द सलिला : १६ 'अग' से प्रारंभ शब्द : ३. -- संजीव 'सलिल'


हिंदी शब्द सलिला : १६       संजीव 'सलिल'


*
संकेत : अ.-अव्यय, अर. अरबी, अक्रि.-अकर्मक क्रिया, अप्र.-अप्रचलित, अर्थ.-अर्थशास्त्र, अलं.- अलंकार, अल्प-अल्प (लघुरूप) सूचक, आ.-आधुनिक, आयु.-आयुर्वेद, इ.-इत्यादि, इब.-इबरानी, उ. -उर्दू, उदा.-उदाहरण, उप.-उपसर्ग, उपनि.-उपनिषद, अं.-अंगिका, अंक.-अंकगणित, इ.-इंग्लिश/अंगरेजी, का.-कानून, काम.-कामशास्त्र, क्व.-क्वचित, ग.-गणित, गी.-गीता, गीता.-गीतावली, तुलसी-कृत, ग्रा.-ग्राम्य, ग्री.-ग्रीक., चि.-चित्रकला, छ.-छतीसगढ़ी, छं.-छंद, ज.-जर्मन, जै.-जैन साहित्य, ज्या.-ज्यामिति, ज्यो.-ज्योतिष, तं.-तंत्रशास्त्र, ति.-तिब्बती, तिर.-तिरस्कारसूचक, दे.-देशज, देव.-देवनागरी, ना.-नाटक, न्या.-न्याय, पा.-पाली, पारा.- पाराशर संहिता, पु.-पुराण, पुल.-पुल्लिंग, पुर्त. पुर्तगाली, पुरा.-पुरातत्व, प्र.-प्रत्यय, प्रा.-प्राचीन, प्राक.-प्राकृत, फा.-फ़ारसी, फ्रे.-फ्रेंच, ब.-बघेली, बर.-बर्मी, बहु.-बहुवचन, बि.-बिहारी, बुं.-बुन्देलखंडी, बृ.-बृहत्संहिता, बृज.-बृजभाषा  बो.-बोलचाल, बौ.-बौद्ध, बं.-बांग्ला/बंगाली, भाग.-भागवत/श्रीमद्भागवत, भूक्रि.-भूतकालिक क्रिया, मनु.-मनुस्मृति, महा.-महाभारत, मी.-मीमांसा, मु.-मुसलमान/नी, मुहा. -मुहावरा,  यू.-यूनानी, यूरो.-यूरोपीय, योग.योगशास्त्र, रा.-रामचन्द्रिका, केशवदास-कृत, राम.- रामचरितमानस-तुलसीकृत, रामा.- वाल्मीकि रामायण, रा.-पृथ्वीराज रासो, ला.-लाक्षणिक, लै.-लैटिन, लो.-लोकमान्य/लोक में प्रचलित, वा.-वाक्य, वि.-विशेषण, विद.-विदुरनीति, विद्या.-विद्यापति, वे.-वेदान्त, वै.-वैदिक, व्यं.-व्यंग्य, व्या.-व्याकरण, शुक्र.-शुक्रनीति, सं.-संस्कृत/संज्ञा, सक्रि.-सकर्मक क्रिया, सर्व.-सर्वनाम, सा.-साहित्य/साहित्यिक, सां.-सांस्कृतिक, सू.-सूफीमत, सूर.-सूरदास, स्त्री.-स्त्रीलिंग, स्मृ.-स्मृतिग्रन्थ, ह.-हरिवंश पुराण, हिं.-हिंदी.     

'अग' से प्रारंभ शब्द : ३.

संजीव 'सलिल'
*
अगहाट - पु. भूमि जो बहुत दिनों से किसी अन्य के अधिकार में हो और वह छोड़ने के लिये तैयार न हो.
अगहार - पु. देखें अग्रहार.
अगहुँड़ - अ. आगे, आगे की ओर. वि. आगे चलनेवाला.
अगाउनी - अ. अगौनी, आगे, अग्रिम.
अगाऊँ / अगाऊ - वि. पेशगी, आगे का, अग्रिम, अ. आगेसे, पहले से, पूर्वसे.
अगाड़ - पु. हुक्के की निगाली, ढेंकली के छोर पर लगी पतली लकड़ी.
अगाड़ा - पु. पहले भेजा जानेवाला यात्रा का सामान.
अगाड़ी - अ. आगे, पहले, सामने, भविष्य में. स्त्री. आगे का हिस्सा, घोड़े की गर्दन में बंधी रस्सियाँ, अंगरखे या कुरते के सामने का हिस्सा, सेना का पहला धावा.
अगाड़ू  - अ. आगे, पहले.
आगाता - पु. सं. अच्छा न गानेवाला व्यक्ति.
अगात्मजा - स्त्री, सं. पार्वती, .
अगाद - वि. अगाध.
अगाध - वि. सं. अतल, अथाह, अपार, अधिक, दुर्बोध, अज्ञेय. पु. स्वाहाकार की पाँच अग्नियों में से एक, गहरा छेद, गड्ढा.-जल-पु. गहरा जलाशय, बावली, झील.-रुधिर- पु. अत्यधिक रक्त, बहुत अधिक खून.
अगान - वि. अज्ञानी, नासमझ. पु. नासमझी.
अगामै - अ. आगे.
अगार - अ. आगे. पु. सं. देखें आगार.
अगारी - अ. स्त्री. देखें अगाड़ी.
अगारी / रिन - वि. सं. मकान्वाला.
अगाव - पु. ईख के ऊपर का रसहीन भाग.
अगास - पु. देखें आकाश, द्वार के सामने का चबूतरा.
अगाह - वि. अथाह, अत्यधिक, उदास, चिंतित, देखें आगाह. अ. आगे से, पहले से.
                                                                          -- निरंतर

रवींद्र खरे 'अकेला' रचित 'मेरी लघुकथाओं का पहला नाबाद शतक' विमोचित :

कृति विमोचन:
रवींद्र खरे 'अकेला' रचित 'मेरी लघुकथाओं का पहला नाबाद शतक' विमोचित :


भोपाल . मध्यप्रदेश के राज्यपाल महामहिम श्री रामेश्वर ठाकुर के करकमलों से दिव्यनर्मदा परिवार के अभिन्न अंग श्री रविन्द्र खरे 'अकेला' के नव प्रकाशित लघुकथा संग्रह 'मेरी लघुकथाओं का पहला नाबाद शतक' का विमोचन पूर्व सांसद श्री कैलाशनारायण सारंग, अध्यक्ष अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की विशेष उपस्थिति में संपन्न हुआ. श्री अकेला को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें. 

सोमवार, 25 अक्तूबर 2010

मुक्तिका: यादों का दीप संजीव 'सलिल'

मुक्तिका:

यादों का दीप

संजीव 'सलिल'
*
हर स्मृति मन-मंदिर में यादों का दीप जलाती है.
पीर बिछुड़ने से उपजी जो उसे तनिक सहलाती है..

'आता हूँ' कह चला गया जो फिर न कभी भी आने को.
आये न आये, बात अजाने, उसको ले ही आती है..

सजल नयन हो, वाणी नम हो, कंठ रुद्ध हो जाता है.
भाव भंगिमा हर, उससे नैकट्य मात्र दिखलाती है..

आनी-जानी है दुनिया कोई न हमेशा साथ रहे.
फिर भी ''साथ सदा होंगे'' कह यह दुनिया भरमाती है..

दीप तुम्हारी याद हुई, मैं दीपावली मनाऊँगा. दुनिया देखे-लेखे स्मृति जीवन-पथ दिखलाती है..

मन में मन की याद बसी है, गहरी निकल न पायेगी.
खलिश-चुभन पाथेय 'सलिल' बिछुड़े से पुनः मिलाती है..

मन मीरा या बने राधिका, पल-पल तुमको याद करे.
स्वास-आस में याद नेह बन नित नर्मदा बहाती है..
*
नर्मदा = नर्मम ददाति इति नर्मदा = जो मन-प्राणों को आनंद दे वह नर्मदा.

मुक्तिका: आँख में संजीव 'सलिल

मुक्तिका:

आँख में

संजीव 'सलिल'
*
जलती, बुझती न, पलती अगन आँख में.
सह न पाता है मन क्यों तपन आँख में ??

राम का राज लाना है कहते सभी.
दीन की कोई देखे  मरन आँख में..

सूरमा हो बड़े, सारे जग से लड़े.
सह न पाए तनिक सी चुभन आँख में..

रूप ऊषा का निर्मल कमलवत खिला
मुग्ध सूरज हुआ ले किरन आँख में..

मौन कैसे रहें?, अनकहे भी कहें-
बस गये हैं नयन के नयन आँख में..

ढाई आखर की अँजुरी लिये दिल कहे
दिल को दिल में दो अशरन शरन आँख में..

ज्यों की त्यों रह न पायी, है चादर मलिन
छवि तुम्हारी है तारन-तरन आँख में..

कर्मवश बूँद बन, गिर, बहा, फिर उड़ा.
जा मिला फिर 'सलिल' ले लगन आँख में..

साँवरे-बाँवरे रह न अब दूर रख-
यह 'सलिल' ही रहे आचमन, आँख में..

******************************

हिंदी शब्द सलिला : १५ 'अग' से प्रारंभ शब्द : २. --संजीव 'सलिल'

हिंदी शब्द सलिला : १५        संजीव 'सलिल'

*
संकेत : अ.-अव्यय, अर. अरबी, अक्रि.-अकर्मक क्रिया, अप्र.-अप्रचलित, अर्थ.-अर्थशास्त्र, अलं.- अलंकार, अल्प-अल्प (लघुरूप) सूचक, आ.-आधुनिक, आयु.-आयुर्वेद, इ.-इत्यादि, इब.-इबरानी, उ. -उर्दू, उदा.-उदाहरण, उप.-उपसर्ग, उपनि.-उपनिषद, अं.-अंगिका, अंक.-अंकगणित, इ.-इंग्लिश/अंगरेजी, का.-कानून, काम.-कामशास्त्र, क्व.-क्वचित, ग.-गणित, गी.-गीता, गीता.-गीतावली, तुलसी-कृत, ग्रा.-ग्राम्य, ग्री.-ग्रीक., चि.-चित्रकला, छ.-छतीसगढ़ी, छं.-छंद, ज.-जर्मन, जै.-जैन साहित्य, ज्या.-ज्यामिति, ज्यो.-ज्योतिष, तं.-तंत्रशास्त्र, ति.-तिब्बती, तिर.-तिरस्कारसूचक, दे.-देशज, देव.-देवनागरी, ना.-नाटक, न्या.-न्याय, पा.-पाली, पारा.- पाराशर संहिता, पु.-पुराण, पुल.-पुल्लिंग, पुर्त. पुर्तगाली, पुरा.-पुरातत्व, प्र.-प्रत्यय, प्रा.-प्राचीन, प्राक.-प्राकृत, फा.-फ़ारसी, फ्रे.-फ्रेंच, ब.-बघेली, बर.-बर्मी, बहु.-बहुवचन, बि.-बिहारी, बुं.-बुन्देलखंडी, बृ.-बृहत्संहिता, बृज.-बृजभाषा  बो.-बोलचाल, बौ.-बौद्ध, बं.-बांग्ला/बंगाली, भाग.-भागवत/श्रीमद्भागवत, भूक्रि.-भूतकालिक क्रिया, मनु.-मनुस्मृति, महा.-महाभारत, मी.-मीमांसा, मु.-मुसलमान/नी, मुहा. -मुहावरा,  यू.-यूनानी, यूरो.-यूरोपीय, योग.योगशास्त्र, रा.-रामचन्द्रिका, केशवदास-कृत, राम.- रामचरितमानस-तुलसीकृत, रामा.- वाल्मीकि रामायण, रा.-पृथ्वीराज रासो, ला.-लाक्षणिक, लै.-लैटिन, लो.-लोकमान्य/लोक में प्रचलित, वा.-वाक्य, वि.-विशेषण, विद.-विदुरनीति, विद्या.-विद्यापति, वे.-वेदान्त, वै.-वैदिक, व्यं.-व्यंग्य, व्या.-व्याकरण, शुक्र.-शुक्रनीति, सं.-संस्कृत/संज्ञा, सक्रि.-सकर्मक क्रिया, सर्व.-सर्वनाम, सा.-साहित्य/साहित्यिक, सां.-सांस्कृतिक, सू.-सूफीमत, सूर.-सूरदास, स्त्री.-स्त्रीलिंग, स्मृ.-स्मृतिग्रन्थ, ह.-हरिवंश पुराण, हिं.-हिंदी.     

'अग' से प्रारंभ शब्द : २.

संजीव 'सलिल'
*
अगदित - वि. सं. अकथित, जो कहा न गया हो.
अगन - स्त्री. अग्नि, आग, जलन, तपन. पु. दुष्टगण पिंगल. वि. अगण्य, बेशुमार उ.
अगनत / अगनित - वि. देखें अगणित.
अगनिउ - पु. अग्निकोण, आग्नेय, दक्षिण-पूर्व का कोना.
अगनी - स्त्री. घोड़े के सिर पर की भौंरी, अग्नि. वि अगनित.
अगनू - स्त्री. आग्नेय कोण, अग्नि कोण.
अगनेउ / अग्नेत - पु. अग्नि कोण.
अगम-वि. सं. न चलनेवाला, अगंता, सुदृढ़ -लंका बसत दैत्य अरु दानव, उनके अगम सरीरा. सूर., पु. वृक्ष, पहाड़. वि. देखें अगम्य. पु. देखें आगम.
अगमन-पु. सं. गमन का अभाव, न जाना. अ. आगे से पहले.
अगमनीया-वि. स्त्री. सं. देखें अगम्या.
अगमानी-पु. अगुआ, नायक, नेता. स्त्री. अगवानी.
अगमासी-स्त्री. देखें अगवाँसी.
अगम्य-वि. सं. दुर्गम, पहुँच के बाहर, अप्राप्य, अयुक्त, मन-बुद्धि के परे, कठिन, अपार, अथाह, जिससे सहवास न किया जा सके,-गा- स्त्री. अपात्र पुरुष से सम्बन्ध रखनेवाली स्त्री.-रूप- वि. जिसका रूप / स्वभाव समझ न आये. -वाक्- जिसकी वाणी /  बात समझ में न आये.
अगम्या-वि. स्त्री. सं. गमन न करनेयोग्य स्त्री, स्त्री जिसके संग सहवास / संभोग वर्जित हो, अन्त्यजा.-गमन- पु. अगम्या स्त्री से सहवास करना, एक महापातक. -गमनीय-वि. अवैध सम्बन्ध विषयक. -गामी / मिन- वि. अगम्यागमन करनेवाला.
अगर-पु. एक वृक्ष जिसकी लकड़ी में सुगंध होती है और जिसे धूप दशांग में डाला जाता है, उद. -बत्ती-  स्त्री. अगरकी बत्ती.-सार- अगरु नामक वृक्ष.  
अगर-पु. आगार, घर, आवास. -जे संसार-अंधियार अगरमें भये मगनबर- काव्यांगकौमुदी.
अगर-अ. फा. यदि, मगर, जो, किन्तु, परन्तु. -चे- अ. यद्यपि. मुहा.-मगर करना - तर्क करना, सोच-विचार करना, आगा-पीछा करना, टाल-मटोल करना.
अगरई-वि. कालापन लिये हुए सुनहरे रंग का.
अगरना-अक्रि. आगे जाना, बढ़ना.
अगरपार-पु. क्षत्रियों का एक भेद.
अगर-बगर-अ. देखें अगल-बगल.
अगरवाला/अगरवाल-पु. वैश्यों की एक जाति, अग्रवाल.
अगराई-स्त्री. स्त्री. अग्रता, श्रेष्ठता,-गिरा अगराई गुनगरिमा-गगन कौं-घन.
अगराना-सक्रि.मन बढ़ाना, लाड़-प्यार के कारण धृष्ट बनाना, अक्रि. प्यार आदि के कारण धृष्टतापूर्ण व्यवहार करना.
अगरी-स्त्री. देखें अगड़ी, फूस की छाजन का एक तरीका, बुरी बात, धृष्टता सं., एक विषनाशक द्रव्य, देवताड़ वृक्ष.
अगरु-पु. सं. अगर का पेड़ / लकड़ी.
अगरे-अ. सामने, आगे.
अगरो-वि. अगला, श्रेष्ठ, अधिक, निपुण.
अगर्व-वि. सं. गर्व / अभिमान से रहित, निरभिमान.
अगर्हित-वि. सं. जो बुरा न हो, अनिंद्य.
अगल-बगल-अ. इधर-उधर, आस-पास, निकट, समीप.
अगला-वि. आगे / सामने का, गत / बीते समय का, पुराना, जानेवाला, बादका. पु. अगुआ, चतुर, चालाक, पूर्वज, कर्णफूल में आगे लगी हुई जंजीर, गाँव और उसकी सीमा के बीच पड़नेवाले खेत.
अगवना-सक्रि. सहना, अंगेजना. अक्रि. आगे बढ़ना, अग्रसर होना.
अगवाँसी-स्त्री. हलकी वह लकड़ी जिसमें फाल लगता है.    
अगवाई-स्त्री. अगवानी. पु. अगुआ.
अगवाड़ा-पु. घर के आगे का भाग / भूमि, पिछवाड़ा का उल्टा.
अगवान-पु.अगवानी करनेवाला, अगवानी.
अगवानी- स्त्री. आगे बढ़कर मिलना/स्वागत करना, बारात के स्वागतार्थ कन्यापक्ष के बड़ों का आगे जाना. पु. अगुआ.
अगवार-खलिहान में पुरोहित / फकीर आदि को देने के लिये अलग किया जानेवाला अन्न, ओसाते उड़ावनी करते समय भूसे के साथ उड़नेवाला हल्का अन्न, गाँव का चर्मकार, देखें अगवाड़ा.
अगसर-अ. आगे, -'अगसरखेती, अगसरभार, घाघ कहैं, ये कबहूँ न हार'- अमरबेल-वृन्दावन लाल वर्मा..
अगसार / अग्सरी-अ. आगे.
अगस्त-पु. ईसवी साल का आठवाँ माह, एक ऋषि / वृक्ष देखें अगस्त्य.
अगस्ति-पु. सं. एक प्राचीन ऋषि जिन्होंने एक चुल्लू में भरकर समुद्र को पी लिया था, एक तारा, एक पेड़.
अगस्त्य-पु. सं. देखें अगस्ति, शिव.-कूट- दक्षिण भारत स्थित एक पर्वत जिससे ताम्रपर्णी नदी निकली है.-गीता- स्त्री.शांतिपर्व महाभारत में कथित एक गीता.-चार /मार्ग-पु. अगस्त नामक तरे का मार्ग.-तीर्थ-पु. दक्षिण भारत का एक प्रसिद्ध तीर्थ.-वट-पु. हिमालय पर स्थित एक पवित्र तीर्थ.-संहिता-स्त्री. अगस्त्य मुनि-रचित एक धर्मग्रन्थ.
अगस्त्योदय-पु. सं. अगस्त्य का उदय (भाद्रपद शुक्लपक्ष).
अगह-वि. अग्राह्य, पकड़ में न आने लायक, चंचल, ग्रहण न करने योग्य, दुस्साध्य, वर्णन /चिंतन के बाहर.
अगहन-पु. भारतीय वर्ष का नौवाँ माह, अग्रहायण / मार्गशीर्ष माह.
अगहनिया-वि. अगहन में होनेवाला, धान.
अगहनी-वि. अगहन में तैयार होनेवाला. स्त्री. अगहन में तैयार होनेवाली फसल. 
अगहर-आगे/पहले.                                                                                                                                                     क्रमशः

रविवार, 24 अक्तूबर 2010

नवगीत: महका-महका : संजीव सलिल

नवगीत:

महका-महका :

संजीव सलिल

*
महका-महका
मन-मंदिर रख सुगढ़-सलौना
चहका-चहका
*
आशाओं के मेघ न बरसे
कोशिश तरसे
फटी बिमाई, मैली धोती
निकली घर से
बासन माँजे, कपड़े धोए
काँख-काँखकर
समझ न आए पर-सुख से
हरसे या तरसे
दहका-दहका
बुझा हौसलों का अंगारा
लहका-लहका
*
एक महल, सौ यहाँ झोपड़ी
कौन बनाए
ऊँच-नीच यह, कहो खोपड़ी
कौन बताए
मेहनत भूखी, चमड़ी सूखी
आँखें चमकें
कहाँ जाएगी मंजिल
सपने हों न पराए
बहका-बहका
सम्हल गया पग, बढ़ा राह पर
ठिठका-ठहका
*
लख मयंक की छटा अनूठी
तारे हरषे.
नेह नर्मदा नहा चन्द्रिका
चाँदी परसे.
नर-नरेंद्र अंतर से अंतर
बिसर हँस रहे.
हास-रास मधुमास न जाए-
घर से, दर से.
दहका-दहका
सूर्य सिंदूरी, उषा-साँझ संग
धधका-दहका...
                                     साभार: अनुभूति, नवगीत की पाठशाला.
***************

अ. भा. रचना शिविर

अ. भा. रचना शिविर मुक्तिबोध की कर्मस्थली राजनांदगाँव में

रायपुर । रचनाकारों की संस्था, प्रमोद वर्मा स्मृति संस्थान, रायपुर, छत्तीसगढ़ द्वारा देश के उभरते हुए कवियों/लेखकों/निबंधकारों/कथाकारों/लघुकथाकारों/ब्लॉगरों को देश के विशिष्ट और वरिष्ठ रचनाकारों द्वारा साहित्य के मूलभूत सिद्धातों, विधागत विशेषताओं, परंपरा, विकास और समकालीन प्रवृत्तियों से परिचित कराने, उनमें संवेदना और अभिव्यक्ति कौशल को विकसित करने, प्रजातांत्रिक और शाश्वत जीवन मूल्यों के प्रति उन्मुखीकरण तथा स्थापित लेखक तथा उनके रचनाधर्मिता से तादात्मय स्थापित कराने के लिए अ.भा.त्रिदिवसीय/रचना शिविर (18, 19, 20 दिसंबर, 2010) सृजनात्मक लेखन कार्यशाला का आयोजन विश्वकवि गजानन माधव मुक्तिबोध की कार्यस्थली(त्रिवेणी परिसर), राजनांदगाँव में किया जा रहा है जिसमें देश के महत्वपूर्ण रचनाकार और विशेषज्ञ पधार रहे हैं । इस अखिल भारतीय स्तर के कार्यशाला में देश के 75 नवोदित/युवा रचनाकारों को सम्मिलित किया जायेगा ।



संक्षिप्त ब्यौरा निम्नानुसार है-
प्रतिभागियों को 20 नवंबर, 2010 तक अनिवार्यतः निःशुल्क पंजीयन कराना होगा । पंजीयन फ़ार्म संलग्न है ।

प्रतिभागियों का अंतिम चयन पंजीकरण में प्राप्त आवेदन पत्र के क्रम से होगा ।
पंजीकृत एवं कार्यशाला में सम्मिलित किये जाने वाले रचनाकारों का नाम ई-मेल से सूचित किया जायेगा ।

प्रतिभागियों की आयु 18 वर्ष से कम एवं 45 वर्ष से अधिक ना हो ।

प्रतिभागियों में 5 स्थान हिन्दी के स्तरीय ब्लॉगर के लिए सुरक्षित रखा गया है ।

प्रतिभागियों को संस्थान/कार्यशाला में एक स्वयंसेवी रचनाकार की भाँति, समय-सारिणी के अनुसार अनुशासनबद्ध होकर कार्यशाला में भाग लेना अनिवार्य होगा ।

प्रतिभागी रचनाकारों को प्रतिदिन दिये गये विषय पर लेखन-अभ्यास करना होगा जिसमें वरिष्ठ रचनाकारों द्वारा मार्गदर्शन दिया जायेगा ।

कार्यशाला के सभी निर्धारित नियमों का आवश्यक रूप से पालन करना होगा ।

प्रतिभागियों को सैद्धांतिक विषयों के प्रत्येक सत्र में भाग लेना अनिवार्य होगा । अपनी वांछित विधा विशेष के सत्र में वे अपनी इच्छानुसार भाग ले सकते हैं । प्रतिभागियों के आवास, भोजन, स्वल्पाहार, प्रशस्ति पत्र, प्रतीक चिन्ह की व्यवस्था संस्थान द्वारा किया जायेगा ।

प्रतिभागियों को कार्यशाला में संदर्भ सामग्री दी जायेगी ।

प्रतिभागियों को अपना यात्रा-व्यय स्वयं वहन करना होगा ।

प्रतिभागियों को 17 दिसंबर, 2010 दोपहर 3 बजे के पूर्व कार्यशाला स्थल –त्रिवेणी परिसर/सिंधु सदन, जीई रोड, राजनांदगाँव, छत्तीसगढ़ में अनिवार्यतः उपस्थित होना होगा । पंजीकृत/चयनित प्रतिभागी लेखकों को कार्यशाला स्थल (होटल) की जानकारी, संपर्क सूत्र आदि की सम्यक जानकारी पंजीयन पश्चात दी जायेगी ।


संपर्क सूत्र
जयप्रकाश मानस
कार्यकारी निदेशक
प्रमोद वर्मा स्मृति संस्थान, छत्तीसगढ़
एफ-3, छगमाशिम, आवासीय परिसर, पेंशनवाड़ा, रायपुर, छत्तीसगढ – 492001
ई-मेल-pandulipipatrika@gmail.com
मो.-94241-82664
पंजीयन हेतु आवेदनपत्र नमूना
01. नाम -
02. जन्म तिथि व स्थान (हायर सेंकेंडरी सर्टिफिकेट के अनुसार) -
03. शैक्षणिक योग्यता
04. वर्तमान व्यवसाय -
05. प्रकाशन (पत्र-पत्रिकाओं के नाम)
06. प्रकाशित कृति का नाम
07. ब्लॉग्स का यूआरएल – (यदि हो तो)
08. अन्य विवरण ( संक्षिप्त में लिखें)
09. पत्र-व्यवहार का संपूर्ण पता (ई-मेल सहित)
हस्ताक्षर

शनिवार, 23 अक्तूबर 2010

गीत करवा चौथ पर: माटी तो माँ होती है... संजीव 'सलिल'

गीत करवा चौथ पर:

माटी तो माँ होती है...

संजीव 'सलिल'
**
माटी तो माँ होती है...
मैं भी माँ हूँ पर माँ बनने से पहले मैं नारी हूँ.
जो है मेरा प्रीतम प्यारा मैं भी उसको प्यारी हूँ.

सास नहीं सासू माँ ने मेरी आरती उतारी थी.
परिचय-पल से कुलवधू की छवि देखी, कमी बिसारी थी..

लगा द्वार पर हस्त-छाप मैंने पल में था जान लिया.
सासू माँ ने अपना वारिस मुझको ही है मान लिया..

मुझसे पहले कभी उन्हीं के हाथों की थी छाप लगी.
मुझ पर, छापों पर थीं उनकी नजरें गहरी प्रेम-पगी..

गले लगा, पूजा गृह ले जा पीढ़े पर बैठाया था.
उनके दिल की धड़कन में मैंने निज माँ को पाया था..

दीपक की दो बाती मुझसे एक करा वे मुस्काईं.
कुलवधू नहीं, मिली है बेटी, इसमें मेरी परछाईं.

सुन सिहरी, कुलदेवों की पूजा कर ज्यों ही पाँव छुए. 
'देख इसे कुछ कष्ट न हो, वरना डाटूंगी तुझे मुए.'

माँ बेटे से बोल रहीं थी: 'इसका बहुत ध्यान रखना.
कुल-लक्ष्मी गुणवती नेक है, इसका सदा मान रखना ..'

मेरे नयन सजल, वे बोलीं: 'बेटी! जा आराम करो.
देती हूँ आशीष, समुज्ज्वल दोनों कुल का नाम करो.'

पर्व और त्यौहार मनाये हमने साथ सदा मिलकर.
गृह-बगिया में सुमन-कली जैसे रहते हैं हम खिलकर..

आई करवा चौथ, पुलक मैं पति की कुशल मनाऊँगी.
निर्जल व्रत कर मन की मृदुता को दृढ़-जयी बनाऊँगी..

सोचा, माँ बोली: 'व्रत मैं कर लूँगी, तू कुछ खा-पी ले.
उमर पड़ी है व्रत को, अभी लड़कपन है, हँसकर जी ले'

'माँ मत रोकें, व्रत करने दें, मेरे मन की आस यही.
जीवन-धन की कुशल न मानूँ इससे बढ़कर त्रास नहीं..'

माँ ने रोका, सविनय मैंने उन्हें मनाया-फुसलाया.
अनुमति पाकर मन-प्राणों ने जैसे नव जीवन पाया..

नित्य कार्य पश्चात् करी पूजा की हमने तैयारी.
तन-मन हम दोनों के प्रमुदित, श्वास-श्वास थी अग्यारी..

सास-बहू से माँ-बेटी बन, हमने यह उपवास किया.
साँझ हुई कब पता न पाया,  जी भर जीवन आज जिया..

कुशल मनाना किसी स्वजन की देता है आनंद नया.
निज बल का अनुमान न था, अनुभूति नयी यह हुई पिया..

घोर कष्ट हो, संकट आये, तनिक न मैं घबड़ाऊँगी.
भूख-प्यास जैसे हर आपद-विपदा पर जय पाऊँगी..

प्रथा पुरातन, रीति सनातन, मैं भी इसकी बनी कड़ी.
सच ही मैं किस्मतवाली हूँ, थी प्रसन्नता मुझे बड़ी..

मैका याद न आया पल भर, प्रिय को पल-पल याद किया.
वे आये-बोले: 'पल भर भी ध्यान न तुमसे हटा प्रिया..''

चाँद देख पूजा की तो निज मन को था संतोष नया.
विजयी नारी भूख-प्यास पर, अबला नाहक कहा गया..

पिता-पुत्र के नयनों में, जो कुछ था कहा न सुना गया.
श्वास-श्वास का, आस-आस का, सरस स्वप्न नव बुना गया..

माँ का सच मैंने भी पाया, धरती धैर्य न खोती है.
पति-संतानों का नारी तपकर दृढ़ संबल होती है.
                       नारी ही माँ होती है.
***************************************

मुक्तिका: पथ पर पग संजीव 'सलिल'

मुक्तिका:


पथ पर पग


संजीव 'सलिल'
*
पथ पर पग भरमाये अटके.
चले पंथ पर जो बे-खटके..

हो सराहना उनकी भी तो
सफल नहीं जो लेकिन भटके..

ऐसों का क्या करें भरोसा
जो संकट में गुप-चुप सटके..

दिल को छूती वह रचना जो
बिम्ब समेटे देशज-टटके..

हाथ न तुम फौलादी थामो.
जान न पाये कब दिल चटके..

शूलों से कलियाँ हैं घायल.
लाख़ बचाया दामन हट के..

गैरों से है नहीं शिकायत
अपने हैं कारण संकट के..

स्वर्णपदक के बने विजेता.
पाठ्य पुस्तकों को रट-रट के..

मल्ल कहाने से पहले कुछ
दाँव-पेंच भी सीखो जट के..

हों मतान्तर पर न मनांतर
काया-छाया चलतीं सट के..

चौपालों-खलिहानों से ही
पीड़ित 'सलिल' पंथ पनघट के
************************

शुक्रवार, 22 अक्तूबर 2010

गीत: कौन रचनाकार है?.... संजीव 'सलिल'

गीत:

कौन रचनाकार है?....

संजीव 'सलिल'
*
कौन है रचना यहाँ पर?,
कौन रचनाकार है?
कौन व्यापारी? बताओ-
क्या-कहाँ व्यापर है?.....
*
रच रहा वह सृष्टि सारी
बाग़ माली कली प्यारी.
भ्रमर ने मधुरस पिया नित-
नगद कितना?, क्या उधारी?
फूल चूमे शूल को, क्यों
तूल देता है ज़माना?
बन रही जो बात वह
बेबात क्यों-किसने बिगारी?
कौन सिंगारी-सिंगारक
कर रहा सिंगार है?
कौन है रचना यहाँ पर?,
कौन रचनाकार है?
*
कौन है नट-नटवर नटी है?
कौन नट-नटराज है?
कौन गिरि-गिरिधर कहाँ है?
कहाँ नग-गिरिराज है?
कौन चाकर?, कौन मालिक?
कौन बन्दा? कौन खालिक?
कौन धरणीधर-कहाँ है?
कहाँ उसका ताज है?
करी बेगारी सभी ने 
हर बशर बेकार है.
कौन है रचना यहाँ पर
कौन रचनाकार है?....
*
कौन सच्चा?, कौन लबरा?
है कसाई कौन बकरा?
कौन नापे?, कहाँ नपना?
कौन चौड़ा?, कौन सकरा?.
कौन ढांके?, कौन खोले?
राज सारे बिना बोले.
काज किसका?, लाज किसकी?
कौन हीरा?, कौन कचरा?
कौन संसारी सनातन
पूछता संसार है?
कौन है रचना यहाँ पर?
कौन रचनाकार है?
********************

नवगीत: नफरत पाते रहे प्यार कर संजीव 'सलिल'

नवगीत:

नफरत पाते रहे प्यार कर

संजीव 'सलिल'
*
हर मर्यादा तार-तार कर
जीती बजी हार-हार कर.
सबक न कुछ भी सीखे हमने-
नफरत पाते रहे प्यार कर.....
*
मूल्य सनातन सच कहते
पर कोई न माने.
जान रहे सच लेकिन
बनते हैं अनजाने.
अपने ही अपनापन तज
क्यों हैं बेगाने?
मनमानी करने की जिद
क्यों मन में ठाने?
छुरा पीठ में मार-मार कर
रोता निज खुशियाँ उधार कर......
*
सेनायें लड़वा-मरवा
क्या चाहे पाना?
काश्मीर का झूठ-
बेसुरा गाता गाना.
है अवाम भूखी दे पाता
उसे न खाना.
तोड़ रहा भाई का घर
भाई दीवाना.
मिले आचरण निज सुधार कर-
गले लगें हम जग बिसार कर.....
*******************

दोहा सलिला: मोहन मोह न अब मुझे संजीव 'सलिल'

दोहा सलिला:

मोहन मोह न अब मुझे

संजीव 'सलिल'
*
कब अच्छा हो कब बुरा कौन सका है जान?,
समय सगा होता नहीं, कहें सदा मतिमान..

जन्म-मृत्यु  के साथ दे, पीड़ा क्यों भगवान्?
दर्दरहित क्यों है नहीं, उदय और अवसान?

कौन यहाँ बलहीन है?, कौन यहाँ बलवान?
सब में मिट्टी एक सी, बोल पड़ा शमशान..

माटी का तन पा करे, मूरख मन अभिमान.
सो ना, सोना अंत में, जाग-जगा नादान..

मोहन मोह न अब मुझे, दे गीता का ज्ञान.
राग-द्वेष से दूर कर, भुला मान-अपमान..

कौन किसी का सगा है?, कौन पराया-गैर??
सबमें बसता प्रभु वही, चाहो सबकी खैर..

धड़क-धड़क धड़कन बढ़ी, धड़क न दिल हो शांत.
लेने स्वामी आ रहे, मनहर रम्य प्रशांत..


मुरली-धुन पर नाचता, मन-मयूर सुध भूल.
तन तबला सुन थाप दे, मुकुलित आत्मा-फूल..


राधा धारा प्रेम की, मीरा-प्रेम-प्रणाम.
प्रेम विदुरिनी का नमन, कृष्णा-प्रेम अनाम..

ममता जसुदा की विमल, अचल देवकी-मोह.
सुतवत्सल कुब्जा तृषित, कुंती करुणा छोह..


भक्ति पार्थ की शुचि अटल, गोप-भक्ति अनुराग.

भीष्म-भक्ति संकल्प दृढ़, कर्ण-भक्ति हवि-आग..


******************************

गुरुवार, 21 अक्तूबर 2010

आलेख: शब्दों की सामर्थ्य - आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'

आलेख :

शब्दों की सामर्थ्य  - 

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'




पिछले कुछ दशकों से यथार्थवाद के नाम पर साहित्य में अपशब्दों के खुल्लम खुल्ला प्रयोग का चलन बढ़ा है. इसके पीछे दिये जाने वाले तर्क २ हैं: प्रथम तो यथार्थवाद अर्थात रचना के पात्र जो भाषा प्रयोग करते हैं उसका प्रयोग और दूसरा यह कि समाज में इतनी गंदगी आचरण में है कि उसके आगे इन शब्दों की बिसात कुछ नहीं. सरसरी तौर से सही दुखते इन दोनों तर्कों का खोखलापन चिन्तन करते ही सामने आ जाता है.


हम जानते हैं कि विवाह के पश्चात् नव दम्पति वे बेटी-दामाद हों या बेटा-बहू शयन कक्ष में क्या करनेवाले हैं? यह यथार्थ है पर क्या इस यथार्थ का मंचन हम मंडप में देखना चाहेंगे? कदापि नहीं, इसलिए नहीं कि हम अनजान या असत्यप्रेमी पाखंडी हैं, अथवा नव दम्पति कोई अनैतिक कार्य करेने जा रहे होते हैं अपितु इसलिए कि यह मानवजनित शिष्ट, सभ्यता और संस्कारों का तकाजा है. नव दम्पति की एक मधुर चितवन ही उनके अनुराग को व्यक्त कर देती है. इसी तरह रचना के पत्रों की अशिक्षा, देहातीपन अथवा अपशब्दों के प्रयोग की आदत का संकेत बिना अपशब्दों का प्रयोग किए भी किया जा सकता है. रचनाकार की शब्द सामर्थ्य तभी ज्ञात होती है जब वह अनकहनी को बिना कहे ही सब कुछ कह जाता है, जिनमें यह सामर्थ्य नहीं होती वे रचनाकार अपशब्दों का प्रयोग करने के बाद भी वह प्रभाव नहीं छोड़ पाते जो अपेक्षित है.

दूसरा तर्क कि समाज में शब्दों से अधिक गन्दगी है, भी इनके प्रयोग का सही आधार नहीं है. साहित्य का सृजन करें के पीछे साहित्यकार का लक्ष्य क्या है? सबका हित समाहित करनेवाला सृजन ही साहित्य है. समाज में व्याप्त गन्दगी और अराजकता से क्या सबका हित, सार्वजानिक हित सम्पादित होता है? यदि होता तो उसे गन्दा नहीं माना जाता. यदि नहीं होता तो उसकी आंशिक आवृत्ति भी कैसे सही कही जा सकती है? गन्दगी का वर्णन करने पर उसे प्रोत्साहन मिलता है.

समाचार पात्र रोज भ्रष्टाचार के समाचार छापते हैं... पर वह घटता नहीं, बढ़ता जाता है. गन्दगी, वीभत्सता, अश्लीलता की जितनी अधिक चर्चा करेंगे उतने अधिक लोग उसकी ओर आकृष्ट होंगे. इन प्रवृत्तियों की नादेखी और अनसुनी करने से ये अपनी मौत मर जाती हैं. सतर्क करने के लिये संकेत मात्र पर्याप्त है.

तुलसी ने असुरों और सुरों के भोग-विलास का वर्णन किया है किन्तु उसमें अश्लीलता नहीं है. रहीम, कबीर, नानक, खुसरो अर्थात हर सामर्थ्यवान और समयजयी रचनाकार बिना कहे ही बहुत कुछ कह जाता हैं और पाठक, चिन्तक, समलोचालक उसके लिखे के अर्थ बूझते रह जाते हैं. समस्त टीका शास्त्र और समीक्षा शास्त्र रचनाकार की शब्द सामर्थ्य पर ही टिका है.

अपशब्दों के प्रयोग के पीछे सस्ती और तत्कालिल लोकप्रियता पाने या चर्चित होने की मानसिकता भी होती है. रचनाकार को समझना चाहिए कि साथी चर्चा किसी को साहित्य में अजर-अमर नहीं बनाती. आदि काल से कबीर, गारी और उर्दू में हज़ल कहने का प्रचलन रहा है किन्तु इन्हें लिखनेवाले कभी समादृत नहीं हुए. ऐसा साहित्य कभी सार्वजानिक प्रतिष्ठा नहीं पा सका. ऐसा साहित्य चोरी-चोरी भले ही लिखा और पढ़ा गया हो, चंद लोगों ने भले ही अपनी कुण्ठा अथवा कुत्सित मनोवृत्ति को संतुष्ट अनुभव किया हो किन्तु वे भी सार्वजनिक तौर पर इससे बचते ही रहे.

प्रश्न यह है कि साहित्य रच ही क्यों जाता है? साहित्य केवल मनुष्य ही क्यों रचता है?

केवल मनुष्य ही साहित्य रचता है चूंकि ध्वनियों को अंकित करने की विधा (लिपि) उसे ही ज्ञात है. यदि यही एकमात्र कारण होता तो शायद साहित्य की वह महत्ता न होती जो आज है. ध्वन्यांकन के अतिरिक्त साहित्य की महत्ता श्रेष्ठतम मानव मूल्यों को अभिव्यक्त करने, सुरक्षित रखने और संप्रेषित करने की शक्ति के कारण है. अशालीन साहित्य श्रेष्ठतम मूल्यों को नहीं निकृष्टतम मूल्यों को व्यक्त कर्ता है, इसलिए वह सदा त्याज्य माना गया और माना जाता रहेगा.

साहित्य सृजन का कार्य अक्षर और शब्द की आराधना करने की तरह है. माँ, मातृभूमि, गौ माता और धरती माता की तरह भाषा भी मनुष्य की माँ है. चित्रकार हुसैन ने सरस्वती और भारत माता की निर्वस्त्र चित्र बनाकर यथार्थ ही अंकित किया पर उसे समाज का तिरस्कार ही झेलना पड़ा. कोई भी अपनी माँ को निर्वस्त्र देखना नहीं चाहता, फिर भाषा जननी को अश्लीलता से आप्लावित करना समझ से परे है.

सारतः शब्द सामर्थ्य की कसौटी बिना कहे भी कह जाने की वह सामर्थ्य है जो अश्लील को भी श्लील बनाकर सार्वजनिक अभिव्यक्ति का साधन तो बनती है, अश्लीलता का वर्णन किए बिना ही उसके त्याज्य होने की प्रतीति भी करा देती है. इसी प्रकार यह सामर्थ्य श्रेष्ट की भी अनुभूति कराकर उसको आचरण में उतारने की प्रेरणा देती है. साहित्यकार को अभिव्यक्ति के लिये शब्द-सामर्थ्य की साधना कर स्वयं को सामर्थ्यवान बनाना चाहिए न कि स्थूल शब्दों का भोंडा प्रयोग कर साधना से बचने का प्रयास करना चाहिए.

हिंदी शब्द सलिला : १४ 'अग' से प्रारंभ शब्द : १ -- संजीव 'सलिल'

हिंदी शब्द सलिला : १४        संजीव 'सलिल'

*
संकेत : अ.-अव्यय, अर. अरबी, अक्रि.-अकर्मक क्रिया, अप्र.-अप्रचलित, अर्थ.-अर्थशास्त्र, अलं.- अलंकार, अल्प-अल्प (लघुरूप) सूचक, आ.-आधुनिक, आयु.-आयुर्वेद, इ.-इत्यादि, इब.-इबरानी, उ. -उर्दू, उदा.-उदाहरण, उप.-उपसर्ग, उपनि.-उपनिषद, अं.-अंगिका, अंक.-अंकगणित, इ.-इंग्लिश/अंगरेजी, का.-कानून, काम.-कामशास्त्र, क्व.-क्वचित, ग.-गणित, गी.-गीता, गीता.-गीतावली, तुलसी-कृत, ग्रा.-ग्राम्य, ग्री.-ग्रीक., चि.-चित्रकला, छ.-छतीसगढ़ी, छं.-छंद, ज.-जर्मन, जै.-जैन साहित्य, ज्या.-ज्यामिति, ज्यो.-ज्योतिष, तं.-तंत्रशास्त्र, ति.-तिब्बती, तिर.-तिरस्कारसूचक, दे.-देशज, देव.-देवनागरी, ना.-नाटक, न्या.-न्याय, पा.-पाली, पारा.- पाराशर संहिता, पु.-पुराण, पुल.-पुल्लिंग, पुर्त. पुर्तगाली, पुरा.-पुरातत्व, प्र.-प्रत्यय, प्रा.-प्राचीन, प्राक.-प्राकृत, फा.-फ़ारसी, फ्रे.-फ्रेंच, ब.-बघेली, बर.-बर्मी, बहु.-बहुवचन, बि.-बिहारी, बुं.-बुन्देलखंडी, बृ.-बृहत्संहिता, बृज.-बृजभाषा  बो.-बोलचाल, बौ.-बौद्ध, बं.-बांग्ला/बंगाली, भाग.-भागवत/श्रीमद्भागवत, भूक्रि.-भूतकालिक क्रिया, मनु.-मनुस्मृति, महा.-महाभारत, मी.-मीमांसा, मु.-मुसलमान/नी, मुहा. -मुहावरा,  यू.-यूनानी, यूरो.-यूरोपीय, योग.योगशास्त्र, रा.-रामचन्द्रिका, केशवदास-कृत, राम.- रामचरितमानस-तुलसीकृत, रामा.- वाल्मीकि रामायण, रा.-पृथ्वीराज रासो, ला.-लाक्षणिक, लै.-लैटिन, लो.-लोकमान्य/लोक में प्रचलित, वा.-वाक्य, वि.-विशेषण, विद.-विदुरनीति, विद्या.-विद्यापति, वे.-वेदान्त, वै.-वैदिक, व्यं.-व्यंग्य, व्या.-व्याकरण, शुक्र.-शुक्रनीति, सं.-संस्कृत/संज्ञा, सक्रि.-सकर्मक क्रिया, सर्व.-सर्वनाम, सा.-साहित्य/साहित्यिक, सां.-सांस्कृतिक, सू.-सूफीमत, स्त्री.-स्त्रीलिंग, स्मृ.-स्मृतिग्रन्थ, ह.-हरिवंश पुराण, हिं.-हिंदी.     

'अग' से प्रारंभ शब्द : १.

संजीव 'सलिल'
*
अगंड-पु. बिना हाथ-पैर का धड़.
अगंता/तृ - वि. सं. न चलनेवाला, न जानेवाला, स्त्री. अगंत्री.
अग-वि. सं. चलने में असमर्थ, स्थावर, टेढ़ा चलनेवाला, अगम्य, अज्ञ, अज्ञान. पु. पहाड़, पेड़, साँप, सूर्य, घडा, ७ सँख्या, सप्त.--पहाड़ या वृक्ष से पैदा होनेवाला, पहाड़-पहाड़ घूमनेवाला, जंगली, वनचर, वन्य. पु. शिलाजतु, हाथी, गज.-जग-पु. चराचर.-जा-स्त्री. पार्वती.
अगच्छ-वि. सं.जो न चले, अचल. पु. वृक्ष, पर्वत. 
अगट-वि. सं. पु. मांसकी दूकान.
अगटना-अक्रि. एकत्र होना.
अगड़-पु. अकड़, ऐंठ.
अगड़धत्त/अगड़धत्ता-वि. लंबा-तगड़ा, ऊँचा, बढ़ा-चढ़ा.
अगड़बगड़-वि. उलजलूल, बेसिर-पैरका, ऊटपटांग. पु. अंड-बंड काम/बात.
अगड़म-बगड़म-पु. तरह-तरह की चीजों का बेतरतीब ढेर, कबाड़.
अगड़ा/अगड़ी - पु./स्त्री. उच्च वर्ग का/की, पिछड़ा/पिछड़ी का उल्टा.
अगण-पु. सं. पिंगल के चार गण- जगण, तगण, रगण, सगण जजों छंद के आदि में शुभ माने जाते हैं.
अगणन-वि. सं. अगणनीय, असंख्य, अनगिनत.
अगणनीय-वि. सं. देखें अगण्य.
अगणित-वि. सं. अनगिनत, बेहिसाब उ.,-प्रतियात-वि. ध्यान न दिए जाने/उपेक्षित होने/अनदेखी किएजाने के कारण लौटा हुआ.-लज्ज-वि. लज्जा का विचार न करनेवाला, निर्लज्ज, बेशर्म, बेहया. 
अगण्य - वि. सं. असंख्य, तुच्छ, उपेक्षणीय.
अगत - वि. सं. न गया हुआ. आगे चलने हेतु हाथी को आगे बढ़ाने हेतु महावत द्वारा प्रयुक्त किया जानेवाला शब्द. स्त्र. देखें अगति.
अगति - स्त्री. सं. गति का अभाव, पहुँच का न होना, उपाय का अभाव, दुर्दशा, उन्नति का अभाव, प्रगति का रुक जाना, अ. सद्गति मोक्ष-प्राप्ति,-गति-अद्गति मोक्ष की अप्राप्ति, स्थिर पदार्थ. वि. गतिहीन, निरुपाय.
अगतिक - वि. सं. निरुपाय, निराश्रय.-गति-स्त्री. आश्रयहीन का आश्रय, अंतिम आश्रय, ईश्वर.
अगती - वि. सद्गति का अनाधिकारी, कुकर्मी, पापी. पु. पापी मनुष्य. स्त्री एक पौधा जो चरमरोग की दावा है, चकवँड़. वि. पेशगी, अग्रिम, एडवांस इं. अ. पहले से.
अगतीक - वि. सं. जिसपर चलना उचित न हो, कुमार्ग, देखें अगतिक.
अगत्या - अ. सं. आगे चलकर, अंत में, सहसा, अन्य गति/उपाय न रहनेसे, लाचार/बाध्य होकर.
अगदंकार - पु. सं. वैद्य, वैद दे., हकीम उ., डॉक्टर इं.
अगद - वि. सं. नेरोग, स्वस्थ, न बोलनेवाला, बाधारहित. पु. एक औषध, स्वास्थ्य, आरोग्य.-तंत्र-पु. आयुर्वेद के ८ अंगों में से एक जिसमें सर्पादी के दंश की चिकित्सा वर्णित है.-वेद-पु.चिकित्सा-शास्त्र, आयुर्वेद, आयुर्विज्ञान.
                                                                   --- निरंतर.