स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 28 जनवरी 2013

छंद सलिला: उल्लाला संजीव 'सलिल'

छंद सलिला: 
उल्लाला 
संजीव 'सलिल'
*
उल्लाला हिंदी छंद शास्त्र का पुरातन छंद है। वीर गाथा काल में उल्लाला तथा रोल को मिलकर छप्पय छंद की रचना की जाने से इसकी प्राचीनता प्रमाणित है। उल्लाला छंद को स्वतंत्र रूप से कम ही रचा गया है। अधिकांशतः छप्पय में रोला के 4  चरणों के पश्चात् उल्लाला के 2 दल (पद या पंक्ति) रचे जाते हैं। प्राकृत पैन्गलम तथा अन्य ग्रंथों में उल्लाला का उल्लेख छप्पय के अंतर्गत ही है।
जगन्नाथ प्रसाद 'भानु' रचित छंद प्रभाकर तथा ॐप्रकाश 'ॐकार' रचित छंद क्षीरधि के अनुसार उल्लाल तथा उल्लाला दो अलग-अलग छंद हैं। नारायण दास लिखित हिंदी छन्दोलक्षण में इन्हें उल्लाला के 2 रूप कहा गया है। उल्लाला 13-13 मात्राओं के 2 सम चरणों का छंद है। उल्लाल 15-13 मात्राओं का विषम चरणी छंद है जिसे हेमचंद्राचार्य ने 'कर्पूर' नाम से वर्णित किया है। डॉ. पुत्तूलाल शुक्ल इन्हें एक छंद के दो भेद मानते हैं। हम इनका अध्ययन अलग-अलग ही करेंगे।
'भानु' के अनुसार:
उल्लाला तेरा ला, दश्नंतर इक लघु ला।
सेवहु नित हरि हर रण, गुण गण गावहु हो रण।।
अर्थात उल्लाला में 13 कलाएं (मात्राएँ) होती हैं दस मात्राओं के अंतर पर ( अर्थात 11 वीं मात्रा) एक लघु होना अच्छा है।

दोहा के 4 विषम चरणों से उल्लाला छंद बनता है। यह 13-13 मात्राओं का सम पाद मात्रिक छन्द है जिसके चरणान्त में यति है। सम चरणान्त में सम तुकांतता आवश्यक है। विषम चरण के अंत में ऐसा बंधन नहीं है। शेष नियम दोहा के समान हैं। इसका मात्रा विभाजन 8+3+2 है अंत में 1 गुरु या 2 लघु का विधान है।
सारतः उल्लाला के लक्षण निम्न हैं-
1. 2 पदों में तेरह-तेरह मात्राओं के 4 चरण
2. सभी चरणों में ग्यारहवीं मात्रा लघु
3. चरण के अंत में यति (विराम) अर्थात सम तथा विषम चरण को एक शब्द से न जोड़ा जाए।
4. चरणान्त में एक गुरु या 2 लघु हों।
5. सम चरणों (2, 4) के अंत में समान तुक हो।
6. सामान्यतः सम चरणों के अंत एक जैसी मात्रा तथा विषम चरणों के अंत में एक सी मात्रा हो। अपवाद स्वरुप प्रथम पद के दोनों चरणों में एक जैसी तथा दूसरे पद के दोनों चरणों में
 उदाहरण :
1.नारायण दास वैष्णव
रे मन हरि भज विष तजि, सजि सत संगति रै दिनु।
काटत भव के फन् को, और न कोऊ रा बिनु।।
2. घनानंद
प्रेम नेम हित चतुई, जे न बिचारतु नेकु मन।
सपनेहू न विलम्बियै, छिन तिन ढिग आनंघन।
3. ॐ प्रकाश बरसैंया 'ॐकार'
राष्ट्र हितैषी धन् हैं, निर्वाहा औचित् को।
नमन करूँ उनको दा, उनके शुचि साहित् को।।
प्रथम चरण 14 मात्राएँ,
4.

संजीव 'सलिल'

काव्य कुञ्ज: कितना - क्या एस. एन. शर्मा 'कमल'

काव्य कुञ्ज:
कितना  - क्याएस. एन. शर्मा 'कमल'
*

किसको कितनी ममता बाँटी
कितना मौन मुखर कर  पाया
कितने मिले सफ़र में साथी
कितना किसने साथ निभाया 
लेखाजोखा क्या अतीत का
क्या खोया कितना पाया

जीवन  यात्रा के समीकरण
कितने सुलझे कितने उलझे
कितनी बार कहाँ पर अटका
रही न गिनती याद मुझे
जब  आँगन में भीड़ लगी
कितना प्यार किसे  दे पाया

कितने सपने रहे कुवाँरे 
कितने विधुर बने जो  ब्याहे
कितनी साँसें  रहीं अधूरी
कितनी बीत  गईं अनचाहे 
उमर ढल गई शाम हो गई
उलझी गाँठ न सुलझा पाया

सजी  रह गई  द्वार अल्पना 
पल छिन पागल मन भरमाये 
रही जोहती बाट  तुम्हारी
लेकिन प्रीतम तुम ना आये
प्राण-पखेरू उड़े  छोड़  सब
धरी रह गई माया   काया 

जितनी साँसें ले कर  आया 
उन्हें  सजा लूं  गीतों में भर
मुझे  उठा लेना जग-माली
पीड़ा-रहित क्षणों में आ  कर
जग की रीति नीति ने अबतक
मन को  बहुतै नाच नचाया


*****

हास्य पद: जाको प्रिय न घूस-घोटाला संजीव 'सलिल'

हास्य पद:

जाको प्रिय न घूस-घोटाला


संजीव 'सलिल'


*
जाको प्रिय न घूस-घोटाला...
वाको तजो एक ही पल में, मातु, पिता, सुत, साला.
ईमां की नर्मदा त्यागकर,  न्हाओ रिश्वत नाला..
नहीं चूकियो कोऊ औसर, कहियो लाला ला-ला.
शक्कर, चारा, तोप, खाद हर सौदा करियो काला..
नेता, अफसर, व्यापारी, वकील, संत वह आला.
जिसने लियो डकार रुपैया, डाल सत्य पर ताला..
'रिश्वतरत्न' गिनी-बुक में भी नाम दर्ज कर डाला.
मंदिर, मस्जिद, गिरिजा, मठ तज, शरण देत मधुशाला..
वही सफल जिसने हक छीना,भुला फ़र्ज़ को टाला.
सत्ता खातिर गिरगिट बन, नित रहो बदलते पाला..
वह गर्दभ भी शेर कहाता बिल्ली जिसकी खाला.
अख़बारों में चित्र छपा, नित करके गड़बड़ झाला..
निकट चुनाव, बाँट बन नेता फरसा, लाठी, भाला.
हाथ ताप झुलसा पड़ोस का घर धधकाकर ज्वाला..
सौ चूहे खा हज यात्रा कर, हाथ थाम ले माला.
बेईमानी ईमान से कर, 'सलिल' पान कर हाला..
है आराम ही राम, मिले जब चैन से बैठा-ठाला.
परमानंद तभी पाये जब 'सलिल' हाथ ले प्याला..

                           ****************
(महाकवि तुलसीदास से क्षमाप्रार्थना सहित)

मुक्तिका: है तो... संजीव 'सलिल'

मुक्तिका:
है तो...
संजीव 'सलिल'
*
गर्दन दबा दें अगर दर्द है तो।
आगी लगा दें अगर सर्द है तो।।

हाकिम से शिकवा न कोई शिकायत
गले से लगा लें गो बेदर्द है तो।।

यही है इनायत न दिल है अकेला
बेदिल भले पर कोई फर्द है तो।।

यादों के चेहरे भी झाड़ो बुहारो
तुम-हम  नहीं पर यहाँ गर्द है तो।।

यूँ मुँह न मोड़ो, न नाते ही तोड़ो,
गुलाबी न चेहरा, मगर जर्द है तो।।

गर्मी दिलों की न दिल तक रहेगी
मौसम मिलन का रहे सर्द है तो।।

गैरों के आगे भले हों नुमाया
अपनों से हमको 'सलिल' पर्द है तो।।
***
Sanjiv verma 'Salil'
salil.sanjiv@gmail.com
http://divyanarmada.blogspot.com



रविवार, 27 जनवरी 2013

कृति-चर्चा काल के गाल पर ढुलका आँसू मुमताजमहल संजीव वर्मा 'सलिल'

book review: mumtaj mahal, novel, writer- dr. suresh verma, critic- sanjiv verma 'salil'

कृति-चर्चा
काल के गाल पर ढुलका आँसू मुमताजमहल
संजीव वर्मा 'सलिल'
*
(विवरण: मुमताजमहल, उपन्यास, डॉ. सुरेश कुमार वर्मा, डिमाई आकार, पृष्ठ 350, आवरण बहुरंगी पेपरबैक, मूल्य 150 रु., प्रकाशक: वाणी प्रकाशन दिल्ली।)
*
                         हिंदी-गद्य लेखन का श्री गणेश संवत 1855 के आसपास इंशा अल्ला खां रचित 'रानी केतकी  की कहानी' से तथा एतिहासिक प्रसंगों पर लेखन का आरम्भ भारतेंदु हरिश्चन्द्र द्वारा (संवत 1907-संवत1941) द्वारा 'कश्मीर कुसुम' तथा 'बादशाह दर्पण' से हुआ। इसके पूर्व अधिकतर लेखन धार्मिक अथवा साहित्यिक प्रसंगों पर केन्द्रित रहा। ऐतिहासिक चरित्रों में शासकों को अधिकतर लेखकों ने कृतियों का केंद्र बनाया। विगत 161 वर्षों के कालखंड में रचनाकारों ने माँ सरस्वती के साहित्य-कोषागार को असंख्य ग्रन्थ-रत्नों से समृद्ध किया। आरंभ से ही संस्कृत, प्राकृत, आंचलिक बोलिओँ तथा अरबी-फ़ारसी की चुनौतियाँ झेलती रही हिंदी क्रमशः अपने मार्ग पर बढ़ती गयी और आज विश्व-वाणी बनने की दावेदार है।
                    इस काल-खंड में अनेक लोकप्रिय सत्ताधारी औपन्यासिक कृतियों के नायक बने किन्तु जनमानस में प्रतिष्ठित मुमताज महल अदेखी रह गयीं। सन 1978 में श्री हरिप्रसाद थपलियाल  तथा  सन 2011 में सनातन सलिला नर्मदा के तीर पर स्थित संस्कारधानी जबलपुर के समर्पित हिंदीविद, निष्णात प्राध्यापक, निपुण नाटककार, कुशल कहानीकार डॉ. सुरेश कुमार वर्मा ने औपन्यासिक कृतियों का सर्जन कर मुमताज के व्यक्तित्व, कृतित्व तथा अवदान का मूल्यांकन किया। डॉ. वर्मा अपनी प्रथम औपन्यासिक कृति की नायिका के रूप में मुमताज़ के चयन का औचित्य उसके दुर्लभ गुणों ठण्ड की सुबह की खिली धूप सा दमकता चेहरा, बातचीत का अनोखा गुलरेज़ अंदाज़, फिरदौस की जुही सी मसीही मुस्कान, माँ की सजीव गुडिया सी मख्खनी काया, सबकी फ़िक्र करने वाले मिजाज़ और दुर्लभ गुणों से संवलित व्यक्तित्व कहकर  सिद्ध करते हैं। उनके अनुसार ताजमहल जैसी इमारत उसी के लिए बन सकती है जो 'डिजर्व' करती हो... आने वाली पीढ़ियाँ शायद ही यकीन कर पाएंगी कि  इन गुणों से आरास्ता कोई एक बदीउज्ज़मां खानम हिन्दुस्तान की सरजमीं पर जलवानशीं रहीं होंगी...उसने अपनी सेवा और सूझ-बूझ, सौजन्य और समर्पण, सहस और संकल्प द्वारा प्रमाणित किया की पुरुष के लिए स्त्री से बढ़कर कोई औषधि नहीं है।संभवतः मुमताज़ की असाधारणता का अनुमान न कर सकना ही उस पर कृति न रचे जाने का कारण हो।
                        हिंदी साहित्य भाव पक्ष तथा विचार पक्ष की प्रमुखता के आधार पर लक्ष्य ग्रंथों तथा लक्षण ग्रंथों में सुवर्गीकृत किया जाता है।  लक्ष्य ग्रन्थ दृश्य काव्य और श्रव्य काव्य में तथा लक्षण ग्रन्थ आलोचना और साहित्य शास्त्र में विभाजित किये जाते हैं। दृश्य काव्य में रूपक, उपरूपक अर्थात नाटक और श्रव्य काव्य गद्य, पद्य व चम्पू में बांटे गए हैं। पद्य में महाकाव्य, खंडकाव्य व एकार्थ काव्य तथा गद्य में उपन्यास, कहानी, निबन्ध, जीवनी आदि समाहित किये गए हैं।  यथार्थ, कल्पना, कुतूहल, भावना तथा विचार के पंचतत्वों से बनी कथा ही उपन्यास का मूल होती है। उपन्यास जीवन की प्रतिकृति होता है। उपन्यास की कथावस्तु का आधार मानव जीवन और उसके क्रिया कलाप ही होते हैं। वातावरण की पृष्ठभूमि पात्रों के चरित्र का आधार होती है। पाश्चात्य समालोचकों ने कथावस्तु, संवाद, वातावरण, शैली व  उद्देश्य उपन्यास के  तत्व कहे हैं।
 कथावस्तु:
                        प्रो.वर्मा ने ''art lies in concealment'' अर्थात 'कला छिपाव में ही निहित है' के सिद्धांतानुसार मुमताज़ को नायिका ठीक ही चुना है कि उसके विषय में जितना ज्ञात है उससे अधिक अज्ञात है। इस अज्ञात को कल्पना से जानने की स्वतंत्रता है जबकि जिसके विषय में सब ज्ञात हो वहाँ कल्पना से काम लेने की स्वतंत्रता नहीं होती। मानव मन की प्रत्येक भावना को सत्य की कसौटी पर कस सकना किसी उपन्यासकार के लिए संभव नहीं है और न यह ही संभव है कि मानव मन की हर संवेदना की अनुभूति रचनाकार कर सके। कई बार दुहराए जा चुके चरित्रों के संबंध में कुछ नया और मौलिक कह पाना कठिन होता है तथा मान्य धारणा से हटते ही प्रामाणिकता का प्रश्न खड़ा हो जाता है। ऐसी स्थिति में उपन्यासकार के लिए मन के तारों को झनझनाने वाले चरित्र का चयन करना उचित होता है। डॉ. वर्मा ने मुमताज़ को केंद्र में रखकर उसके अल्पज्ञात गुणों के ताने-बाने से कथावस्तु को रोचक बनाया है। नूरजहाँ के प्रति जहाँगीर के दुर्निवार आकर्षण, मुमताज़ के निकाह, सलीम के निरंतर युद्धों और यात्राओं, सियासी षड्यंत्रों और सत्ताप्रेम, रिश्तों के बनने और टूटने की विडंबना, लगातार प्रसव, गिरता स्वास्थ्य व अयाचित अंत... कथावस्तु का निरंतर बदलता घटनाक्रम पाठक को बांधे रखने में सफल है।
                         कथा वस्तु के दो अंग मूल कथावस्तु तथा प्रासंगिक कथावस्तु होते हैं। आलोच्य कृति में मुग़ल साम्राज्ञी मुमताजमहल की कथा मूल है जिसके विकास के लिए खुसरो द्वारा विद्रोह, नूरजहाँ के प्रति जहाँगीर की आसक्ति, खुर्रम की सगाई-विवाह, युद्ध, विद्रोह,  समर्पण तथा तख़्तपोशी, शहरयार, मेवाड़ युद्ध,  दक्खन की समस्या, खानखाना, दरबार के षड्यंत्र, महावत खां का पराक्रम और विद्रोह आदि प्रसंगों का सहारा उपन्यासकार ने यथास्थान लिया है। इन प्रसंगों और कारकों का एक दूसरे के प्रतिस्पर्धी के रूप में न होकर सहायक के रूप में होना उपन्यासकार की कथा  प्रसंगों पर पकड़ और विषय में गहन पैठ का प्रमाण है।
चरित्र चित्रण:
                         उपन्यासकार चरित्रों का विकास सत्य और कल्पना के मिश्रण की नीव पर करता है। सत्य प्रतीत होती कल्पना और काल्पनिक अनुभव होता सत्य चरित्रों में इंद्रधनुषी रंग भरकर उन्हें चित्ताकर्षक बनाते हैं। इस तथ्य से भलीभांति अवगत डॉ. वर्मा ने श्रेयत्व के साथ प्रेयत्व का संगुफन  इस तरह किया है कि  वह सायास किया गया प्रतीत नहीं होता। मुमताज़, शाहजहाँ, जहाँगीर, नूरजहाँ, औरंगजेब, महाबत खां आदि प्रमुख  चरित्र  सहृदयतापूर्वक चित्रित किये गए हैं। औरंगजेब को छोड़कर सभी चरित्र सकारात्मकता लिए हैं। मुमताज़ का चरित्र रूपवती होने पर भी गर्व न करने, पिता-पुत्र के बीच की दूरी को कम करने, पति को प्रेरित कर सफलता के पथ पर ले जाने, स्वयं तकलीफ सहकर भी युद्धों और यात्राओं में लगातार साथ देने, पराजय के बाद क्षमा-प्रार्थना का दाँव की तरह उपयोग, सत्ता मिलने पर भी विनम्रता और इंसानियत तथा वैद्य की चेतावनी को अनसुना कर पति के लक्ष्य को पाने के लिए आत्माहुति से न केवल आकर्षक अपितु अनुकरणीय भी बना है। शेष चरित्रों पर सत्ता-मद हावी है। गियासबेग, अबुलहसन, महाबत खां आदि के चरित्र राज्यभक्ति से सराबोर हैं। एक महत्वपूर्ण चरित्र सतीउननिसा का है, यह मुमताज की परिचारिका भी है बाल मित्र भी और सलाहकार भी। उसकी स्वामिभक्ति तथा समझ कथा विकास में सहायक है।
                          चरित्र चित्रण की शब्दचित्र (sketch) प्रणाली के अंतर्गत उपन्यासकार पात्रों के शारीरिक गठन, वर्ण, प्रभाव, रहन-सहन, गुण-दोष आदि का वर्णन करता है जबकि प्रत्यक्ष या विश्लेषणात्मक (direct / analytical) प्रणाली में  पात्रों का मनोवैज्ञानिक विश्लेषण कर पाठक के समक्ष गुण-दोषों को बिना कहे उद्घाटित होने देता है। परोक्ष या नाटकीय प्रणाली के अंतर्गत उपन्यासकार पात्र की सृष्टि कर नेपथ्य में चला जाता है तथा पात्र स्वयमेव वार्तालापों, क्रिया-कलापों और विचारों से चरित्र के ताने-बाने बुनते जाते हैं। डॉ. वर्मा ने तीनों विधियों का यथावश्यक प्रसंगानुकूल बखूबी प्रयोग किया है। अपेक्षाकृत कम मुखर व  अति समर्पित मुमताज़, उसकी सखी सतीउननिसा के सन्दर्भ में शब्द चित्र प्रणाली, नूरजहाँ के चरित्र चित्रण में प्रत्यक्ष प्रणाली तथा जहाँगीर, शाहजहाँ, औरंगजेब आदि के चरित्र चित्रण में परोक्ष प्रणाली का प्रयोग ठीक ही किया है।                               
                          उपन्यास का सम्बन्ध जीवन से होता है। उसके पात्र पाठक को अपने चारों ओर के व्यक्तित्वों से मेल खाते प्रतीत हों तो वह पात्रों के सुख-दुःख के साथ तादात्म्य स्थापित कर पाता है। पात्रों के चरित्रों को कम से कम शब्दों में कथा प्रसंग के विकास हेतु निखारने-उभरने में ही उपन्यासकार की कला है। विश्लेषणात्मक पद्धति में उपन्यासकार पात्रों के भावों, विचारों और मानसिक-शारीरिक अवस्थाओं का विश्लेषण कर पाठक को कथावस्तु के साथ जोड़ता है। डॉ. वर्मा ने कहीं-कहीं प्रसंग की आवश्यकता के अनुसार यथासंभव न्यूनतम शब्दों में पात्रों की मनःस्थितियों का वर्णन कर कथ्य की रोचकता बनाये रखने में सफलता प्राप्त की है। इन स्थलों में उपन्यासकार द्वारा प्रयुक्त भाषा खडी हिंदी है तथा शब्द चयन संस्कृतनिष्ठ है। नाटकीय पद्धति का अनुसरण करते हुए कृतिकार के मानस पुत्र अर्थात उपन्यास के पात्र अधिकांश स्थलों पर अपनी शिक्षा तथा परिवेश के अनुकूल अरबी-फ़ारसी के शब्द से युक्त उर्दू का प्रयोग करते हैं। ये पात्र अपने क्रिया कलापों तथा संवादों से घटनाक्रम के विकास में न केवल सहायक होते हैं उसे रोचक बनाये रखते हुए पूर्णता तक पहुंचाते हैं। सामान्यतः पात्रों में सर्वाधिक शक्तिशाली तथा प्रभावी पात्र नायकत्व का श्रेय पाता है।
पात्र : 
                          प्रस्तुत कृति में आदि से सर्वाधिक शक्तिशाली तथा प्रभावी चरित शाहजहाँ का है किन्तु वह कृति-नायक नहीं है जबकि कृति का केंद्र मुमताज आरंभ में निरीह बालिका तथा अदना वधु मात्र है। वह कहीं भी स्वतंत्र निर्णय लेकर क्रियान्वित करती नहीं दिखती, अपितु पति की अनुगामिनी मात्र है। अतः उसे कृति-नायिका कहने पर प्रश्न उठ सकता है। उपन्यासकार संभवतः इसीलिए उसके कथा प्रवेश से पूर्व और अंत के बाद के प्रसंग जोड़ता है ताकि उसके प्रभाव का आकलन किया जा सके। उपन्यासकार ने एतिहासिक घटनाक्रम के अनुसार पात्रों को स्वयमेव विकसित होने दिया है। कहीं किसी पात्र पर महत्ता आरोपित नहीं की है। जहाँगीर, नूरजहाँ, शाहजहाँ और अंत में औरंगजेब के चरित्र उभरते गए हैं किन्तु मुमताज़ का चरित्र कहीं भी सर्वाधिक प्रभावी नहीं दिखता। वह निर्णायक न होने पर भी निर्णय के मूर्त रूप लेने में सहायक होता है।एक ओर नूरजहाँ सम्राट जहाँगीर के नाम पर शासन करती है दूसरी ओर उसकी मानस सृष्टि मुमताज़ पृष्ठभूमि में रहकर शाहजहाँ को आवश्यकतानुसार वांछित परामर्श दे-देकर सम्राट  के तख़्त तक पहुँचाती है। वह पति के प्रति इतनी समर्पित है कि अस्वस्थ्य होने तथा वैद्य द्वारा प्राणों पर संकट होने की चेतावनी दिए जाने पर भी पति की कामना पूर्तिकर बार-बार मातृत्व धारण करती है। शारीरिक कमजोरी को छिपाकर पति के साथ निरंतर युद्ध-यात्राओं पर जाती है। भोजन में पानी की तरह सर्वत्र रहकर कहीं भी न होने प्रतीति करता यह चरित्र पाठक को उसके अपने घर में माता या पत्नी की तरह स्वाभाविक प्रतीत होता है। 
                           चेतन (concious), अचेतन (un concious) तथा अवचेतन (sub concious) के अंतर्द्वंद चरित्रों के टकराव तथा उत्थान-पतन के कारण बनते हैं। कथावस्तु  पात्रों के चरित्रों के अनुकूल विकसित होती है। समीक्ष्य कृति के चरित्रों में दरबारियों, परिवारजनों तथा अनुचरों के चरित्र  स्थिर (static) हैं। वे आदेश या परंपरा के वाहक / पालक मात्र हैं तथा किसी परिवर्तन के कारक नहीं होते। जहाँगीर, नूरजहाँ, शाहजहाँ, औरंगजेब आदि चरित गतिशील (dynamic) हैं। वे अपना रास्ता खुद बनाते हैं, अपने 'स्व' से  परिचालित होते हैं। उपन्यास नायिका मुमताज़ अपवाद है। वह स्थिर होते हुए भी गतिशील है तथा गतिशील होते हुए भी स्वार्थी या आत्मकेंद्रित न होकर संयमित है।
संवाद:
                          कथावस्तु के विकास हेतु पात्रों के वार्तालाप संवादों के माध्यम से ही होते हैं। संवादों का कार्य 1. कथावस्तु का विकास, 2. पात्रों के व्यक्तित्व का निखार तथा 3. उपन्यासकार के विचारों या आदर्शों का अभिव्यक्तिकरण होता है। मानव अपनी विचार तथा अभिव्यक्ति क्षमता के कारण ही अन्य प्राणियों से अधिक उन्नत व विकसित है। वैचारिक साम्य प्रेम व सहयोग तथा विचार वैभिन्न्य संघर्ष व द्वेष का कारक होता है। जहाँगीर तथा शाहजहाँ का विचार वैभिन्न्य शाहजहाँ तथा मुमताज़ महल का विचार साम्य,  नूरजहाँ तथा औरंगजेब का स्वविचार को सर्वोपरि रक्कने का स्वभाव उपन्यास के घटनाक्रम को गति देता है। उपन्यासकार समान विचार के संवादों के माध्यम से नव घटनाक्रम की तथा विरोधी विचार के संवादों के माध्यम से द्वेष की सृष्टि करता है। डॉ. वर्मा का विषयवस्तु के गहन अध्ययन, पात्रों  की मानसिकता की सटीक अनुभूति, वातावरण एवं घटनाक्रम की प्रमाणिक जानकारी से संवादों को प्रभावी  है। वे संवादों को अनावश्यक विस्तार नहीं देते। जहाँगीर-नूरजहाँ के आरंभिक टकराव, नूरजहाँ के समर्पण, नूरजहाँ-शाहजहाँ के बीच की दूरी, शाहजहाँ-मुमताजमहल  के नैकट्य तथा कथाक्रम के महत्वपूर्ण मोड़ों को संवाद उभारते हैं। डॉ .वृन्दावन लाल वर्मा, अमृत लाल नागर तथा भगवती चरण वर्मा की तरह लंबे अख्यन डॉ. सुरेश वर्मा की प्राथमिकता नहीं हैं। वे कम शब्दों में मन को स्पर्श करनेवाले मार्मिक संवाद रचते हैं, मानो घटनाओं के चश्मदीद गवाह हों :
                           मेहरुन्निसा को लगा वातावरण भारी हो गया है। उसे हल्का करने के मकसद से कहा: 'आप लोग मेरी तारीफ भी करते हैं और धिक्कारते भी हैं।'
                          अबुलहसन ने उसे उसी के सिक्के में जवाब देते हुए कहा: 'तू बहुत अच्छी है कि महारानी बनने लायक है। तू बहुत ख़राब है कि महारानी बनना नहीं चाहती।'
भाषा: 
                           पात्रों व घटनाओं के अनुकूल भाषा संवादों को प्रभावी और जीवंत बनाती है। जयशंकर  प्रसाद, राहुल सांकृत्यायन आदि की शुद्ध साहित्यिक भाषा की अपेक्षा प्रेमचंद की जन सामान्य में बोली जानेवाली उर्दू शब्दों से युक्त भाषा डॉ. वर्मा के अधिक निकट है किन्तु वे अभिजात्य वर्ग में बोले जानेवाली शब्दावली का प्रयोग करते हैं। संभवतः इसका कारण उपन्यास के कथानक का शाही परिवार से जुड़ा होना है। डॉ. वर्मा संस्कृत शब्दों की प्रांजलता-माधुर्य तथा अरबी-फ़ारसी के शब्दों की  नजाकत-नफासत  का  गंगो- जमुनी मिश्रण इस खूबसूरती से पेश करते हैं कि पाठक आनंद में डूब जाता है। यथा: तदुपरांत सम्राट खड़ा हुआ। उसने सभासदों के मध्य मंद स्वर में घोषणा की- ''माबदौलत माह्ताबेजहाँ बेगम मेहरुन्निसा के लिए 'मलिका-ए-हिंदुस्तान' का लकब करार देते हैं तथा उन्हें बाइज्ज़त 'नूर-ए-महल' का ख़िताब अता करते हैं।'' सभाकक्ष देर तक 'मरहबा मरहबा' के नारों से गूंजता रहा।
                    अंतर्सौन्दर्य, अस्तमित, आज्ञानुवर्तन, पर्यंक, वातास, पुष्पांगना, पश्चद्वार, जयोच्चार, प्रातिका, रक्ताभ, आत्मविमुग्धता आदि संस्कृतनिष्ठ शब्दों के साथ वफ़ाआश्ना, अदलो-उसूल, निस्बानियत, सितमगिर्वीदा, बूते-माहविश, नाकदखुदाई, साफ़-शफ्फाक, अदलपर्वर, दिलबस्तगी, खुद सिताई, खुद शिनासी आदि लफ्जों का मेल इतनी सहजता-सरलता और अपनेपन से हुआ है कि वे गलबहियाँ डाले गपियाते प्रतीत होते हैं। इन शब्दों के सटीक प्रयोग से उपन्यासकार की शब्द सामर्थ्य और बहु भाषाई पकड़ की प्रतीति होती है, साथ ही पाठक के शब्द-भंडार में भी वृद्धि होती है। 
                           हिंदी के दिग्गज विद्वान डॉ. वर्मा शब्द युगलों के प्रयोग में दक्ष हों,  यह स्वाभाविक है। ऐसे प्रयोग उपन्यास की भाषा की आलंकारिक सज्जा कर उसे रुचिकर बनाते हैं। यथा: मुख-मंडल, सरापा सौंदर्य, प्रथम प्रशंसा, गुलाक गौफे, मनमाफ़िक, मादक मुस्कान, मौके के मुताबिक, खोज-खबर, कामना के कफ़स की कैद, मुक़र्रर मुक़ाम, जंगजू जोधा, बिदाई की बेला, मन की मंजूषा, दुल्हिन के दिल, तौर-तरीकों, निको नाम, हिस्ने हसीन, पाक परवरदिगार, साजो-सामान, दरवाजे-दरीचे, रंग-रंजित, रूप-राशि, बीचों-बीच, गहमा-गहमी, नवोढ़ा नायिका, अतुलनीय अपरूप, मौके के मुताबिक़, अवश अनुभव, सिकुड़ी-सिमटी, नफ़े-नुकसान, तराजू पर तौल, सूरज को सलाम, ताज़ो-तख़्त, हमराज़-हमसफ़र-हमपहलू, सुभाव से सुखी, मोहब्बत की मिसाल, धूम-धाम, धूम-धड़ाका, चहल-पहल, रस और रहस, आका को आराम, खुशखुल्कखानम, कल का किस्सा, आलीशान और अजीमुश्शान, दरो-दीवार, लाज की लालिमा, मजेमीन। कशाकश, नश्बोनमा आदि। इन शब्द-प्रयोगों से बोझिल, त्रासद और अफसोसनाक वाकये भी आनुप्रासिक मुहावरेदारी की वजह से बोझिलता से मुक्त हो सके हैं। गद्य में ऐसे प्रयोगों से अनुप्रास, उपमा, यमक, श्लेष आदि  अलंकारों के लक्षण  द्रष्टव्य हैं। गद्य को कवियों की कसौटी कहा गया है। डॉ. वर्मा इस कसौटी पर खरे उतरे हैं।
                         कहावतों और मुहावरों के मुक्त प्रयोग से उपन्यास की भाषा बलखाती नदी की तरंगित लहरों की तरह कलकल निनाद करती प्रतीत होती है। कानों में मिसरी घोलना, असंभव सी बात सम्भावना की देहलीज़ पर घुटने टेक सकती है, ख्वाब में आने की दावत देकर, दिल के दर्पण में दीदार कर ले, मधुमासी सौन्दर्य की आभा बिखेरती आभिजात्य  और गरिमा की प्रतिकृति नवलवधु, मदमाती सुगंध से कक्ष महमहा रहा था जैसी कोमलकांत पदावली पाठक के मन को प्रफुल्लित करती है।                       
वातावरण: 
                          वातावरण से अभिप्राय देश, काल, प्रकृति, आचार-विचार, रीति-रिवाज़, रहन-सहन तथा राजनैतिक-सामाजिक परिस्थितियों के चित्रण से होता है। ऐतिहासिक उपन्यासों में तात्कालिक वातावरण ही प्रामाणिकता का परिचायक होता है। वातावरण आधुनिक हो तो घटित घटनाएँ काल्पनिक और अप्रासंगिक प्रतीत होंगी। मुमताजमहल का किरदार जिस दौर का है उसमें भारतीय और मुगल सभ्यताओं का मेल-जोल हो रहा था। अतः, मुग़ल दरबारों के षड्यंत्रों, महलों की अंतर्कलहों, सत्ता के संघर्ष, चापलूसी, जी हुजूरी, स्वामिभक्ति, गद्दारी, बगावत, भोग-विलास, युद्ध और लूट आदि का चित्रण अप्रासंगिक होने पर भी अपरिहार्य हो जाता है। जिस तरह वृन्दावन लाल वर्मा के उपन्यासों में व्याप्त 'बुन्देली' माटी की सौंधी गंध उन्हें प्राणवंत बनाती है, अमृत लाल नागर के उपन्यासों में 'अवधी' की मिठास प्रसंगों को जीवंत करती है, अंग्रेजी साहित्य में 'स्कोटिश' तथा 'आयरिश' कथानकों पर केन्द्रित उपन्यासों को उन अंचलों के नाम से ही जाना जाता है उसी तरह डॉ. वर्मा की यह कृति हिन्दू-मुग़ल काल की परिचायक है और वही वातावरण कृति में व्याप्त है। 
शैली:   
                        शैली उपन्यासकार की अपनी ईजाद होती है। शैली से उपन्यासकार को पहचाना जा सकता है। जयशंकर प्रसाद, यशपाल, अमृतलाल नागर, हजारीप्रसाद द्विवेदी, राहुल संकृत्यायन, भगवतीचरण वर्मा, वृन्दावनलाल वर्मा, प्रेमचन्द, उपेन्द्रनाथ 'अश्क' आदि की शैली ही उनकी पहचान है। उपन्यासकार न प्रगट होता है, न छिपता है। वह अपनी शैली के माध्यम से बादलों से आँख मिचौली करते चाँद, या नदी के प्रवाह में छिपी लहरों की तरह अपनी उपस्थिति झलकाता है। डॉ. वर्मा ने अपनी इस प्रथा औपन्यासिक कृति में अपनी शैली निर्मित की है जिसकी पहचान आगामी कृतियों से पुष्ट होगी। 
उद्देश्य: 
                        उपन्यास रचना का मूल उद्देश्य निस्संदेह मनोरंजन होता है किन्तु सक्षम उपन्यासकार घटनाओं एवं पात्रों के माध्यम से पाठक को शिक्षित, सचेत, जागृत तथा संवेदनशील भी बनाता है। प्रेमचंद अपने पात्रों के माध्यम से पाठक को सामाजिक विसंगतियों के प्रति सचेत कर परिवर्तन हेतु प्रेरित करते हैं। यशपाल के उपन्यास क्रांतिकारियों के बलिदान को रेखांकित करते हैं। जैनेन्द्र की औपन्यासिक कृतियाँ गांधीवादी परिवर्तनों से उज्जवल भविष्य निर्माण का सन्देश देते हैं। आचार्य चतुरसेन सांस्कृतिक घटनाओं का वर्तमान परिप्रेक्ष्य में उद्घाटन करते हैं। गुरुदत्त सामाजिक परिवर्तन और पारिवारिक ढांचे की महत्ता प्रतिपादित करते हैं। रवीन्द्रनाथ का गोरा लम्बे बोझिल संवादों से  दार्शनिक सिद्धांतों का प्रतिपादन करता है। विवेच्य कृति में डॉ. वर्मा भारतीय राजाओं की फूट, मुगलों आक्रामकता, सम्राटों की निरंकुशता की  आधारशिला पर निर्मित सहिष्णुता, सद्भाव की श्रेष्ठता तथा प्रेम की उदात्तता का संदेश देते हैं। शाहजहाँ के अंत के माध्यम से उपन्यासकार संदेश देता है कि सत्ता, धन या बल अंत में कुछ साथ नहीं रहता, साथ रहती हैं  यादें और भावनाएं। उपन्यास नायिका के माध्यम से इस्लाम में स्त्री की स्थिति उद्घाटित हुई है कि साम्राज्ञी तथा पति की प्रिय होकर भी वह स्वतंत्र चेता नहीं हो सकी तथा पति की इच्छा को सर्वोपरि मानकर संतानों को जन्म देने में ही जीवन की सार्थकता मानती रही। 
                        स्त्रीविमर्शवादियों को 'खाविंद के पैरों से जूते उतारकर अपने दमन से साफ़ करनेवाली यह साम्राज्ञी किस तरह स्वीकार्य होगी? सम्राट के इशारे पर निकाह तय होना, रुकना, होना निकाह के बाद अन्य शौहर के साथ लगातार यात्राएं, युद्ध और संतानों को जन्म देने के मध्य प्रेम के कितने पल उसे नसीब हुए होंगे? उसकी क़ाबलियत शौहर को मुश्किलों और मुसीबतों में सलाह देने तक सीमित है। वह बच्चों को कैसी तालीम दे सकी यह सत्ता के लिए भाई  के हाथों भाई की हत्या और पुत्र के हाथों पिता की कैद से ज़ाहिर हुई। जिस फूफी की गोद में खेली, जिससे बहुत कुछ सीखा, जो उसे शाही खानदान में विवाहित कराने का जरिया बनी, उसको अपने पति के विरोध में देखकर भी वह कुछ न कर सकी। अपनी अप्रतिम रूपराशि से वह पति का मन मोह सकी किन्तु कैकेयी की तरह रण-संगिनी नहीं बन सकी। यहाँ तक की गर्भ धारण करने पर जान को संकट होने का सत्य भी वह पति को नहीं बता सकी। यद्यपि उपन्यासकार ने इसका कारण उसकी पति के प्रति समर्पण भावना को बताया है। दो जिस्म एक जान होने का दावा करनेवाले शौहर को बीबी की ही खबर न हो तो उसे सम्राट के रूप में या शौहर के रूप में कितना काबिल माना जाए? कई सवाल पाठक के मन को मथते हैं। उसके प्रेम की याद में बादशाह ने ताजमहल तामीर कराया, यह उपन्यासकार का मत है। इसे मान्य करें तो भी दो नजरिये सामने आते हैं जिन्हें शायरों ने इस तरह बयां किया है:
1. एक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताजमहल 
    सारी दुनिया को मोहब्बत की निशानी दी है ...
2. एक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताजमहल 
    हम गरीबों की मोहब्बत का उडाया है मजाक ... 
  
                        
भारतीय सर्वेक्षण विभाग के भूतपूर्व महानिदेशक डॉ. पुरुषोत्तम नागेश ओक ने अपनी पुस्तक 'ताजमहल राजपूती महल था' में प्रामाणिक रूप से सिद्ध किया है कि यह इमारत शाहजहाँ के जन्म से पूर्व से थी। ताजमहल के दरवाजों की लकड़ी की कार्बन डेटिंग पद्धति से जांच में भी यह शाहजहाँ से लगभग 300 वर्ष पूर्व सन 1359 की पाई गयी है तथापि डॉ. वर्मा इसे प्रचलित कथानुसार न केवल शाहजहाँ द्वारा मुमताज की स्मृति में बनवाया गया माना है इस मान्यता के समर्थन में तर्क भी गढ़े हैं। जैसे: इस सम्बन्ध में शाहजहाँ व् मुमताज में चर्चा, इमारत में हिन्दू मांगलिक प्रतीकों व भवन के नाम में साम्राज्ञी के नाम का भाग का पूर्व योजनानुसार होना आदि। 
                          ऐतिहासिक कथानकों में रूचि रखन वाले पाठको को डॉ. वर्मा का यह उपन्यास न केवल लुभाएगा, उनके शब्द भण्डार की वृद्धि भी करेगा। डॉ. वर्मा की मुहावरेदार संस्कृत-उर्दू मिश्रित हिंदी साहित्य और भाषा के प्रेमियों को और जानने के लिए प्रेरित करेगी। भाषाविद, समीक्षक, नाटककार के रूप में पूर्व प्रतिष्ठित डॉ. वर्मा का उपन्यासकार पहले पहल सामने आया है। उनकी प्रौढ़ कलम से हिंदी के सारस्वत कोष को और भी नगीने मिलें, यही कामना है। इस रोचक, सर्वोपयोगी ऐतिहासिक कृति से सहिष्णुता, सद्भाव, सहकारिता तथा सर्व धर्म समभाव को प्रोत्साहन मिलेगा। इस कृति की नायिका मुमताज महल पर श्री हरिमोहन थपलियाल के उपन्यास की तुलना में डॉ. वर्मा की यह कृति अधिक प्रामाणिक, प्रौढ़, रुचिकर तथा पठनीय है।
*****
Tags: 'salil', book, critic-, dr., mahal, mumtaj, novel, review, sameeksha, sanjiv, More…

एक कुंडली संजीव 'सलिल'

एक कुंडली
संजीव 'सलिल'
*
मंगलमय हो हर दिवस, दें मुझको आशीष.
'सलिल'-धार निर्मल रखें, हों प्रसन्न जगदीश..
हों प्रसन्न जगदीश, न पानी बहे आँख से.
अधरों की मुस्कान न घटती अगर बाँट दें..
दंगल कर दें बंद, धरा से कटे न जंगल
मंगल क्यों जाएँ, भू का हम कर दें मंगल..

Sanjiv verma 'Salil'
salil.sanjiv@gmail.com
http://divyanarmada.blogspot.com

भोजपुरी दोहा सलिला : संजीव 'सलिल'

भोजपुरी दोहा सलिला :
संजीव 'सलिल'
*
रउआ आपन देस में, हँसल छाँव सँग धूप।
किस्सा आपन देस का, इत खाई उत कूप।।
*
रखि दिहली झकझोर के, नेता भाषण बाँच।
चमचे बदे बधाई बा, 'सलिल' न देखल साँच।।
*
चिउड़ा-लिट्टी ना रुचे, बिरयानी की चाह।
चली बहुरिया मेम बन, घर फूंकन की राह।।
*
रोटी की खातिर 'सलिल', जिनगी भयल रखैल।
कुर्सी के खातिर भइल, हाय! सियासत गैल।।
*
आजु-काल्हि के रीत बा, कर औसर से प्यार।
कौनौ आपन देस में, नहीं किसी का यार।।
*
खाली चउका देखि के, दिहले मूषक भागि।
चौंकि परा चूल्हा निरख, आपन मुँह में आगि।।
*
रउआ रख संसार में, सबकी खातिर प्रेम।
हर पियास हर किसी की, हर से चाहल छेम।।
***

मुक्तिका: मचलते-मचलते संजीव 'सलिल'

मुक्तिका:
मचलते-मचलते
संजीव 'सलिल'
*
ग़ज़ल गाएगा मन मचलते-मचलते..
बहल जाएगा दिल बहलते-बहलते..

न चूकेगा अवसर, न पायेगा मौक़ा.
ठिठक जाएगा हाथ मलते न मलते..

तनिक मुस्कुरा दो इधर देखकर तुम
सम्हल जायेगा फिर फिसलते-फिसलते..

लाली रुखों की लगा लौ लगन की.
अरमां जगाती है जलते न जलते..

न भूलेगा तुमको चाहो जो हमको.
बदल जायेगा सब बदलते-बदलते..

दलो दाल छाती पे निश-दिन हमारी.
रहो बाँह में साँझ ढलते न ढलते..

पकड़ में न आये, अकड़ भी छुड़ाए.
जकड़ ले पलों में मसलते-मसलते..

'सलिल' स्नेह सागर न माटी की गागर.
सदियों पलेगा ये पलते न पलते..

***

शनिवार, 26 जनवरी 2013

गणतंत्र दिवस पर विशेष गीत: ध्वजा तिरंगी... संजीव 'सलिल'

गणतंत्र दिवस पर विशेष गीत:
Inline images 1


ध्वजा तिरंगी...

संजीव 'सलिल'
*
ध्वजा तिरंगी मात्र न झंडा
जन गण का अभिमान है.
कभी न किंचित झुकने देंगे,
बस इतना अरमान है...
*
वीर शहीदों के वारिस हम,
जान हथेली पर लेकर
बलिदानों का पन्थ गहेंगे,
राष्ट्र-शत्रु की बलि देकर.
सरे जग को दिखला देंगे
भारत देश महान है...
*
रिश्वत-दुराचार दानव को,
अनुशासन से मारेंगे.
पौधारोपण, जल-संरक्षण,
जीवन नया निखारेंगे.
श्रम-कौशल को मिले प्रतिष्ठा,
कण-कण में भगवान है...
*
हिंदी ही होगी जग-वाणी,
यह अपना संकल्प है.
'सलिल' योग्यता अवसर पाए,
दूजा नहीं विकल्प है.
सारी दुनिया कहे हर्ष से,
भारत स्वर्ग समान है...
****

गणतंत्र दिवस पर विशेष गीत: लोकतंत्र की वर्ष गांठ पर संजीव 'सलिल'

गणतंत्र दिवस पर विशेष गीत: 
लोकतंत्र की वर्ष गांठ पर
संजीव 'सलिल'
*
लोकतंत्र की वर्ष गांठ पर
भारत माता का वंदन...

हम सब माता की संतानें,
नभ पर ध्वज फहराएंगे.
कोटि-कोटि कंठों से मिलकर
'जन गण मन' गुन्जायेंगे.
'झंडा ऊंचा रहे हमारा',
'वन्दे मातरम' गायेंगे.
वीर शहीदों के माथे पर
शोभित हो अक्षत-चन्दन...

नेता नहीं, नागरिक बनकर
करें देश का नव निर्माण.
लगन-परिश्रम, त्याग-समर्पण,
पत्थर में भी फूंकें प्राण.
खेत-कारखाने, मन-मन्दिर,
स्नेह भाव से हों संप्राण.
स्नेह-'सलिल' से मरुथल में भी
हरिया दें हम नन्दन वन... 

दूर करेंगे भेद-भाव मिल,
सबको अवसर मिलें समान.
शीघ्र और सस्ता होगा अब
सतत न्याय का सच्चा दान.
जो भी दुश्मन है भारत का
पहुंचा देंगे उसे मसान.
सारी दुनिया लोहा मने
विश्व-शांति का हो मंचन...

***

शुक्रवार, 25 जनवरी 2013

छंद सलिला: तीन बार हो भंग त्रिभंगी संजीव 'सलिल'

छंद सलिला:
तीन बार हो भंग त्रिभंगी 
संजीव 'सलिल'
*
त्रिभंगी 32 मात्राओं का छंद है जिसके हर पद की गति तीन बार भंग होकर चार चरणों (भागों) में विभाजित हो जाती है। प्राकृत पैन्गलम के अनुसार:
पढमं दह रहणं, अट्ठ विरहणं, पुणु वसु रहणं, रस रहणं।
अन्ते गुरु सोहइ, महिअल मोहइ, सिद्ध सराहइ, वर तरुणं।
जइ पलइ पओहर, किमइ मणोहर, हरइ कलेवर, तासु कई।
तिब्भन्गी छंदं, सुक्खाणंदं, भणइ फणिन्दो, विमल मई।   
 (संकेत: अष्ट वसु = 8, रस = 6)      
सारांश: प्रथम यति 10 मात्रा पर, दूसरी 8 मात्रा पर, तीसरी 8 मात्रा पर तथा चौथी 6 मात्रा पर हो। हर पदांत में गुरु हो तथा जगण (ISI लघु गुरु लघु ) कहीं न हो।

केशवदास की छंद माला में वर्णित लक्षण:
विरमहु दस पर, आठ पर, वसु पर, पुनि रस रेख। 
करहु त्रिभंगी छंद कहँ, जगन हीन इहि वेष।।
(संकेत: अष्ट वसु = 8, रस = 6)

भानुकवि के छंद-प्रभाकर के अनुसार:
दस बसु बसु संगी, जन रसरंगी, छंद त्रिभंगी, गंत भलो।
सब संत सुजाना, जाहि बखाना, सोइ पुराना, पन्थ चलो।
मोहन बनवारी, गिरवरधरी, कुञ्जबिहारी, पग परिये।
सब घट घट वासी मंगल रासी, रासविलासी उर धरिये।
(संकेत: बसु = 8, जन = जगण नहीं, गंत = गुरु से अंत)

सुर काज संवारन, अधम उघारन, दैत्य विदारन, टेक धरे।
प्रगटे गोकुल में, हरि छिन छिन में, नन्द हिये में, मोद भरे।

त्रिभंगी का मात्रिक सूत्र निम्नलिखित है
"बत्तिस कल संगी, बने त्रिभंगी, दश-अष्ट अष्ट षट गा-अन्ता"

लय सूत्र: धिन ताक धिना धिन, ताक धिना धिन, ताक धिना धिन, ताक धिना।

नाचत जसुदा को, लखिमनि छाको, तजत न ताको, एक छिना। 

उक्त में आभ्यंतर यतियों पर अन्त्यानुप्रास इंगित नहीं है किन्तु जैन कवि राजमल्ल ने 8 चौकल, अंत गुरु, 10-8-8-6 पर विरति, चरण में 3 यमक (तुक) तथा जगण निषेध इंगित कर पूर्ण परिभाषा दी है।

गुजराती छंद शास्त्री दलपत शास्त्री कृत दलपत पिंगल में 10-8-8-6 पर यति, अंत में गुरु, तथा यति पर तुक (जति पर अनुप्रासा, धरिए खासा) का निर्देश दिया है।

सारतः: त्रिभंगी छंद के लक्षण निम्न हैं:
1. त्रिभंगी 32 मात्राओं का (मात्रिक) छंद है।
2. त्रिभंगी समपाद छंद है। 
3. त्रिभंगी के हर चरणान्त (चौथे चरण के अंत) में गुरु आवश्यक है। इसे 2 लघु से बदलना नहीं चाहिए।  
4. त्रिभंगी के प्रत्येक चरण में 10-8-8-6 पर यति (विराम) आवश्यक है। मात्रा बाँट 8 चौकल अर्थात 8 बार चार-चार मात्रा के शब्द प्रावधानित हैं जिन्हें 2+4+4,  4+4, 4+4, 4+2 के अनुसार विभाजित किया जाता है। इस तरह 2 +  7x 4 +  2 = 32 सभी पदों में होती है।
5. त्रिभंगी के चौकल 7 मानें या 8 जगण का प्रयोग सभी में वर्जित है।
6. त्रिभंगी के हर पद में पहले दो चरणों के अंत में समान तुक हो किन्तु यह बंधन विविध पदों पर नहीं है।
7. त्रिभंगी के तीसरे चरण के अंत में लघु या गुरु कोई भी मात्रा हो सकती है किन्तु कुशल कवियों ने सभी पदों के तीसरे चरण की मात्रा एक सी रखी है।
8. त्रिभंगी के किसी भी मात्रिक गण में विषमकला नहीं है। सम कला के मात्रिक गण होने से मात्रिक मैत्री का नियम पालनीय है।
9. त्रिभंगी के प्रथम दो पदों के चौथे चरणों के अंत में समान तुक हो। इसी तरह अंतिम दो पदों के चौथे चरणों के अंत में सामान तुक हो। चारों पदों के अंत में समान तुक होने या न होने का उल्लेख कहीं नहीं मिला।  

उदाहरण:
1. महाकवि तुलसीदास रचित इस उदाहरण में तीसरे चरण की 8 मात्राएँ अगले शब्द के प्रथम अक्षर पर पूर्ण होती हैं, यह आदर्श स्थिति नहीं है किन्तु मान्य है।
धीरज मन कीन्हा, प्रभु मन चीन्हा, रघुपति कृपा भगति पाई।
पदकमल परागा, रस अनुरागा, मम मन मधुप करै पाना।
सोई पद पंकज, जेहि पूजत अज, मम सिर धरेउ कृपाल हरी।
जो अति मन भावा, सो बरु पावा, गै पतिलोक अनन्द भरी। 

2. तुलसी की ही निम्न पंक्तियों में हर पद का हर चरण आपने में पूर्ण है।
परसत  पद पावन, सोक नसावन, प्रगट भई तप, पुंज सही। 
देखत रघुनायक, जन सुख दायक, सनमुख हुइ कर, जोरि रही। 
अति प्रेम अधीरा, पुलक सरीरा, मुख नहिं आवै, वचन कही। 
अतिशय बड़भागी, चरनन लागी, जुगल नयन जल, धार बही।
यहाँ पहले 2 पदों में तीसरे चरण के अंत में 'प' तथा 'र' लघु (समान) हैं किन्तु अंतिम 2 पदों में तीसरे चरण के अंत में क्रमशः गुरु तथा लघु हैं।

3.महाकवि केशवदास की राम चन्द्रिका से एक त्रिभंगी छंद का आनंद लें:
सम सब घर सोभैं, मुनिमन लोभैं, रिपुगण छोभैं, देखि सबै।
बहु दुंदुभि बाजैं, जनु घन गाजैं, दिग्गज लाजैं, सुनत जबैं। 
जहँ तहँ श्रुति पढ़हीं, बिघन न बढ़हीं, जै जस मढ़हीं, सकल दिसा।
सबही सब विधि छम, बसत यथाक्रम, देव पुरी सम, दिवस निसा।
यहाँ पहले 2 पदों में तीसरे चरण के अंत में 'भैं' तथा 'जैं' गुरु (समान) हैं किन्तु अंतिम 2 पदों में तीसरे चरण के अंत में क्रमशः गुरु तथा लघु हैं। 

4. श्री गंगाप्रसाद बरसैंया कृत छंद क्षीरधि से तुलसी रचित त्रिभंगी छंद उद्धृत है:
रसराज रसायन, तुलसी गायन, श्री रामायण, मंजु लसी।
शारद शुचि सेवक, हंस बने बक, जन कर मन हुलसी हुलसी।
रघुवर रस सागर, भर लघु गागर, पाप सनी मति, गइ धुल सी।
कुंजी रामायण, के पारायण, से गइ मुक्ति राह खुल सी।
टीप: चौथे पद में तीसरे-चौथे चरण की मात्राएँ 14 हैं किन्तु उन्हें पृथक नहीं किया जा सकता चूंकि 'राह' को 'र'+'आह' नहीं लिखा जा सकता। यह आदर्श स्थिति  नहीं है। इससे बचा जाना चाहिए। इसी तरह 'गई' को 'गइ' लिखना अवधी में सही है किन्तु हिंदी में दोष माना जाएगा।

*** 

त्रिभंगी छंद के कुछ अन्य उदाहरण निम्नलिखित हैं

री शान्ति जिनेशं, नुतशक्रेशं, वृषचक्रेशं चक्रेशं |
हनि अरिचक्रेशं, हे गुनधेशं, दयाऽमृतेशं, मक्रेशं |
मंदार सरोजं, कदली जोजं, पुंज भरोजं, मलयभरं |
भरि कंचनथारी, तुमढिग धारी, मदनविदारी, धीरधरं ||    
--रचनाकार : ज्ञात नहीं

रस-सागर पाकर, कवि ने आकर, अंजलि भर रस-पान किया.
ज्यों-ज्यों रस पाया, मन भरमाया, तन हर्षाया, मस्त हिया..
कविता सविता सी, ले नवता सी, प्रगटी जैसे जला दिया.
सारस्वत पूजा, करे न दूजा, करे 'सलिल' ज्यों अमिय पिया..
-- संजीव 'सलिल'

साजै मन सूरा, निरगुन नूरा, जोग जरूरा, भरपूरा ,
दीसे नहि दूरा, हरी हजूरा, परख्या पूरा, घट मूरा
जो मिले मजूरा, एष्ट सबूरा, दुःख हो दूरा, मोजीशा
आतम तत आशा, जोग जुलासा, श्वांस ऊसासा, सुखवासा ||
--शम्भुदान चारण

जनश्रुति / क्षेपक- रामचरितमानस में बालकाण्ड में अहल्योद्धार के प्रकरण में चार (४) त्रिभङ्गी छंद प्रयुक्त हुए हैं. कहा जाता है कि इसका कारण यह है कि अपने चरण से अहल्या माता को छूकर प्रभु श्रीराम ने अहल्या के पाप, ताप और शाप को भङ्ग (समाप्त) किया था, अतः गोस्वामी जी की वाणी से सरस्वतीजी ने त्रिभङ्गी छन्द को प्रकट किया.
__________



गणतंत्र दिवस पर विशेष : गीत, कविता, लघु कथा, नव गीत

गणतंत्र दिवस पर विशेष :
गीत

सारा का सारा हिंदी है

आचार्य संजीव 'सलिल'
*
जो कुछ भी इस देश में है, सारा का सारा हिंदी है.

हर हिंदी भारत माँ के माथे की उज्जवल बिंदी है....
*
मणिपुरी, कथकली, भरतनाट्यम, कुचपुडी, गरबा अपना है.

लेजिम, भंगड़ा, राई, डांडिया हर नूपुर का सपना है.

गंगा, यमुना, कावेरी, नर्मदा, चनाब, सोन, चम्बल,

ब्रम्हपुत्र, झेलम, रावी अठखेली करती हैं प्रति पल.

लहर-लहर जयगान गुंजाये, हिंद में है और हिंदी है.

हर हिंदी भारत माँ के माथे की उज्जवल बिंदी है....
*
मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, गिरजा सबमें प्रभु एक समान.

प्यार लुटाओ जितना, उतना पाओ औरों से सम्मान.

स्नेह-सलिल में नित्य नहाओ निर्माणों के दीप जला.

बाधा, संकट, संघर्षों को गले लगाओ नित मुस्का.

पवन, वन्हि, जल, थल, नभ पावन, कण-कण तीरथ, हिंदी है.

हर हिंदी भारत माँ के माथे की उज्जवल बिंदी है....
*
जै-जैवन्ती, भीमपलासी, मालकौंस, ठुमरी, गांधार.

गजल, गीत, कविता, छंदों से छलक रहा है प्यार अपार.

अरावली, सतपुड़ा , हिमालय, मैकल, विन्ध्य, उत्तुंग शिखर.

ठहरे-ठहरे गाँव हमारे, आपाधापी लिए शहर.

कुटी, महल, अँगना, चौबारा, हर घर-द्वारा हिंदी है.

हर हिंदी भारत माँ के माथे की उज्जवल बिंदी है....
*
सरसों, मका, बाजरा, चाँवल, गेहूँ, अरहर, मूँग, चना.

झुका किसी का मस्तक नीचे, 'सलिल' किसी का शीश तना.

कीर्तन, प्रेयर, सबद, प्रार्थना, बाईबिल, गीता, ग्रंथ, कुरान.

गौतम, गाँधी, नानक, अकबर, महावीर, शिव, राम महान.

रास कृष्ण का, तांडव शिव का, लास्य-हास्य सब हिंदी है.

हर हिंदी भारत माँ के माथे की उज्जवल बिंदी है....
*
ट्राम्बे, भाखरा, भेल, भिलाई, हरिकोटा, पोकरण रतन.

आर्यभट्ट, एपल, रोहिणी के पीछे अगणित छिपे जतन.

शिवा, प्रताप, सुभाष, भगत, रैदास, कबीरा, मीरा, सूर.

तुलसी, रामकृष्ण, रामानुज, माँ, अरविन्द खुदाई नूर.
 
विवेक, रवींद्र, विनोबा, ओशो, जयप्रकाश भी हिंदी है.

हर हिंदी भारत माँ के माथे की उज्जवल बिंदी है....

****************************************

जनगण के मन में: -संजीव सलिल

जनतंत्र की सोच को समर्पित कविता           

-संजीव सलिल
*
जनगण के मन में जल पाया,
नहीं आस का दीपक.
कैसे हम स्वाधीन देश जब
लगता हमको क्षेपक?

हम में से
हर एक मानता,
निज हित सबसे पहले।
नहीं देश-हित कभी साधता
कोई कुछ भी कह ले।

कुछ घंटों 'मेरे देश की धरती'
फिर हो 'छैंया-छैंया'।
वन काटे, पर्वत खोदे,
भारत माँ घायल भैया।

किसको चिंता? यहाँ देश की?
सबको है निज हित की।
सत्ता पा- निज मूर्ति लगाकर,
भारत की दुर्गति की।
श्रद्धा, आस्था, निष्ठा बेचो
स्वार्थ साध लो अपना।
जाये भाड़ में किसको चिंता
नेताजी का सपना।

कौन हुआ आजाद?
भगत है कौन देश का बोलो?
झंडा फहराने के पहले
निज मन जरा टटोलो।

तंत्र न जन का
तो कैसा जनतंत्र तनिक समझाओ?
प्रजा उपेक्षित प्रजातंत्र में
क्यों कारण बतलाओ?

लोक तंत्र में लोक मौन क्यों?
नेता क्यों वाचाल?
गण की चिंता तंत्र न करता
जनमत है लाचार।

गए विदेशी, आये स्वदेशी,
शासक मद में चूर।
सिर्फ मुनाफाखोरी करता
व्यापारी भरपूर।

न्याय बेचते जज-वकील मिल
शोषित- अब भी शोषित।
दुर्योधनी प्रशासन में हो
सत्य किस तरह पोषित?

आज विचारें
कैसे देश हमारा साध्य बनेगा?
स्वार्थ नहीं सर्वार्थ
'सलिल' क्या हरदम आराध्य रहेगा?
****

लघु कथा: शब्द और अर्थ --संजीव वर्मा "सलिल "


शब्द कोशकार ने अपना कार्य समाप्त किया...कमर सीधी कर लूँ , सोचते हुए लेटा कि काम की मेज पर कुछ खटपट सुनायी दी... मन मसोसते हुए उठा और देखा कि यथास्थान रखे शब्दों के समूह में से निकल कर कुछ शब्द बाहर आ गए थे। चश्मा लगाकर पढ़ा , वे शब्द 'लोकतंत्र', प्रजातंत्र', 'गणतंत्र' और 'जनतंत्र' थे।

शब्द कोशकार चौका - ' अरे! अभी कुछ देर पहले ही तो मैंने इन्हें यथास्थान रखा रखा था, फ़िर ये बाहर कैसे...?'

'चौंको मत...तुमने हमारे जो अर्थ लिखे हैं वे अब हमें अनर्थ लगते हैं। दुनिया का सबसे बड़ा लोक तंत्र लोभ तंत्र में बदल गया है। प्रजा तंत्र में तंत्र के लिए प्रजा की कोई अहमियत ही नहीं है। गण विहीन गण तंत्र का अस्तित्व ही सम्भव नहीं है। जन गण मन गाकर जनतंत्र की दुहाई देने वाला देश सारे संसाधनों को तंत्र के सुख के लिए जुटा रहा है। -शब्दों ने एक के बाद एक मुखर होते हुए कहा


****************************
नव गीत
संजीव 'सलिल'
शहनाई बज रही ...
*
शहनाई बज रही
शहर में मुखिया आये...
*
जन-गण को कर दूर
निकट नेता-अधिकारी.
इन्हें बनायें सूर
छिपाकर कमियाँ सारी.
सबकी कोशिश
करे मजूरी
भूखी सुखिया
फिर भी गाये.
शहनाई बज रही
शहर में मुखिया आये...
*
है सच का आभास
कर रहे वादे झूठे.
करते यही प्रयास
वोट जन गण से लूटें.
लोकतंत्र की
लख मजबूरी,
लोभतंत्र
दुखिया पछताये.
शहनाई बज रही
शहर में
मुखिया आये...

*

आये-गये अखबार रँगे,
रेला-रैली में.
शामिल थे बटमार
कर्म-चादर मैली में.
अंधे देखें,
बहरे सुन,
गूंगे बोलें,
हम चुप रह जाएँ.
शहनाई बज रही
शहर में
मुखिया आये...
*

गुरुवार, 24 जनवरी 2013

शुभ कामना मनीषा कोइराला



Vande Mataram.

प्रसिद्ध  फिल्म अभिनेत्री मनीषा कोइराला को कैंसर के समाचार ने सभी कलाप्रेमियों को चिंतित किया है। दिव्यनर्मदा परिवार की और से उन्हें शुभ कामना प्रेषित की गई है।

Dear Mnisha ji!

May Lord Pashupatinath bless you with fast and full recovery. Don't loose heart... ultimately you will win.
I pray almighty for you.

हार न सकती मनीषा, पशुपति दें आशीष.
अपराजेय जिजीविषा, सदा साथ हों ईश..
सदा साथ हों ईश, कैंसर बाजी हारे.
आया है युवराज जीत, फिर ध्वज फहरा रे.
दुआ 'सलिल' की हिम्मत किंचित हार न सकती.
भारत माता साथ मनीष हार न सकती..

Sanjiv verma 'Salil'
salil.sanjiv@gmail.com
http://divyanarmada.blogspot.com
94251 83244 / 0761 2411131

सामयिक षटपदियाँ: संजीव 'सलिल'

सामयिक षटपदियाँ:
संजीव 'सलिल'
*
मानव के आचार का स्वामी मात्र विचार.
सद्विचार से पाइए, सुख-संतोष अपार..
सुख-संतोष अपार, रहे दुःख दूर आपसे.
जीवन होगा मुक्त, मोहमय महाताप से..
कहे 'सलिल' कुविचार, नाश करते दानव के.
भाग्य जागते निर्बल होकर भी मानव के..
***
हार न सकती मनीषा, पशुपति दें आशीष.
अपराजेय जिजीविषा, सदा साथ हों ईश..
सदा साथ हों ईश, कैंसर बाजी हारे.
आया है युवराज जीत, फिर ध्वज फहरा रे.
दुआ 'सलिल' की, मौत इस तरह मार न सकती.
भारत माता साथ, मनीषा हार न सकती..
*
शीश काटना उचित जब, रहे सामने युद्ध.
शीश झुकाना उचित यदि, मिलें सामने बुद्ध..
शुद्ध ह्रदय से कीजिए, मन में तनिक विचार.
शांति काल में शीश, क्यों काटें- अत्याचार..
दंड न अत्याचार का, दें- हों कुपित शशीश.
बदले में ले लीजिए, दुश्मन के सौ शीश..
*               
***

श्री राधा-कृष्ण लीला प्रसंग प्रो. राजेंद्र 'ऋषि'

ॐ श्री राधा-कृष्णाय नमः


श्री राधा-कृष्ण लीला प्रसंग
प्रो. राजेंद्र 'ऋषि'
*
नन्द बबा घर छोरो भयो, बृषभानु घरै इक छोरी भई. 
साँवरो रंग लला कौ दिपै, अरु गौरा के रंग की गोरी भई..
गोकुल मैं  नव चन्द्र उग्यौ, बरसाने में एक चकोरी भई..
प्रेम कौ पन्थ चलाइबै कों, श्री राधिका-कृष्ण की जोरी भई..
*
प्रेम के मीठे दो बोल कहौ, बढ़ कें सत्कार करौ नें करौ.
दधि-गागर कों कम भार करो, दूजौ उपकार करौ नें करौ..
ये जन्म में प्रीति प्रगाढ़ रखौ, ओ जन्म में प्यार करौ नें करौ.
अबै पार कराओ हमें जमुना, भव सागर पार करौ नें करौ..
*
घनश्याम कौ रूप कहा कहिये, कुल अंगना काम कला सौ गिरै.
बरसै जो झमाझम सावन सौ, कभि क्वांर के एक झला सो गिरै..
लरजै-गरजै चमकै-दमकै, चितचोर चपल चपला सो गिरै.
घुँघरू सौ गसै, करधन सौ कसै, मणिमाल सौ टूटे छला सौ गिरै..
*
ग्वालों में एक गुपाल रह्यो, रहि ग्वालिन में इक नोंनी सी राधा.
मोहन के मन भाये दोउ, एक माखन और सलोनी सी राधा..
खेत सरीखो हरी को हियो, रही प्रेम के बीज की बौनी सी राधा.
कृष्ण रहे मृग की तृष्णा, रही जीवन भर मृग-छौनी सी राधा..
*
कृष्ण कौ प्रेम पतंग समान, पतंग की डोर सी राधा रही.
कृष्ण रहे जमुना जल से. हर ओर हिलोर सी राधा रही..
कृष्ण रहे बंशी के समान, तो बाँस के पोर सी राधा रही.
कृष्ण को प्रेम असीम भयो, तौ असीम के छोर सी राधा रही..
*
श्याम शिला के समान रहे, अरु प्रेम-प्रपात सी राधा रही.
स्याम जू स्याही समान रहे, भरि पूरी दवात सी राधा रही..
छाया से स्याम रहे दिन में, खिली चाँदनी रात सी राधा रही. 
बेर के काँटों सी यादें रहीं, तऊ केर की पात सी राधा रही.. 
*
नजरों पै चढ़ीं ज्यों नटखट की, खटकी खटकी फिरतीं ललिता.
कछु जादूगरी श्यामल लट की, लटकी लटकी फिरतीं ललिता..
भई कुंजन मैं झूमा-झटकी, झटकी झटकी फिरतीं ललिता.
सिर पै धर कें दधि की मटकी, मटकी मटकी फिरतीं ललिता..
*
        प्रेषक         

मंगलवार, 22 जनवरी 2013

सामयिक गीत: पंच फैसला... संजीव 'सलिल'

सामयिक गीत:
पंच फैसला...
संजीव 'सलिल'
*
पंच फैसला सर-आँखों,
पर यहीं गड़ेगा लट्ठा...
*
नाना-नानी, पिता और माँ सबकी थी ठकुराई.
मिली बपौती में कुर्सी, क्यों तुम्हें जलन है भाई?
रोजगार है पुश्तों का, नेता बन भाषण देना-
फर्ज़ तुम्हारा हाथ जोड़, सर झुका करो पहुनाई.
सबको अवसर? सब समान??
सुन-कह लो, करो न ठट्ठा...
*
लोकतंत्र है लोभतन्त्र, दल दाम लगाना जाने,
भौंक तन्त्र को ठोंकतन्त्र ने दिया कुचल मनमाने.
भोंक पीठ में छुरा, भाइयों! शोक तन्त्र मुस्काये-
मृतकों के घर जा पैसे दे, वादे करें लुभाने..
संसद गर्दभ ढोएगी
सारे पापों का गट्ठा...  
*
उठा पनौती करी मौज, हो गए कहीं जो बच्चे.
हम देते नकार रिश्तों को, हैं निर्मोही सच्चे.
देश खेत है राम लला का, चिड़ियाँ राम लला की-
पंडा झंडा कोई हो, हम खेल न खेले कच्चे..
कहीं नहीं चाणक्य जड़ों में
डाल सके जो मट्ठा...
*
नेता जी-शास्त्री जी कैसे मरे? न पता लगाया..
अन्ना हों या बाबा, दिन में तारे दिखा भगाया.
घपले-घोटालों से फुर्सत, कभी तनिक पाई तो-
बंदर घुडकी दे-सुन कर फ़ौजी का सर कटवाया.
नैतिक जिम्मेदारी ले वह
जो उल्लू का पट्ठा...
*
नागनाथ गर हटा, बनेगा साँपनाथ ही नेता.
फैलाया दूजा तब हमने, पहला जाल समेटा.
केर-बेर का संग बना मोर्चा झपटेंगे सत्ता-
मौनी बाबा कोई न कोई मिल जाएगा बेटा.
जोकर लिए हाथ में हम
तुम सत्ता चलो या अट्ठा...
***

सोमवार, 21 जनवरी 2013

गजल: मनोहर चौबे 'आकाश'

गजल:
मनोहर चौबे 'आकाश'
*
कैसे उनको  अपना मानें, हैं जिनके विश्वास अलग।
आँखें आँसू अलग-अलग हैं, पीडायें संत्रास अलग।।

उनके आँगन बारिश लेकिन, हैं अपने आँगन सूखे।
अलग-अलग हैं सावन-बादल, हैं उनके मधुमास अलग।।

भोगी है हमने भी मुश्किल, भूख गरीबी बरबादी ।
लेकिन किये जा रहे हमसे, उनके प्रगति विकास अलग।।

हो चाहे अपराध एक ही, अलग सजा हमको उनको
हैं क्या थाना पुलिस अदालत, होते कारावास अलग।।

हम बलिपशु का भाग्य लिए हैं, वे खांडा जल्लादों का।
होते उनके त्योहारों के, सारे ही अंदाज़ अलग।।  

है हमको चुल्लू भर पानी, पर उनका पूरा सागर।
आखिर कौन बता सकता है, क्यों है उनकी प्यास अलग?

हमको रोते उनको भोजन, हम जीते हैं वे रहते।
उन्हें मिले वरदान समय के, हमें मिले अभिशाप अलग।।

कैसे बतलाएं हम कितना, है पीड़ादायक अनुभव।
होते उन जैसे लोगों के, क्यों धरती ''आकाश'' अलग।।

***

चिंतन: धर्म क्या है? नीरज श्रीवास्तव


·
क्या है सनातन धर्म ? 
 
(1) भगवान् राम की जीवनी देखे तो जीवन सदाचार निष्ठा त्याग से पूर्ण कर्म प्रधान है । जहाँ भगवन उनके सारे दायित्वों कुशलता पूर्वक निभाते है । एक धोबी द्वारा असंस्तुति जताने पर राजधर्म वश अपनी पत्नी सीता का त्याग कर देते हैं ।
(2) भगवान् कृष्ण ने जीवन को कर्म प्रधान बताने के साथ साथ धर्म, जाति आदि की उत्तम व्याख्या भी की है जैसे की बचपन में वो इंद्र की पूजा-हवन करना बंद करते हैं ।

भगवान कृष्ण द्वारा गीता में वेद और पंडितों पर कुछ कहे गए श्लोको को देखें:

विद्याविनयसंपन्ने ब्रह्माने गविहस्तनी । शुनि चैव श्रव्पाके च पंडिता समदर्शिनः ।।
इहैव तैर्जितः सर्गो येषाम समय स्थितम मनः । निर्दोषं ही समं ब्रहम तस्माद ब्रहाणी ते स्थिताः ।।

अर्थात सचमुच वही ऋषि और पंडित है जो विद्या तथा विनय से युक्त ब्राहमण, गाय, कुत्ते और चंडाल में समदृष्टि रखता है ।
जिसका अन्तः करण समता में अर्थात सब भूतों के अंतर्गत ब्रम्हरूप संभव में निश्छलता पूर्वक स्थित है, उसने जीवित
अवस्था में ही पृथ्वी स्वर्ग आदि समस्त लोकों पर विजय प्राप्त कर ली है चूंकि ब्रम्हा निर्दोष और सम है,  इसलिए जो समदर्शी (सबको सामान भाव से देखने वाला) एवं निर्दोष है वे ब्रहम में ही स्थित कहे जाते है । वेदांती नैतिकता का यही सारांश है - सबके प्रति साम्य ।

यामिमां पुस्पिताम वाचम प्रवद्न्त्यविपश्वितः । वेद वादरताः पार्थ नान्या स्थिति वादिनः ।।
कामात्मानः स्वर्गपरा जन्मकर्मफलप्रद्शाम ।क्रियाविश्लेशबहुलां भोगैश्वर्यगतिम् प्रति ।।

भावार्थ :- हे पृथा पुत्र अल्प ज्ञानी मनुष्य वेदों के उन अलंकारिक शब्दों के प्रति ज्यादा आसक्त रहते हैं जो स्वर्ग की प्राप्ति , उत्तम जन्म ऐश्वर्य आदि के प्राप्ति के लिए सकाम कर्म फल की ( यज्ञ , या किसी देव विशेष पूजा से इक्षित वास्तु की प्राप्ति ) विविध क्रियाओं  का वर्णन करते हैं , अपनी इन्द्रिय तृप्ति और ऐश्वर्यमय जीवन की कामना के कारण कहते हैं इससे बढ़कर कुछ भी नहीं, यही सर्वोपरि है ।

भोगैश्वर्यप्रस्क्ताना तयापह्रीतचेतशाम । व्यावासयात्मिका बुद्धिः सामधो ना विधीयते ।।

जो मनुष्य इन्द्रियों के भोग तथा भौतक ऐश्वर्य के प्रति आसक्त होने से ऐसी वस्तुओ से मोहग्रस्त हो जाते हैं उन मनुष्यों में भगवान् के प्रति दृढ संकल्पित बुद्धि नहीं होती है ।
(3) भगवान् बुद्ध -

बुद्ध के उपदेशों का सार इस प्रकार है -

सम्यक ज्ञान

बुद्ध के अनुसार धम्म यह है: (धम्म का अर्थ धर्म लें यहाँ)

जीवन की पवित्रता बनाए रखना
जीवन में पूर्णता प्राप्त करना
निर्वाण प्राप्त करना
तृष्णा का त्याग
यह मानना कि सभी संस्कार अनित्य हैं
कर्म को मानव के नैतिक संस्थान का आधार मानना

बुद्ध के अनुसार क्या अ-धम्म है-- (अधम्म का अधर्म लें यहाँ )

परा-प्रकृति में विश्वास करना
आत्मा में विश्वास करना
कल्पना-आधारित विश्वास मानना
धर्म की पुस्तकों का वाचन मात्र

बुद्ध के अनुसार सद्धम्म क्या है-- 1. जो धम्म प्रज्ञा की वृद्धि करे--

जो धम्म सबके लिए ज्ञान के द्वार खोल दे
जो धम्म यह बताए कि केवल विद्वान होना पर्याप्त नहीं है
जो धम्म यह बताए कि आवश्यकता प्रज्ञा प्राप्त करने की है

2. जो धम्म मैत्री की वृद्धि करे--

जो धम्म यह बताए कि प्रज्ञा भी पर्याप्त नहीं है, इसके साथ शील भी अनिवार्य है
जो धम्म यह बताए कि प्रज्ञा और शील के साथ-साथ करुणा का होना भी अनिवार्य है
जो धम्म यह बताए कि करुणा से भी अधिक मैत्री की आवश्यकता है.

3. जब वह सभी प्रकार के सामाजिक भेदभावों को मिटा दे

जब वह आदमी और आदमी के बीच की सभी दीवारों को गिरा दे
जब वह बताए कि आदमी का मूल्यांकन जन्म से नहीं कर्म से किया जाए
जब वह आदमी-आदमी के बीच समानता के भाव की वृद्धि करे

महावीर जैन ने भी वही कहा -

1. सत्य के बारे में भगवान महावीर स्वामी कहते हैं, हे पुरुष! तू सत्य को ही सच्चा तत्व समझ। जो बुद्धिमान सत्य की ही आज्ञा में रहता है, वह मृत्यु को तैरकर पार कर जाता है।
 
2. इस लोक में जितने भी त्रस जीव (एक, दो, तीन, चार और पाँच इंद्रिय वाले जीव) आदि की हिंसा मत कर, उनको उनके पथ पर जाने से न रोको। उनके प्रति अपने मन में दया का भाव रखो। उनकी रक्षा करो। यही अहिंसा का संदेश भगवान महावीर अपने उपदेशों से हमें देते हैं।
 
3. परिग्रह पर भगवान महावीर कहते हैं जो आदमी खुद सजीव या निर्जीव चीजों का संग्रह करता है, दूसरों से ऐसा संग्रह कराता है या दूसरों को ऐसा संग्रह करने की सम्मति देता है, उसको दुःखों से कभी छुटकारा नहीं मिल सकता। यही संदेश अपरिग्रह का माध्यम से भगवान महावीर दुनिया को देना चाहते हैं।
 
4. महावीर स्वामी ब्रह्मचर्य के बारे में अपने बहुत ही अमूल्य उपदेश देते हैं कि ब्रह्मचर्य उत्तम तपस्या, नियम, ज्ञान, दर्शन, चारित्र, संयम और विनय की जड़ है। तपस्या में ब्रह्मचर्य श्रेष्ठ तपस्या है। जो पुरुष स्त्रियों से संबंध नहीं रखते, वे मोक्ष मार्ग की ओर बढ़ते हैं। क्षमा के बारे में 
 
5. भगवान महावीर कहते हैं- 'मैं सब जीवों से क्षमा चाहता हूँ। जगत के सभी जीवों के प्रति मेरा मैत्रीभाव है। मेरा किसी से वैर नहीं है। मैं सच्चे हृदय से धर्म में स्थिर हुआ हूँ। सब जीवों से मैं सारे अपराधों की क्षमा माँगता हूँ। सब जीवों ने मेरे प्रति जो अपराध किए हैं, उन्हें मैं क्षमा करता हूँ।' वे यह भी कहते हैं 'मैंने अपने मन में जिन-जिन पाप की वृत्तियों का संकल्प किया हो, वचन से जो-जो पाप वृत्तियाँ प्रकट की हों और शरीर से जो-जो पापवृत्तियाँ की हों, मेरी वे सभी पापवृत्तियाँ विफल हों। मेरे वे सारे पाप मिथ्या हों।'
 
6. धर्म सबसे उत्तम मंगल है। अहिंसा, संयम और तप ही धर्म है। महावीरजी कहते हैं जो धर्मात्मा है, जिसके मन में सदा धर्म रहता है, उसे देवता भी नमस्कार करते हैं।

विवेकानंद जी ने धर्म पर व्याख्यान देते हुए कुछ यूँ कहा -

भाईयो! मैं आप लोगों को एक स्तोत्र की कुछ पंक्तियाँ सुनाता हूँ जिसकी आवृति मैं बचपन से कर रहा हूँ और जिसकी आवृति प्रतिदिन लाखों मनुष्य किया करते हैं:

रुचीनां वैचित्र्यादृजुकुटिलनानापथजुषाम्। नृणामेको गम्यस्त्वमसि पयसामर्णव इव।।
 
(अर्थात जैसे विभिन्न नदियाँ भिन्न भिन्न स्रोतों से निकलकर समुद्र में मिल जाती हैं उसी प्रकार हे प्रभो! भिन्न-भिन्न 
रुचि के अनुसार विभिन्न टेढ़े-मेढ़े अथवा सीधे रास्ते से जानेवाले लोग अन्त में तुझमें ही आकर मिल जाते हैं।)
 
यह सभा, जो अभी तक आयोजित सर्वश्रेष्ठ पवित्र सम्मेलनों में से एक है, स्वतः ही गीता के इस अद्भुत उपदेश का प्रतिपादन एवं जगत के प्रति उसकी घोषणा करती है:

ये यथा मां प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्। मम वर्त्मानुवर्तन्ते मनुष्याः पार्थ सर्वशः।।

अर्थात जो कोई मेरी ओर आता है-चाहे किसी प्रकार से हो-मैं उसको प्राप्त होता हूँ। लोग भिन्न मार्ग द्वारा प्रयत्न करते हुए अन्त में मेरी ही ओर आते हैं।

साम्प्रदायिकता, हठधर्मिता और उनकी वीभत्स वंशधर धर्मान्धता इस सुन्दर पृथ्वी पर बहुत समय तक राज्य कर चुकी हैं। वे पृथ्वी को हिंसा से भरती रही हैं व उसको बारम्बार मानवता के रक्त से नहलाती रही हैं, सभ्यताओं को ध्वस्त करती हुई पूरे के पूरे देशों को निराशा के गर्त में डालती रही हैं। यदि ये वीभत्स दानवी शक्तियाँ न होतीं तो मानव समाज आज की अवस्था से कहीं अधिक उन्नत हो गया होता। पर अब उनका समय आ गया हैं और मैं आन्तरिक रूप से आशा करता हूँ कि आज सुबह इस सभा के सम्मान में जो घण्टा ध्वनि हुई है वह समस्त धर्मान्धता का, तलवार या लेखनी के द्वारा होनेवाले सभी उत्पीड़नों का तथा एक ही लक्ष्य की ओर अग्रसर होने वाले मानवों की पारस्पारिक कटुता का मृत्यु निनाद सिद्ध हो।

आदि शंकराचार्य जी ने भी वही किया और कहा -

शंकराचार्य एक महान समन्वयवादी थे। उन्हें हिन्दू धर्म को पुनः स्थापित एवं प्रतिष्ठित करने का श्रेय दिया जाता है। एक तरफ उन्होने अद्वैत चिन्तन को पुनर्जीवित करके सनातन हिन्दू धर्म के दार्शनिक आधार को सुदृढ़ किया, तो दूसरी तरफ उन्होंने जनसामान्य में प्रचलित मूर्तिपूजा का औचित्य सिद्ध करने का भी प्रयास किया।

सनातन हिन्दू धर्म को दृढ़ आधार प्रदान करने के लिये उन्होने विरोधी पन्थ के मत को भी आंशिक तौर पर अंगीकार किया। शंकर के मायावाद पर महायान बौद्ध चिन्तन का प्रभाव माना जाता है। इसी आधार पर उन्हें प्रछन्न बुद्ध कहा गया है।

शंकर के अद्वैत का दर्शन का सार-

ब्रह्म और जीव मूलतः और तत्वतः एक हैं। हमे जो भी अंतर नजर आता है उसका कारण अज्ञान है।
जीव की मुक्ति के लिये ज्ञान आवश्यक है। जीव की मुक्ति ब्रह्म में लीन हो जाने में  है।
 
***********

सामयिक व्यंग्य कविता : राजा नंगा है ॐ प्रकाश तिवारी

सामयिक व्यंग्य कविता : 
राजा नंगा है
ॐ प्रकाश तिवारी 
 
*
राजा जी को 
कौन बताए 
राजा नंगा है ।

आँखों पर मोटी सी पट्टी
मुँह में दही जमा
झूठी जयकारों में उसका
मन भी खूब रमा 

जिस नाले वह
डुबकी मारे 
वो ही गंगा है ।

रुचती हैं राजा के मन को
बस झूठी तारीफें
उसको कोसा करें बला से
आगे की तारीखें

उसके राजकाज में
सच कहना
बस पंगा है

पीढ़ी दर पीढ़ी उसने है
पाया या दर्जा 
ताका करती है उसका मुँह
पढ़ी-लिखी परजा

वह मुस्काए
मुल्क समझ लो
बिल्कुल चंगा है

- ओमप्रकाश तिवारी

--
Om Prakash Tiwari
Chief of Mumbai Bureau
Dainik Jagran
41, Mittal Chambers, Nariman Point,
 Mumbai- 400021

Tel : 022 30234900 /30234913/39413000
Fax : 022 30234901
M : 098696 49598
Visit my blogs :  http://gazalgoomprakash.blogspot.com/
http://navgeetofopt.blogspot.in/
http://kalyugidohe.blogspot.in/
--------------------------------------------------
Resi.- 07, Gypsy , Main Street ,
Hiranandani Gardens, Powai , Mumbai-76
Tel. : 022 25706646

मुक्तक: रूप की आरती संजीव 'सलिल'

मुक्तक


रूप की आरती
संजीव 'सलिल'
*
रूप की आरती उतारा कर.
हुस्न को इश्क से पुकारा कर.
चुम्बनी तिल लगा दे गालों पर-
तब 'सलिल' मौन हो निहारा कर..
*
रूप होता अरूप मानो भी..
झील में गगन देख जानो भी.
देख पाओगे झलक ईश्वर की-
मन में संकल्प 'सलिल' ठानो भी..
*
नैन ने रूप जब निहारा है,
सारी दुनिया को तब बिसारा है.
जग कहे वन्दना तुम्हारी थी-
मैंने परमात्म को गुहारा है..
*
झील में कमल खिल रहा कैसे.
रूप को रूप मिल रहा जैसे.
ब्रम्ह की अर्चना करे अक्षर-
प्रीत से मीत मिल रहा ऐसे..
*
दीप माटी से जो बनाता है,
स्वेद-कण भी 'सलिल' मिलाता है.
श्रेय श्रम को मिले  दिवाली का-
गौड़ धन जो दिया जलाता है.
*
भाव में डूब गया है अक्षर,
रूप है सामने भले नश्वर.
चाव से डूबकर समझ पाया-
रूप ही है अरूप अविनश्वर..
*
हुस्न को क्यों कहा कहो माया?
ब्रम्ह को क्या नहीं यही भाया?
इश्क है अर्चना न सच भूलो-
छिपा माशूक में वही पाया..
*