स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 30 जून 2016

samiksha

पुस्तक सलिला- 
'लोकल विद्वान' व्यंग्य का रोचक वितान 
आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'
*
[पुस्तक विवरण- लोकल विद्वान, व्यंग्य लेख संग्रह, अशोक भाटिया, प्रथम संस्करण, ISBN ९७८-९३-८५९४२-१०-५, २०.५ से. मी. x १४ से. मी., पृष्ठ ९६, मूल्य ८०/-, आवरण पेपरबैक, दोरंगी, बोधि प्रकाशन, ऍफ़ ७७, सेक़्टर ९, मार्ग ११, करतारपुरा औद्योगिक क्षेत्र, बाईस गोदाम, जयपुर ३०२००६, दूरभाष ०१४१ २५०३९८९, व्यंग्यकार संपर्क बसेरा, सेक़्टर १३, करनाल १३२००१ चलभाष ९४१६११५२१००, ahsokbhatiahes@gmail.com]
*
                                     हिंदी गद्य की लोकप्रिय विधाओं में व्यंग्य लेख प्रमुख है। व्यंग्यकार समसामयिक घटनाओं और समस्याओं की नब्ज़ पर हाथ रखकर उनके कारण और निदान की सीधी चर्चा न कर इंगितों, व्यंगोक्तियों और वक्रोक्तियों के माध्यम से गुदगुदाने, चिकोटी काटने या तीखे व्यंग्य के तिलमिलाते हुए पाठक को चिंतन हेतु प्रेरित करता है। वह उपचार न कर, उपचार हेतु चेतना उत्पन्न करता है

                                     हिंदी व्यंग्य लेखन को हाशिये से मुख्य धारा में लाने में हरिशंकर परसाई, शरद जोशी, रवींद्रनाथ त्यागी, श्री लाल शुक्ल आदि की परंपरा को समृद्ध करनेवाले वर्तमान व्यंग्यकारों में अशोक भाटिया उल्लेखनीय हैं। भाटिया जी हिंदी प्राध्यापक हैं इसलिए उनमें विधा के उद्भव, विकास तथा वर्तमान की चेतना और विकास के प्रति संवेदनशील दृष्टि है। स्पष्ट समझ उन्हें हास्य औेर व्यंग्य के मध्य बारीक सीमा रेखा का उल्लंघन नहीं करने देती। वे व्यंग्य और लघुकथा के क्षेत्र में चर्चित रहे हैं।
                                     विवेच्य कृति लोकल विद्वान में २१ व्यंग्य लेख तथा १४ व्यंग्यात्मक लघुकथाएँ हैं। कुत्ता न हो पाने का दुःख में लोभवृत्ति, लोकल विद्वान में बुद्धिजीवियों के पाखण्ड, महान बनने के नुस्खे में आत्म प्रचार, चलते-चलते में प्रदर्शन वृत्ति , कुत्ता चिंतन सार में स्वार्थपरता, नेता और अभिनेता में राजनैतिक विद्रूप , साड़ीवाद में महिलाओं की सौंदर्यप्रियता, मेले का ग्रहण में मेलों की आड़ में होते कदाचार, असंतोष धन में वर्तमान परिप्रेक्ष्य में पारम्परिक मुहावरों के नए अर्थ, तेरा क्या होगा? में आचरण के दोमुंहेपन, निठल्ले के बोल में राजनैतिक नेता के मिथ्या प्रलाप, फाल करने का सुख में अंग्रेजी शब्द के प्रति मोह, विलास राम शामिल के कारनामे में साहित्यकारों के प्रपंचों, रबड़श्री भारतीय खेल दल में क्रीड़ा क्षेत्र व्याप्त विसंगतियों, किस्म-किस्म की समीक्षा में विषय पर विश्लेषणपरक विवेचन, इम्तहान एक सभ्य फ्राड में शिक्षा जगत की कमियों, साहित्य के ओवरसियर में लेखका का आत्ममोह, ना काहू से दोस्ती ना काहू से बैर में धन-लोभ, पीड़ा हरण समारोह में साहित्य क्षेत्र में व्याप्त कुप्रवृत्तियों, नौ सौ चूहे बिल्ली और हज में राजनीति तथा नई प्रेम कथा में प्रेम के नाम पर हो रहे दुराचार पर अशोक जी ने कटाक्ष किये हैं।
                                     इन व्यंग्य लेखों में प्रायः आकारगत संतुलन, वैचारिक मौलिकता, शैलीगत सहजता, वर्णनात्मक रोचकता और विषयगत विवेचन है जो पाठक को बाँधे रखने के साथ सोचने के लिए प्रवृत्त करता है। अशोक जी विषयों का चयन सामान्य जन के परिवेश को देखकर करते हैं इसलिए पाठक की उनमें रूचि होना स्वाभाविक है। वे आम बोलचाल की भाषा के पक्षधर हैं, इसलिए अंग्रेजी-उर्दी के शब्दों का स्वाभाविकता के साथ प्रयोग करते हैं।
                                     लघु कथाओं में अशोक जी किसी न किसी मानवीय प्रवृत्ति के इर्द-गिर्द कथानक बुनते हुए गंभीर चुटकी लेते हैं। रोग और इलाज में नेताओं की बयानबाजी, क्या मथुरा क्या द्वारका में अफसर की बीबी की ठसक, सच्चा प्यार में नयी पीढ़ी में व्याप्त प्रेम-रोग, दोहरी समझ में वैचारिक प्रतिबद्धता के भाव, अच्छा घर में प्रच्छन्न दहेज़, वीटो में पति-पत्नी में अविश्वास, अंतहीन में बेसिर पैर की गुफ्तगू, साहब में अधिकारियों के काम न करने, दर्शन में स्वार्थ भाव से मंदिर जाने, एस एम एस में व्यक्तिगत संपर्क के स्थान पर संदेश भेजने, पहचान में आदमी को किसी न किसी आधार पर बाँटने तथा दान में स्वार्थपरता को केंद्र में रखकर अशोक जी ने पैने व्यंग्य किये हैं।
                                     सम सामायिक विषयों पर सहज, सुबोध, रोचक शैली में तीखे व्यंग्य पाठक को चिंतन दृष्टि देने समर्थ हैं। अशोक जी की १२ पुस्तकें पूर्व प्रकाशित हैं। उनकी सूक्ष्म अवलोकन वृत्ति उन्हें दैनन्दिन जीवन के प्रसंगों पर नए कोण से देखने, सोचने और लिखने सक्षम बनाती है। इस व्यंग्य संग्रह का स्वागत होगा। 
********
-समन्वय २०४ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन, ४८२००१, ९४२५१८३२४४ salil.sanjiv@gmail.com

बुधवार, 29 जून 2016

गीत

रचना-प्रतिरचना
राकेश खण्डेलवाल-संजीव
*
अचल रहे संकल्प, विकल्पों पर विचार का समय नहीं है
हुई व्यवस्था ही प्रधान, जो करे व्यवस्था अभय नहीं है

अभय दान जो मांगा करते उन हाथों में शक्ति नहीं है
पाना है अधिकार अगर तो कमर बांध कर लड़ना होगा
कौन व्यवस्था का अनुयायी? केवल हम हैं या फिर तुम हो
अपना हर संकल्प हमीं को अपने आप बदलना होगा
मूक समर्थन कृत्य हुआ है केवल चारण का भाटों का
विद्रोहों के ज्वालमुखी को फिर से हमें जगाना होगा
रहे लुटाते सिद्धांतों पर और मानयताओं पर् अपना
सहज समर्पण कर दे ऐसा पास हमारे ह्रदय नहीं है

अपराधी है कौन दशा का ? जितने वे हैं उतने हम है
हमने ही तो दुत्कारा है मधुमासों को कहकर नीरस
यदि लौट रही स्वर की लहरें कंगूरों से टकरा टकरा
हम क्यों हो मौन ताकते हैं उनको फिर खाली हाथ विवश
अपनी सीमितता नजरों की अटकी है चौथ चन्द्रमा में
रह गयी प्रतीक्षा करती ही द्वारे पर खड़ी हुई चौदस
दुर्गमता से पथ की डरकर जो ्रहे नीड़ में छुपा हुआ
र्ग गंध चूमें आ उसको, ऐसी कोई वज़ह नहीं है

द्रोण अगर ठुकरा भी दे तो एकलव्य तुम खुद बन जाओ
तरकस भरा हुआ है मत का, चलो तीर अपने संधानो
बिना तुम्हारी स्वीकृति के अस्तित्व नहीं सुर का असुरों का
रही कसौटी पास तुम्हारे , अन्तर तुम खुद ही पहचानो
पर्वत, नदिया, वन उपवन सब गति के सन्मुख झुक जाते हैं
कोई बाधा नहीं अगर तुम निश्चय अपने मन में ठानो
सत्ताधारी हों निशुम्भ से या कि शुम्भ से या रावण से
बतलाता इतिहास राज कोई भी रहता अजय नहीं है.
***
अचल रहे संकल्प, विकल्पों पर विचार का समय नहीं है
बिना विचारे कदम उठाना, क्या खुद लाना प्रलय नहीं है?
*
सुर-असुरों ने एक साथ मिल, नर-वानर को तंग किया है
इनकी ही खातिर मर-मिटकर नर ने जब-तब जंग किया है
महादेव सुर और असुर पर हुए सदय, नर रहा उपेक्षित
अमिय मिला नर को भूले सब, सुर-असुरों ने द्वन्द किया है
मतभेदों को मनभेदों में बदल, रहा कमजोर सदा नर
चंचल वृत्ति, न सदा टिक सका एक जगह पर किंचित वानर
ऋक्ष-उलूक-नाग भी हारे, येन-केन छल कर हरि जीते
नारी का सतीत्व हरने से कब चूके, पर बने पूज्यवर
महाकाल या काल सत्य पर रहा अधिकतर सदय नहीं है
अचल रहे संकल्प, विकल्पों पर विचार का समय नहीं है
*
अपराधी ही न्याय करे तो निरपराध को मरना होगा
ताकतवर के अपराधों का दण्ड निबल को भरना होगा
पूँजीपतियों के इंगित पर सत्ता नाच नाचती युग से
निरपराध सीता को वन जा वनजा बनकर छिपना होगा
घंटों खलनायक की जय-जय, युद्ध अंत में नायक जीते
लव-कुश कीर्ति राम की गायें, हाथ सिया के हरदम रीते
नर नरेंद्र हो तो भी माया-ममता बैरन हो जाती हैं
आप शाप बन अनुभव पाता-देता पल-पल कड़वे-तीते
बहा पसीना फसल उगाए जो वह भूखा ही जाता है मर
लोभतंत्र से लोकतंत्र की मृत्यु यही क्या प्रलय नहीं है
अचल रहे संकल्प, विकल्पों पर विचार का समय नहीं है
*
कितना भी विपरीत समय हो, जिजीविषा की ही होगी जय
जो बाकी रह जायें वे मिल, काम करें निष्काम बिना भय
भीष्म कर्ण कृप द्रोण शकुनि के दिन बीते अलविदा उन्हें कह
धृतराष्ट्री हर परंपरा को नष्ट करे नव दृष्टि-धनञ्जय
मंज़िल जय करना है यदि तो कदम-कदम मिल बढ़ना होगा
मतभेदों को दबा नींव में, महल ऐक्य का गढ़ना होगा
दल का दलदल रोक रहां पथ राष्ट्रीय सरकार बनाकर
विश्व शक्तियों के गढ़ पर भी वक़्त पड़े तो चढ़ना होगा
दल-सीमा से मुक्त प्रमुख हो, सकल देश-जनगण का वक्ता
प्रत्यारोपों-आरोपों के समाचार क्या अनय नहीं है?
अचल रहे संकल्प, विकल्पों पर विचार का समय नहीं है
*

मंगलवार, 28 जून 2016

smruti geet

स्मृति गीत
*
अपलक तुम्हें निहारूँ कैसे ?
*
नयन खुले तो लुक-छिप जाते
नयन मुँदे तो झलक दिखाते
ओ मेरे तुम! कहाँ खो गये?
रोक न पाये हम पछताते
जब तक सिर पर छाँव रही तव
तब तक हमने धूप न जानी
तुम बिन नाते हुए पराये
तुम बिन यह दुनिया बेगानी
बोलो तुम्हीं गुहारूँ कैसे
अपलक तुम्हें निहारूँ कैसे ?
*
सुधियों से मन भर आता है
तुम्हें याद कर तर जाता है
तुम नर्मदा-अमरकंटक से-
जननि-जनक पावन नाता है
बूँद मात्र हम, सलिल-धार तुम
जान सके अब, थे अपार तुम
शिला सदृश जग निर्मम-निष्ठुर
करो कृपा, सुन लो गुहार तुम
तनिक कहो अवतारूँ कैसे?
अपलक तुम्हें निहारूँ कैसे ?
*
कैंया मिली, मचलना सीखा
अँगुली थामी, चलना सीखा
गिर-रोये, आ तुरत उठाया
गिर-उठ,चलना-बढ़ना सीखा
तुमसे साँसें-सपने पाये
रिश्ते-नाते अपने पाये
हमसे कब-क्या खता हो गयी?
गये दूर, अब तलक न आये
श्वास-श्वास में बसे हुए हो
पल भर कहो बिसारूँ कैसे?
***
(संस्कारी जातीय, मुक्तक छन्द)

geet

गीत-
*
भूल नहीं पल भर को भी यह चेतन का संक्रान्तिकाल है
राकेशी ज्योत्सना न शीतल, लिये क्रांति की नव मशाल है 
*
कल तक रही विदेशी सत्ता, क्षति पहुँचाना लगा सार्थक
आज स्वदेशी चुने हुए से टकराने का दृश्य मार्मिक
कुरुक्षेत्र की सीख यही है, दु:शासन से लड़ना होगा
धृतराष्ट्री है न्याय व्यवस्था मिलकर इसे बदलना होगा
वादों के अम्बार लगे हैं, गांधारी है न्यायपीठ पर
दुर्योधन देते दलील, चुक गये भीष्म, पर चलना होगा
आप बढ़ा जी टकराने अब उसका तिलकित नहीं भाल है
भूल नहीं पल भर को भी यह चेतन का संक्रान्तिकाल है
*
हाथ हथौड़ा तिनका हाथी लालटेन साइकिल पथ भूले
कमल मध्य को कुचल, उच्च का हाथ थाम सपनों में झूले
निम्न कटोरा लिये हाथ में, अनुचित-उचित न देख पा रहा
मूल्य समर्थन में, फंदा बन कसा गले में कहर ढा रहा
दाल टमाटर प्याज रुलाये, खाकर हवा न जी सकता जन
पानी-पानी स्वाभिमान है, चारण सत्ता-गान गा रहा
छाते राहत-मेघ न बरसें, टैक्स-सूर्य का व्याल-जाल है
भूल नहीं पल भर को भी यह चेतन का संक्रान्तिकाल है
*
महाकाल जा कुंभ करायें, क्षिप्रा में नर्मदा बहायें
उमा बिना शिव-राज अधूरा, नंदी चैन किस तरह पायें
सिर्फ कुबेरों की चाँदी है, श्रम का कोई मोल नहीं है
टके-तीन अभियंता बिकते, कहे व्यवस्था झोल नहीं है
छले जा रहे अपनों से ही, सपनों- नपनों से दुःख पाया
शानदार हैं मकां, न रिश्ते जानदार कुछ तोल नहीं है
जल पलाश सम 'सलिल', बदल दे अब न सहन के योग्य हाल है
भूल नहीं पल भर को भी यह चेतन का संक्रान्तिकाल है
***

navgeet

नवगीत 
खिला मोगरा ​

*
खिला मोगरा 
जब-जब, तब-तब 
याद किसी की आई। 
महक उठा मन 
श्वास-श्वास में 
गूँज उठी शहनाई। 
 
*
हरी-भरी कोमल पंखुड़ियाँ 
आशा-डाल लचीली।
मादक चितवन कली-कली की
ज्यों घर आई नवेली। 
माँ के आँचल सी 
सुगंध
​ ने ​
दी ममता-परछाई।
खिला मोगरा 
जब-जब, तब-तब 
याद किसी की आई।
*
ननदी तितली ताने मारे 
छेड़ें भँवरे देवर। 
भौजी के अधरों पर सोहें 
मुस्कानों के जेवर। 
ससुर गगन ने 
विहँस बहू की 
की है मुँह दिखलाई। 
खिला मोगरा 
जब-जब, तब-तब  
याद किसी की आई। 
सजन पवन जब अंग लगा तो 
बिसरा मैका-अँगना। 
द्वैत मिटा, अद्वैत वर लिया 
खनके पायल-कँगना।  
घर-उपवन में 
स्वर्ग बसाकर 
कली न फूल समाई। 
खिला मोगरा 
जब-जब, मुझको 
याद किसी की आई।
***

रविवार, 26 जून 2016

समीक्षा

पुस्तक चर्चा-
स्तुत्य, सम्यक, सरस,सुगन्धित पुष्प वल्लरी है ‘काल है संक्रांति का’
राजेश कुमारी ‘राज‘
*
                                हमारे वेद शास्त्रों में कहा गया है “छन्दः पादौ वेदस्य” अर्थात छंद वेद के पाँव हैं | यदि गद्य की कसौटी व्याकरण है तो कविताओं की कसौटी छंद है| कवि के मन के भाव यदि छंदों का कलेवर पा जाएँ तो पाठक के लिए हृदय ग्राही और स्तुत्य हो जाते हैं | आज ऐसी ही स्तुत्य सुगन्धित सरस पुष्पों की वल्लरी “काल है संक्रांति का” गीत नवगीत संग्रह मेरे हाथों में है | जिसके रचयिता आचार्य संजीव सलिल जी हैं|

                                आचार्य सलिल जी हिंदी साहित्य के जाने माने ऐसे हस्ताक्षर हैं जो छंदों के पुरोधा हैं छंद विधान की गहराई से जानकारी रखते हैं| जो दत्त चित्त होकर रचनाशीलता में निमग्न नित नूतन बिम्ब विधान नवप्रयोग चिन्तन के नए धरातल खोजती हुई काव्य सलिला, गीतों की मन्दाकिनी बहाते हुए सृजनशील रहते हैं|  आपका सद्य प्रकाशित काव्य संकलन ‘काल है संक्रांति का इसी की बानगी है|

             
                कुछ दिनों पूर्व भोपाल के ओबीओ साहित्यिक आयोजन में सलिल जी से मिलने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था आपके कृतित्व से तो पहले ही परिचय हो चुका था जिससे मैं बहुत प्रभावित थी भोपाल में मिलने के बाद उनके हँसमुख सरल सहृदय व्यक्तित्व से भी परिचय हुआ | वहाँ मंच पर आपकी कृति काल है संक्रांति का” पर बोलने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।  "काल है संक्रांति का” ६५  गीत - नवगीतों का एक सुन्दर संग्रह है|  समग्रता में देखें तो ये  गीत - नवगीत एक बड़े कैनवस पर वैयक्तिक जीवन के आभ्यांतरिक और चयनित पक्षों को उभारते हैं, रचनाकार के आशय और अभिप्राय के बीच मुखर होकर शब्द अर्थ छवियों को विस्तार देते हैं जिनके मर्म पाठक को सोचने पर मजबूर कर देते हैं। 

                                सलिल जी ने वंदन, स्तवन, स्मरण से लेकर ‘दरक न पायें दीवारें’ तक यद्यपि पाठक को बाँध कर रखा है तथापि उनका कवि अपनी रचनाओं का श्रेय खुद नहीं लेना चाहता -- - "नहीं मैंने रचे हैं ये गीत अपने /क्या बताऊँ कब लिखाए और किसने?"

                                पुस्तक के शीर्षक को सार्थक करती प्रस्तुति ‘संक्रांति काल है" की निम्न पंक्तियाँ दिल छू जाती हैं -

                                "सूरज को ढाँपे बादल

                                सीमा पर सैनिक घायल"

                                पुस्तक में नौ - दस नवगीत सूरज की गरिमा को शाब्दिक करते हैं कवि सूरज को कहीं नायक की तरह, कहीं मित्रवत संबोधित करते हुए कहता है –

                                "आओ भी सूरज !

                                छट गए हैं फूट के बादल

                                पतंगे एकता की मिल उड़ाओ

                                गाओ भी सूरज"   (आओ भी सूरज से)  

                                कवि ने अपने कुछ नवगीतों में नव वर्ष का खुले हृदय से स्वागत किया है | “मत हिचक” में व्यंगात्मक लहजा अपनाते हुए कवि पूछता है – "नये साल मत हिचक,  बता दे क्या होगा ?" अर्थात आज की जो सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक परिस्थितियाँ हैं क्या उनमे कोई बदलाव या सुधार होगा? यह बहुत सारगर्भित प्रस्तुति है |

                                "सुन्दरिये मुंदरिये एक ऐसा गीत है जो बरबस ही आपके मुख पर मुस्कान ले आएगा |कवि ने पंजाब में लोहड़ी पर गाये आने वाले लोकगीत की तर्ज़ पर इसे लिखा है | पाठक को मुग्ध कर देंगी उनकी ये पंक्तियाँ –

                                "सुन्दरिये मुंदरिये होय!
                                सब मिल कविता करिए होय!
                                कौन किसी का प्यारा होय|
                                स्वार्थ सभी का न्यारा होय|"

                                समसामयिक विषयों पर भी कवि की कलम जागरूक रहती है – "ओबामा आते देस में करो पहुनाई"|  आना और जाना प्रकृति का नियम है और शाश्वत सत्य भी जिसे हृदय से सब स्वीकारते हैं वृक्ष पर फूल - पत्ते आयेंगे, पतझड़ में जायेंगे ही सब इस तथ्य को स्वीकार करते हुए मानसिक रूप से तैयार रहते हैं किन्तु जहाँ बेटी के घर छोड़कर जाने की बात आती है तो कवि की कलम भी द्रवित हो उठती है हृदय को छू गया ये नवगीत –
                                “अब जाने की बारी”-- --

                                देखे बिटिया सपने, घर आँगन छूट रहा
                                है कौन कहाँ अपने, ये संशय है भारी
                                सपनो की होली में, रंग अनूठे ही
                                साँसों की होली ने,कब यहाँ करी यारी
                                अब जाने की बारी"

                                ‘खासों में ख़ास’ रचना में कवि ने व्यंगात्मक शैली में पैसों के गुरूर पर जो आघात किया है देखते ही बनता है |

                                "वह खासो में ख़ास है
                                रुपया जिसके पास है
                                सब दुनिया में कर अँधियारा
                                वह खरीद लेता उजियारा"

                                ‘तुम बन्दूक चलाओ तो’ आतंकवाद जैसे सामयिक मुद्दे पर कवि की कलम तीक्ष्ण हो उठती है जिसके पीछे एक लेखक, एक कवि की हुंकार है वो ललकारता हुआ कहता है –

                                "तुम बन्दूक चलाओ तो
                                हम मिलकर कलम चलाएंगे
                                तुम जब आग लगाओगे
                                हम हँस के फूल खिलाएंगे"

                                एक मजदूर जो सुबह से शाम तक परिश्रम करता है अपना पसीना बहता तो दो वक़्त की रोटी का जुगाड़ कर पाता है| ‘मिली दिहाड़ी’ एक दिल छू लेने वाली रचना है जो पाठकों को झकझोर देती है |

                                "चूड़ी - बिंदी दिला न पाया
                                रूठ न मों से प्यारी
                                अगली बेर पहलऊँ लेऊँ
                                अब तो दे मुस्का री"     - मिली दिहाड़ी चल बाज़ार

                                अंधविश्वास, ढकोसलों,रूढ़िवादिता जैसे विषयों के विरोध और उन्मूलन हेतु रची गयी रचनाओं से भी समृद्ध है यह संग्रह | ‘अंधश्रद्धा’ एक ऐसा ही नवगीत है जिसमे मनुष्यों को कवि आगाह करता हुआ कहता है –

                                "आदमी को देवता मत मानिए

                                आँख पर अपनी न पट्टी बाँधिए"

                                कवि निकटता से कैंसर जैसे भयंकर रोग से रूबरू हुआ है तथा अपनी निजी जिंदगी में अपनी अर्धांगनी को उस शैतान के जबड़े से छुडा कर लाया है उसकी कलम उस शैतान को ललकारते हुए कहती है -- -

                                "कैंसर! मत प्रीत पालो
                                शारदा सुत पराजित होता नहीं है
                                यह जान लो तुम। 
                                पराजय निश्चित तुम्हारी
                                मान लो तुम।" 

                                "हाथों में मोबाईल" एक सम सामयिक रचना है जिसमें  पश्चिमी सभ्यता में रँगी नव पीढ़ी पर जबरदस्त तंज है|

                                ‘लोकतंत्र का पंछी’ आज की सियासत पर बेहतर व्यंगात्मक नवगीत है|

                                ‘जिम्मेदार नहीं है नेता’ प्रस्तुति में आज के स्वार्थी भ्रष्ट नेताओं को अच्छी नसीहत देते हुए कवि कहता है –

                                "सत्ता पाते ही रंग बदले
                                यकीं न करना किंचित पगले
                                काम पड़े पीठ कर देता
                                रंग बदलता है पल-पल में।"

                                ‘उड़ चल हंसा’ एक शानदार रचना है जिसमें हंस का बिम्ब प्रयोग करते हुए मानव में होंसला जगाते हुए कवि कहता है –

                                "उड़ चल हंसा! मत रुकना

                                यह देश पराया है। "

                                आज के सामाजिक परिवेश में पग पग पर उलझनों जीवन की समस्याओं से दो चार होता कवि मन आगे आने वाली पीढ़ी को प्रेरित करता हुआ कहता है –‘आज नया इतिहास लिखें हम’ बहुत अच्छे सन्देश को शब्दिक करता शानदार नवगीत है | इस तरह ‘उम्मीदों की फसल’ उगाती हुई आचार्य सलिल जी की ये कृति ‘दरक न पायें दीवारे’ इसका ख़याल और निश्चय करती हुई ‘अपनी मंजिल’ पर आकर पाठकों की साहित्यिक पठन पाठन की क्षुदा को संतुष्ट करती हैं| निःसंदेह यह पुस्तक पाठकों को पसंद आएगी मैं इसी शुभकामना के साथ आचार्य संजीव सलिल जी को हार्दिक बधाई देती हूँ | 

काल है संक्रांति का
गीत-नवगीत संग्रह 
समन्वय प्रकाशन अभियान, जबलपुर ४८२००१
 २४१११३१,  
समीक्षक –राजेश कुमारी ‘राज‘ देहरादून 
***

samiksha

पुस्तक सलिला-
'दिन बड़े कसाले के' जिजीविषा की जयकार करते नवगीत 
-आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' 
***
[पुस्तक विवरण- दिन बड़े कसाले के. नवगीत संग्रह, आनंद तिवारी, प्रथम संस्करण अगस्त २०११, आकार २२ से. मी. x १४ से. मी., आवरण सजिल्द, बहुरंगी जैकेट सहित, पृष्ठ १२०,  मूल्य १५०/-, उद्भावना प्रकाशन, एच ५५ सेक़्टर २३ राजनगर गाजियाबाद, गीतकार संपर्क समीप साईं मंदिर, छोटी खिरहनी, कटनी ४८३५०१, चलभाष ९४२५४६४७७९ ] 
***
                                      स्वतंत्रता की नवचेतना के साथ करवट बदलता, यथार्थ की नव धरती पर अंकुरित होता हुआ हिंदी गीतिकाव्य साहित्यिक मठाधीशों की खींचतान का माध्यम बनकर तथाकथित प्रगतिशील कविता के व्याल-जाल में दम तोड़ता, इसके पहले ही हिंदी गीत ने नूतन भाव भंगिमा के साथ प्राणवायु देते हुए 'नवगीत' के  नाम से कायाकल्प कर नवजीवन देने में सफलता प्राप्त की। साठ के दशक का नवगीत आरंभिक सीमाओं और मानकों में घुटन अनुभव करते हुए, सीमाओं के पुनर्निर्धारण की चाह करने लगा।  ऐसी स्थिति में जिन नयी कलमों ने नवगीत को नयी जमीन और नया आकाश देने की सम्भावना को मूर्त करने का प्रयास किया उनमें आनंद तिवारी भी हैं।  नर्मदा के अंचल में लीक को तोड़ने और जड़ता को तोड़ने की विरासत नयी नहीं है।  श्री अनूप अशेष के अनुसार- "आनंद तिवारी का नवगीत संग्रह 'दिन बड़े कसाले के' अपने पुराने कपड़े उतार कर नए कपड़ों की माप दे रहा है। गाँव-गिराँव की दबी, दबाई जीवन नियति की आह है इसमें। सुख-दुःख की यथार्थता और संवेदना परत-दर-परत खुलती गयी है संग्रह की नवगीत कविताओं में।  अदृश्य मुक्ति के आवेग में कहीं-कहीं कवि गीत का लेप भी  लगाता गया है।"

                                      कविता और गीत का सम्मिश्रण यथार्थ और कल्पना के नीर-क्षीर मिलन की तरह होता है जिसमें सत्य और सोच दोनों का समान महत्व होता है। लय सोने में सुगंध की तरह कथ्य को सर्वग्राह्य बनती है।  आनंद जी यह तथ्य भली-भाँति जानते हैं।  इस संग्रह के नवगीत कथ्य, भाषा, शिल्प  की परंपरा को आगे बढ़ाते हैं।  वरिष्ठ नवगीतकार श्री राम सेंगर ने ठीक ही आकलन किया है कि इन "गीतों में शब्द अपने व्यापक अर्थ में भावों को समेटे हुए चलता है।  यह बात अलग है कि कहीं-कहीं यह  उनका यह शब्द-संयोजन कथ्य और भाव से एकात्म होकर, आंतरिकता और एकाग्रता के साथ साधा हुआ प्रतीत नहीं होता, जिससे छन्दानुशासन तो भंग हुआ ही है, साथ ही साथ, लयात्मकता भी प्रभावित हुई है। "

                                      'बुचकी-बुचकी लगे कमरिया' तथा 'दुर्दिन खड़े ओसारे' शीर्षक दो खण्डों में क्रमश: ४५ तथा ३३ नवगीतों का यह गुलदस्ता बुंदेली जन-जीवन की जीवंत झलकियों से समृद्ध है। बुंदेली जन-मन को साहित्यिक फलक पर प्रतिष्ठित होते देखना सुखद है किन्तु बुंदेली भाषा-संस्कृति से अपरिचित पाठक की कठिनाई ठेठ बुंदेली शब्द हिंदी के मानक शब्दकोष में न होने के कारण उनका अर्थ और रस ग्रहण न कर पाना होगा।  इसलिए रचनाओं के साथ पाद टिप्पणी के रूप में देशज शब्दों के अर्थ और पारंपरिक रीतियों के संकेत हों तो इस नवगीतों और गीतकार को व्यापक स्वीकृति मिलेगी। आनंद जी हिंदी साहित्य, दर्शन शास्त्र तथा समाज शास्त्र विषयों में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त हैं। इसलिए  देशज,  नगरीय, संस्कृतनिष्ठ, उर्दू तथा अंग्रेजी शब्दों का विशाल भण्डार उनकी भावाभिव्यक्ति को पैनापन देने में सहायक होता है। वे अद्भुत अभिव्यक्ति सामर्थ्य के धनी हैं।  खेत में लहलहाती फसलों  सौंदर्य देखकर कवि-मन झूम उठता है -
                                      'गेहूँ के सिर / फबती मौरी।
                                      मौसम करता / नाटक नौरी।
                                      अलसी कटी / पड़ी / निगडौरे।
                                      कलसी / डिगलन-डिगलन / दौरे।
                                      खड़ी / फसल को / चरती धौरी।
                                      अरहर,  चना / झाँझ / अस बाजें।
                                      सेमल-टेसू /  धरती साजें।
                                      विहट गई / रतिया की / गौरी।

                                      नवगीत को केवल विसंगति और विडम्बना तक सीमित देखने के पक्षधर भले ही न सराह सकें किंतु जनगण इन पंक्तियों पर झूम जाएगा।  प्राकृतिक विपदा की मार भारतीय किसान हमेशा सहता है। इस नवगीत में त्रासद विपदा की पीड़ा शब्द-शब्द में मुखरित है-
                                      पाला पड़ा / झुरानी अरहर / मौसम मूठ हुआ।
                                      सहते-सहते / मार ठंड की / बरगद ठूँठ हुआ।
                                      ले डूबा / कोहरा फसलों को / चना-मसूर बिलाये।
                                      अलसी को / लग गया पीलिया / गेहूँ आस बँधाये।
                                      पानी, फिर कर / किये-धरे पर / विष का घूँट हुआ।
                                  यहाँ 'पानि फिरना' तथा 'किया-धरा' मुहावरों का मनोरम प्रयोग दृष्टव्य है। बरगद सबसे अधिक मजबूत पेड़ है, वह ठूँठ हो जाए तो पाले के विभीषिका का अनुमान किया जा सकता है। ऐसी स्थिति में कोमल पौधे समाप्त हो जायेंगे।  यहाँ 'बिलाना' कम लिखे से अधिक समझना की तरह प्रयुक्त है।

                                      समाज में व्याप्त आर्थिक विषमता समाजशास्त्र के अध्येता आनंद को खलती ही नहीं चुभती भी है -
                                      ठंडी रातें / बर्फ हो रहीं / सिकुड़ा हुआ शहर है।
                                      लौहपूत / रिक्शेवाला वह / फुलगुंटी से ढाँके तन को।
                                      पैर उपनहे / फ़टी बिमाई / बैरागी सा साधे तन को।
                                      सुविधाओं की / गठरी बाँधे / रिक्शे पर अफसर है।
                                      शीत-लहर के कोड़े खाकर, / रिक्शे को साँसों से खींचे।
                                      'तेज चलो, / देरी होती है', / 'जी हाँ' कह, करता सिर नीचे।
                                      यहाँ पंक्तियाँ शब्द चित्र बन जाती हैं।  कवि की सामर्थ्य पूरे दृश्य को शब्दित कर देती है।  पाठक या श्रोता की आँखों में पूरा दृश्य ज़ीवंत हो उठता है।

                                      आनंद तमाम विडंबनाओं के बाद भी जीवन को निरानन्दित नहीं होने देते।  अपने नाम के अनुरूप वे दुःख में भी सुख, निराशा में भी आशा खोज ही लेते हैं-
                                      बीजों को / नवजीवन देने / आये बादल
                                      रस भरने को / मन में जैसे / बजते मादल
                                      कोयल / मूक हुई / धरती लेती अँगड़ाई
                                      नई उमंगें / लेकर / वर्षा रानी आई 
                                      तैर रहीं / खुशियाँ जीवन में
                                      चमका आँखों का काजल
                                      सपनों सा / लघु जीवन लेकर / उड़ें पतंगें 
                                      नहा रही चिड़िया / प्रफुल्ल / कहती हर गंगे
                                      शीतलता / आई घर-बाहर
                                      छूटे हाथों से छागल 

                                      जीवन के दोनों रंग आनंद के नवगीतों में धूप-छाँव के से रंग बिखेरते हैं-
                                      बुचकी-बुचकी लगे कमरिया / तुचके-तुचके गाल 
                                      निहुरी -निहुरी औचक भौचक / रमकी ठुमकी चाल 
                                      कटी उमरिया भाग दौड़ में / मिले न कमीना
                                      संघर्षों के चक्रव्यूह से / दुर्निवार जीवन
                                      क़र्ज़ कसाई नाचे-गाये / छाती चढ़ प्रतिक्षण
                                      बेघर भर धरती ने / जीवन का सब रस छीना

                                      आनंद छन्द की लय पर शब्द की अर्थवत्ता को वरीयता देते हैं। देशज बुंदेली शब्द, हिंदी के तत्सम-तद्भव तथा उर्दू भाइयों के साथ धमा-चौकड़ी मचाते हुए शब्द-चित्र उपस्थित कर देते हैं। ग्रामीण जीवन की गतिमयता में घुला ठहराव, आगे बढ़ने की आकांक्षा के साथ विरासत से जुड़े रहने का मोह आज ही कल को कल से जोड़ने की चाह इन नवगीतों को आम आदमी की रोजमर्रा की ज़िन्दगी की कशमकश की बानगी देकर मन्त्र मुग्ध कर देती है-
                                      इच्छाएँ / सारी अनब्याही
                                      थका - थका लगता है राही
                                      घुप्प अँधेरा फैला / पथरीले पथ में
                                      कील बिना, धुरी लगी / जीवन के रथ में
                                      एक ठौर रोटी है / एक ठौर ममता है
                                      दोनों की मुस्किल है पाही 

                           ग्रामीण जन मानस की जिजीविषा अभावों की घूटी पीकर भी हर्ष-हुलास की पतंग उड़ाना नहीं भूलती। जहाँ महानगरों में सम्पन्नता हो या विपन्नता सगे नेह-नाते भी दम तोड़ते नज़र आते हैं वहीं गाँवों में मुँहबोले रिश्ते भी पूरे अपनत्व के साथ निबाहे जाते हैं।
                                      भाभी की रसभीनी / नेह भरी बातें
                                      महानदी के तट पर / सिहराती रातें
                                      ...
                                      बाबा का शंख और / पूजा का देवासन
                                      बचपन से चाचा का / गाँठ भरा अनुशासन
                                      ...
                                      छोटी बहना का वह / चेहरा सुकुमार

                                      मौसम मूठ हुआ, दिन बड़े कसाले के, धार नदिया की लगे सुतली, वह अनाम सा परस तुम्हारा, सहज हो लें, चुग्गा भूल रही, संग-साथ की जुगत फगुआरे दिन, बाँध डिठौने, मेकल सुता सी, विंध्य पर अठखेलियाँ करते, पुरइन के पात, डोल रही पुरवाई,  भूंजी भाँगग नहीं, दुर्दिन खड़े ओसारे आदि नवगीत पाठक के मन पर छाप छोड़ते हैं। समय का बदलाव 'मोबाइल पीढ़ी' शीर्षक नवगीत में उभरता है-
                                      शिखरों के / सपने हैं / कटी हुई सीढ़ी
                                      कम्प्यूटर की दुनिया / मोबाइल पीढ़ी
                                      घाल-मेल / बनियों का /  पॅकेज हैं बड़े-बड़े
                                      बाहर से / सजे-धजे / भीतर से सड़े-सड़े  
                                      कोलती / युवाओं को / शोषण की कीड़ी

                                      आनंद के इन नवगीतों में माटी की पीड़ा है तो लोक-जीवन का माधुर्य भी है।  छन्दों को साधने का प्रयास कहीं सयास-कहीं अनायास होना स्वाभाविक है।  नए छन्दों की तलाश का संकेत आश्वस्त करता है कि नर्मदांचल का यह युवा कवि इस सत्य से अवगत है कि 'सितारों के आगे जहां और भी है' । आनंद को आगामी संकलनों में आंचलिक नवगीतकार के ठप्पे से बचना होगा।  इन नवगीतों में बुंदेली नवगीत एक भी नहीं है। ये बुंदेली शब्द समेटे हिंदी नवगीत हैं।  नगरीय या हिंदीतर पाठक इन शब्दों को समझने में  कठिनाई अनुभव कर कवि से दूरी बना ले।  कथ्य के स्तर पर यह संकलन संपन्न है।  अधिकांश सामयिक समस्याओं, घटनाओं और बदलावों पर नवगीतकार की दृष्टि गयी है। धार्मिक पाखण्ड, सांप्रदायिक तनाव, निर्धनता, बेरोजगारी, शोषण, धार्मिक आडम्बर, राजनैतिक भ्रष्टाचार के साथ आशावादिता, संघर्ष की ललक, पारस्परिक स्नेह-सद्भाव, श्रृंगार, सद्भाव आदि के सनातन तत्व भी इन नवगीतों में हैं जो इन्हें सामायिक संघर्ष काल में उपयोगी बनाते हैं। आनंद के आगामी संकलन की प्रतीक्षा की जाना स्वाभाविक है।
***  
-समन्वय, २०४ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन जबलपुर ४८२००१, ९४२५१ ८३२४४, salil.sanjiv@gmail.com