स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 10 अप्रैल 2017

geet

एक रचना 
*
अब ओलंपिक में हो 
चप्पलबाजी भी 
*
तरस गए हम स्वर्ण पदक को
एक नहीं मिल पाया
किससे-कितना रोना रोयें
कोई काम न आया
हम सा निपुण न कोई जग में
आत्म प्रशंसा करने में
काम बंद कर, संसद ठप कर
अपनी जेबें भरने में
तीनों पदक हमीं पाएंगे
यदि हो धुप्पलबाजी भी
अब ओलंपिक में हो
चप्पलबाजी भी
*
दारू के ठेके दे-देकर
मद्य-निषेध कर रहे हम
दूरदर्शनी बहस निरर्थक
मन में ज़हर भर रहे हम
रीति-नीति-सच हमें न भाता
मनमानी के हामी हैं
पर उपदेश कुशल बहुतेरे
भ्रष्टाचारी नामी हैं

हों ब्रम्हांडजयी केवल हम 
यदि हो जुमलेबाजी भी  
अब ओलंपिक में हो 
चप्पलबाजी भी 
*
बीबी-बहू-बेटियाँ, बेटे
अपने मंत्री-अफसर हों 
कोई हो सरकार, मरें जन  
अपने उज्जवल अवसर हों 
आम आदमी दबा करों से
धनिकों के ऋण माफ़ करें 
करें देर-अंधेर, नहीं पर 
न्यायालय इन्साफ करें
लोकतंत्र का दम निकले 
ऐसी कुछ हो घपलेबाजी भी 
अब ओलंपिक में हो 
चप्पलबाजी भी 
*

कोई टिप्पणी नहीं: