स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 11 अप्रैल 2017

yamakeeya dohe

यमकीय दोहे
*
​संगसार वे कर रहे, होकर निष्ठुर क्रूर
संग सार हम गह रहे, बरस रहा है नूर
*
काया भीतर वह बसा, बाहर पूजें आप?
चित्रगुप्त का चित्र है गुप्त, दिखाना पाप.
*
​हर अपात्र भी पात्र हो, सच देखें ज्यों सूर
संगति में घनश्याम की, हो कायर भी शूर ​
*
तुनक ठुनक कर यमक ने, जब दिखलाया रंग
अमन बिखेरे चमन में, यमन न हो बेरंग
*
बेल न बेलन जब बनें, हाथों का हथियार
झाड न झाड़ू तब चले, तज निज शस्त्रागार
*
क्यों हरकत नापाक तज, पाक न होता पाक
उलझ, मात खा कटाता, बार-बार निज नाक
*
जो भूलें मर्याद वे, कभी न आते याद
जो मर्यादित हो जियें, वे आते मर-याद
*

कोई टिप्पणी नहीं: