स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 5 अप्रैल 2016

नवगीत

एक रचना- 
अपने सपने कहाँ खो गये?
*
तुमने देखे, 
मैंने देखे, 
हमने देखे। 
                मिल प्रयास कर 
                कभी रुदन कर  
                कभी हास कर।
जाने-अनजाने, मन ही मन, चुप रह लेखे।
परती धरती में भी 
आशा बीज बो गये। 
*
तुमने खोया, 
मैंने खोया , 
हमने खोया।
                कभी मिलन का, 
                कभी विरह का,
                कभी सुलह का।
धूप-छाँव में,  नगर-गाँव में पाया मौक़ा।
अंकुर-पल्लव ऊगे  
बढ़कर वृक्ष हो गये। 
*
तुमने पाया, 
मैंने पाया,
हमने पाया।         
                एक दूजे में,
                एक दूजे कोको,
                 गले लगाया।    
हर बाधा-संकट को, जीता साथ-साथ रह।
पुष्पित-फलित हुए तो    
हम ही विवश हो गये।
***                
 
facebook: sahiyta salila / sanjiv verma 'salil' 

कोई टिप्पणी नहीं: